बारिश का कहर : पुनपुन में पानी बढ़ने से बढ़ा बाढ़ का खतरा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
पुनपुन नदी रेल पटरी को छूने से थोड़ा नीचे, दहशत में हैं लोग
मसौढ़ी : पुनपुन नदी का जल स्तर में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है. पुनपुन के श्रीपालपुर स्थित केंद्रीय जल आयोग की मानें तो पुनपुन में अब तक 1976 में नदी का सर्वाधिक जल स्तर 53.91 मीटर से मात्र एक मीटर यानी 52.91 सोमवार की शाम दर्ज की गयी है. इधर पुनपुन नदी के जल स्तर में हो रही वृद्धि से नदी पर स्थित रेलवे पुल पर लगी रेल पटरी को छूने से कुछ नीचे है. स्थिति पर नजर रखी जा रही है.
इस बीच पुनपुन प्रखंड के लखनपार व लखना पूर्वी पश्चिमी पंचायत का फहीमचक, सवलपुर, हरेचक, जोगापुर, धौडदौड, मोहनपुर, तेतरी, महीपतपुर, समेत अन्य कुछ गांव के बधार में पानी घुस गया है. इस बाबत प्रशिक्षु सीओ सह बीडीओ अर्शी शाहीन ने बताया कि पुनपुन नदी से फिलहाल कोई खतरा नहीं है.
प्रखंड की दो पंचायतों का कुछ गांव जो प्रभावित हुआ है वह दरधा नदी के पानी से हुआ है. इधर, धनरूआ प्रखंड के दर्जन भर से अधिक जगहों पर बीते रविवार को दरधा नदी व कररूआ नदियों के तटबंध टूट गये हैं.
दर्जनों गांवों में पानी घुस गया है. बीते रविवार की रात दरधा नदी के जल स्तर में वृद्धि होने से बारीबीगहा पंचायत के बारीबीगहा, टेहरीबीगहा व बढनपुरा, डेवां पंचायत के दौलतपुर,सांडा पंचायत के गुलरियाबिगहा गांव व ईंट भट्ठा, मठियापर, सतपरसा पंचायत के तेल्हाडी व धनरूआ पंचायत के फतेहपुर के पास का दरधा नदी का तटबंध टूट गया है.इधर, कररूआ नदी के जल स्तर में बढ़ोतरी होने से रेडबिगहा मंदिर के पास व छोटकी धमौल के पास तटबंध टूटने से लछूबिगहा, रेडबिगहा, डुमरा, रसलपुर, चौधरी खंधा और उदरैनपुर गांव में पानी घुस आया.
केंद्रीय जल आयोग और जिला प्रशासन स्थिति पर रख रहा है नजर
दनियावां की खरभैया पंचायत का कुंडली जमींदारी बांध टूटा
दनियावां : प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न भागों में बहने वाली नदियों में रविवार की सुबह आये बाढ़ के पानी से पूरे क्षेत्र में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है.
दनियावां प्रखंड में बहने वाली महात्माइन नदी, करडूया नदी, भुतही नदी और धोबा नदी में आये उफान से दनियावां की खरभैया पंचायत के कुंडली के पास जमींदारी बांध में बने पुराने मुहाने पुल के पास खांड होने से कुंडली व कंचनपुर के 250 बिगहा धान की फसल डूबने की आशंका है. बरगांया पइन से महात्माइन से तेज पानी के आने से जमींदारी पइन में खांड हो गया. देर शाम तक कुंडली के सैकड़ों किसान दनियावां के सीओ सह डिप्टी कलेक्टर राकेश कुमार की उपस्थिति में जमींदारी बांध को बांधने के प्रयास में जुटे थे.
महत्माइन नदी के पानी के तेज दबाव से रविवार को दनियावां जमींदारी बांध में भी कटाव शुरू हो गया जिससे रातजगा कर स्थानीय प्रशासन व सीओ के सहयोग से बांध दिया गया है. ग्रामीणों के अनुसार प्रखंड के बांकीपुर मछरियावां गांव से नयका रोड जाने वाली जमींदारी बांध धोबा नदी के तेज दबाव से टूट गया है, जिसे ग्रामीण बांधने में जुटे हैं.
इसी पंचायत के मकसूदपुर गांव में पानी घुस गया है. प्राथमिक विद्यालय चारों ओर से पानी से घिर चुका है. कुल मिलाकर दनियावां प्रखंड में बाढ़ की स्थिति बनती नजर आ रही है. इससे निबटने के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा वरीय अधिकारियों को सूचना दे दी गयी है.
मनेर में सोन व गंगा नदी उफान पर दियारे के कई गांवों का संपर्क टूटा
मनेर : दो दिनों से मनेर में सोन और गंगा नदी का जल स्‍तर उफान पर है. सोन व गंगा नदी के जल स्तर में अचानक हुई वृद्धि के कारण मनेर के दियारा स्थित गांवों में जाने वाले कई निचले इलाके की सड़कें बाढ़ के पानी डूब गयी हैं. हल्‍दीछपरा संगम व श्मशान घाट जाने के रास्‍ते भी बंद हो गये हैं.
गंगा के किनारे नवनिर्माण हो रहे सूर्य मंदिर का ज्यादातर हिस्‍सा जलमग्‍न हो गया है. वहीं रत्न टोला, इस्‍लामगंज, छिहतर, महावीर टोला, मुंजी टोला, हाथी टोला, दुधेला, धजवा टोला और पश्चिमी दियारे के हुलासी टोला, रामपुर और भवानी टोला आदि गांव जाने वाले रास्‍ते बाढ़ के पानी से पूरी तरह से जलमग्न हो गये हैं. दियारे के लोगों को बाढ़ के पानी में घुस कर आना जाना पड़ रहा है. जबकि कई गांवों का संपर्क मनेर शहर से टूट चुका है.
इधर, सैकड़ों हेक्‍टेयर में लगी सब्जियों की फसल भी डूब गयी हैं. सोन और गंगा में जल स्तर के बढ़ने से सोन सोता के निचले इलाकों में पानी भरने लगा है. इसके अलावा नगर के निचले इलाके में बारिश से जलमग्न की हालत बनी हुई है. इधर केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार सोन और गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, लेकिन स्थानीय प्रशासन की ओर से दियारे में नाव की व्यवस्था नहीं की गयी है.
घरों में जमा बारिश का पानी सड़क और नाला लबालब
पटना सिटी : निरंतर हो रहे बारिश की वजह से सड़क व नाला लबालब होकर एक समान हो गया है.स्थिति यह है कि निचले मुहल्लों में सड़कों का पानी घरों में आ गया. नतीजतन नीचे से लोग ऊपर के मकानों में शिफ्ट होने लगे हैं.
वार्ड 47 के बहादुरपुर 13 बी, बहादुरपुर मुसहरी, श्याम मंदिर रोड, कस्तूरबा नगर, बाजार समिति का परिसर व हिस्सा, बाजार समिति पंचवटी नगर, रामकृष्ण कॉलोनी, वाचस्पति नगर, संदलपुर गांव, शिव शक्ति नगर, शनिचरा,अजीमाबाद कॉलोनी और उसके आसपास के मुहल्लों की है.कुछ इस तरह की स्थिति अगमकुआं थाना के ट्रांसपोर्ट नगर, शिक्षक कॉलोनी और उसके आसपास की बनी हुई है.
यहां भी निचले इलाके में बारिश का पानी घरों में प्रवेश कर गया है. जलजमाव की स्थिति सैदपुर नहर से लेकर गायघाट आने वाले मार्ग में जलजमाव की वजह से सड़क व नहर का फर्क मिट गया है. दूसरी ओर, श्री गुरु गोबिंद सिंह अस्पताल जाने वाले मार्ग में भी पानी जमा है. स्थिति यह है कि नर्सिंग स्कूल के पास स्थित एक बरगद का पेड़ भी टूट कर गिर गया.
वार्ड पार्षद शोभा देवी व पूर्व पार्षद बलराम चौधरी ने बताया कि पेड़ की टहनी 11 हजार के बिजली तार पर गिरने से बिजली बाधित हुई.गुलजारबाग दादर मंडी रोड, हाट, मीना बाजार, महाराजगंज, मारुफगंज, मंगल अखाड़ा, मालसलामी, महादेव स्थान के पास प्रिंस सिटी के समीप बेगमपुर, बेगमपुर में रघुनाथ हाइस्कूल परिसर, बेना शाह की बाग, वार्ड नखास पिंड, आदर्श कॉलोनी, मंगल अखाड़ा समेत एक दर्जन से अधिक मुहल्लों की है.
वहीं, सोमवार को नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कुछ जगहों से पानी निकालने के बावजूद मरीजों के इलाज में परेशानी हुई. अस्पताल के इमरजेंसी के बाहर, गाइनी विभाग, मेडिसिन विभाग , अधीक्षक व उपाधीक्षक कार्यालय, नर्सों के आवास व छात्रावास की ओर पानी जमा है. इस कारण से मरीजों को उपचार कराने में परेशानी हो रही है. अस्पताल में भर्ती मरीजों का आॅपरेशन हो, इसके लिए अस्पताल प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है.
सर्जरी ओटी की सफाई करायी जा रही है.जल जमाव को लेकर सोमवार को इएनटी व आॅर्थो विभाग में भर्ती मरीजों का ऑपरेशन नहीं हो सका. निश्चतेना विभाग के अध्यक्ष डॉ अशोक कुमार ने कहा कि ऑपरेशन नहीं हो सका है.अस्पताल में आॅपरेशन आरंभ होने में दो से तीन दिनों का समय लग सकता है.
दूसरी ओर, अस्पताल के अधीक्षक डॉ चंद्रशेखर ने बताया कि केंद्रीय पंजीयन पर सोमवार को पंजीयन कराने व ओपीडी में मरीजों के उपचार का कार्य कराया गया है. उपचार कराने के लिए अस्पताल में लगभग 250 मरीज पहुंचे थे. इसमें 200 नये व 50 पुराने मरीज थे. अस्पताल से पानी निकालने का काम चल रहा है.
अतिरिक्त मोटर लगा कर पानी की निकासी करायी जा रही है. मरीजों के फूड पैकेट, दूध, अंडा व ब्रेड का वितरण किया जा रहा है. अस्पताल के ऑडिटोरियम में ही मरीजों को भर्ती कर उपचार किया जा रहा है. अधीक्षक ने बताया कि नर्स, डॉक्टर व पारा मेडिकल स्टाफ के साथ दवाओं की उपलब्धता है.इससे मरीजों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो रही है.
- मंत्री ने लिया पुनपुन सुरक्षा बांध का जायजा
फुलवारीशरीफ : पुनपुन नदी का जल स्तर लगातार बारिश के चलते बढ़ता जा रहा है. उद्योग मंत्री सह स्थानीय विधायक श्याम रजक सोमवार को पुनपुन सुरक्षा बांध के तटबंध का जायजा लिया. मंत्री ने कहा कि किसी भी तरह की आपदा की स्थिति की निगरानी के लिए सरकार तत्पर व सजग है.
क्षतिग्रस्त तटबंध को सुरक्षित किया जा रहा . सोमवार को चिहुंट के पास बोरा डालकर बांध की मरम्मत की गयी. सीओ कुमार कुंदन लाल व बीडीओ जफरुद्दीन जिला प्रशासन की टीम के साथ पुनपुन में सुरक्षा बांध पर कैंप किये हुए हैं.
परसा और जानीपुर थाना अध्यक्ष को अपने अपने इलाके में सुरक्षा बांध की निगरानी के लिए पुलिस पेट्रोलिंग करने का निर्देश दिया गया है. सुरक्षा बांध पर कैंप में पहुंचे टड़वा के ग्रामीणों ने टड़वा गांव के जर्जर सामुदायिक भवन की मरम्मत की आवाज उठायी.
- दानापुर में गंगा के जल स्तर में फिर से वृद्धि
दानापुर : फिर एक बार गंगा नदी के जल स्तर धीरे-धीरे वृद्धि होने लगी है. बाढ़ नियंत्रण केंद्र के अनुसार दानापुर में गंगा खतरे के निशान से मात्र 15 सेंटीमीटर नीचे बह रही है.सोमवार को शाम में देवनानाला पर गंगा का जल स्तर 167.60 फुट दर्ज किया गया है. गंगा का पानी से दियारे के निचले व तटवर्तीय इलाके जलमग्न हो गये हैं . दर्जनों घरों में गंगा का पानी घुस चुका है. सैकड़ों बीघे में लगी किसानों का फसल डूब गयी है. इंद्रपुरी में सोन नदी के जल स्तर में वृद्धि हो रही है.
- नंदकिशोर ने किया संप हाउस का निरीक्षण
पटना सिटी : पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा कि बारिश की इस आपदा में राहत व बचाव कार्य के लिए सरकार मुस्तैदी से जुटी है. भाजपा कार्यकर्ता भी इस विपदा में आगे बढ़ कर सेवा कार्य में जुटे हैं.
सोमवार को पथ निर्माण मंत्री पटना साहिब विधानसभा के वार्ड संख्या 54, 56, 57,60,, 62 व 63 में जलजमाव की स्थिति देखने निकले थे. इससे पहले मंत्री एसडीओ राजेश रौशन, पटना नगर निगम सिटी व अजीमाबाद अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी सुशील कुमार मिश्र व शिशिर कुमार के साथ पहाड़ी स्थित संप हाउस का निरीक्षण किया.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें