एकजुट हो समाज : निखिल कुमार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मधुबनी : वीर कुंवर सिंह विकास मंच के तत्वावधान में नगर भवन में बुधवार को कुंवर सिंह विजयोत्सव का आयोजन किया गया. अध्यक्षता एलएनएमयू के कुलपति डॉ समरेंद्र प्रताप सिंह ने किया. समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए केरल के राज्यपाल निखिल कुमार ने कहा कि समाज को विकास के राह पर आगे बढ़ाने के लिए एक जूटता आवश्यक है.

जब तक लोग एक जुट नहीं होंगे समाज में वैमनश्यता एवं कुरीति व्यापक रहेगी. उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि क्षत्रिय, राजपूत शौर्य एवं पराक्रम में सबसे आगे रहे है. पृथ्वीराज चौहान, राणा सांगा, महाराणा प्रताप वीर कुंवर सिंह इसके उदाहरण है. लेकिन इसी समाज के लोगों ने इन वीर योद्धा के साथ विश्वासघात किया.

जिस कारण ये पराजित हुए तथा शहीद हुए यदि इन्हें इनके अपनों ने ही नहीं छला होता तो आज देश का अलग इतिहास होता. उन्होंने लोगों से एक साथ आगे बढ़समाज के विकास में अपनी भूमिका का निर्वहन करने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि यह समाज देश भक्ति एवं समाज हित के लिए जाना जाता है. जब देश का इतिहास लिखा जायेगा तो इस समाज के शौर्य एवं आहुतियों का वर्णन किया जायेगा.

* बनेगा इतिहास : समरेंद्र
वहीं समारोह की अध्यक्षता कर रहे कुलपति डॉ समरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि नगर भवन में आयोजित यह समारोह मिथिलांचल के विकास के दिशा में नया इतिहास रचेगा. कहा कि जिस उत्साह व एकता का परिचय समारोह में लोगों ने दिखायी है. वह आने वाले दिनों में समाज को विकास के राह पर ले जायेगा.

* नये नेतृत्व की आवश्यकता
ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति ध्रुव कुमार ने कहा कि वर्तमान समय में समाज बदलाव चाहता है. आज समाज के लोग हर रूप से अपने आप को ठगा महसूस कर रहे है. इस समाज के लोगों के आपस में बंटने के कारण अन्य लोगों ने इसका फायदा उठाया है. ऐसे में इस समाज को एक जूट कर उसे कुशल नेतृत्व की आवश्यकता है. और आज इस समाज को निखिल कुमार से अच्छा नेतृत्व देने वाला नहीं है.

* नयी मंजिल तय करेगा समाज : कृपानाथ
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सह पूर्व मंत्री कृपा पाठक ने कहा कि क्षत्रिय समाज हमेशा ही अन्य लोगों को सुरक्षा प्रदान कर इसे आगे बढ़ने में मदद किया है. लेकिन कुशल नेतृत्व एवं कुछ कुरीतियों के कारण यह समाज आज काफी पीछे चला गया है. एक जुटता का अभाव इस समाज को पीछे करने में अहम रहा. लेकिन बुधवार को नगर भवन में आयोजित सभा ने सिद्ध कर दिया है कि इन लोगों में 81 वर्ष के बूढ़े वीर कुंवर सिंह जैसी ताकत और क्षमता है.

इन्हें यदि कुशल नेतृत्व मिल जाये तो यह समाज व देश के लिये इतिहास बना सकेगें. इस समाज के नेतृत्व में आगे बढ़ने से विकास की नयी मंजिल तय होगी. समारोह को प्रो. जेपी सिंह, डा आरपी मंडल, नरेद्र नारायण सिंह निराला, बैजू सिंह, मुन्ना चौधरी, अशोक सिंह, पप्पू सिंह, शैलेद्र कुमार, शैलेश कुमार, प्रफुल्ल कुमार ठाकुर, रमण सिंह, चंदन कुमारी, जन्मेय सिंह, मनीष कुमार, देवेंद्र कुमार, गणोश सिंह, अवधेश सिंह सहित अन्य ने भी संबोधित किया.

वहीं मुन्ना चौधरी ने कूंवर सिंह को अपना आदर्श बताते हुए कहा कि समाज में व्यापक भ्रष्टाचार और कूरीतियों से लड़ने के लिए स्व. सिंह के विचारों को आत्मसात करने की जरूरत है.

समारोह का उद्घाटन राज्यपाल निखिल कुमार, कुलपति समरेंद्र प्रताप सिंह, प्रति कूलपति ध्रुव कुमार एवं पूर्व मंत्री कृपानाथ पाठक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया. मौके पर एपी सिंह, उमेश कुमार सिह, तिरपित नारायण सिंह, राकेश कुमार सिंह, विपिन कुमार सिंह, इजहार अहमद, रमेश सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

* तलवार किया भेंट
वीरता एवं शौर्य के प्रतीक के रूप में महामहिम राज्यपाल को विरेंद्र कुमार सिंह मुन्ना ने उन्हें तलवार भेंट किया. तलवार को अपने हाथों में उठा श्री कुमार ने वीर कुंवर सिंह के वीरता में आस्था जताया एवं कुंवर सिंह का जयकार भी किया. वहीं कप्पू सिंह ने भी महामहिम राज्यपाल को तलवार भेंट किया.

* भव्य स्वागत
विजयोत्सव को लेकर केरल के राज्यपाल निखिल कुमार एवं कुलपति एसपी सिंह, प्रति कुलपति ध्रुव कुमार सहित अन्य आगंतुकों का आयोजन समिति के द्वारा पाग, दोपत, माला से भव्य स्वागत किया गया. आयोजन समिति के दर्जनों कार्यकर्ताओं ने एक एक कर इन अतिथियों का स्वागत किया. वहीं राज्यपाल श्री कुमार ने वीर कुंवर सिंह के प्रतिमा पर फूल माला चढ़ाया एवं आरती उतारी. लोगों ने उन्हें मिथिला पेंटिंग भी भेंट किया.

* सुरक्षा के व्यापक प्रबंध
नगर भवन में आयोजित कुंवर सिंह विजयोत्सव को लेकर सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किये गये थे. मुख्य द्वार से लेकर नगर भवन व परिसर में जिला पुलिस बल के साथ साथ डीएसपी एस खलीफा व अन्य पुलिस अधिकारी भी मुस्तैदी के साथ आयोजन स्थल पर उपस्थित थे. थाना चौक पर पुलिस के जवान वाहनों को नियंत्रित करने में सुबह से ही लगे हुए थे.

वहीं मुख्य द्वार पर श्री राज्यपाल के सुरक्षा को ध्यान में रखकर सुरक्षा के व्यापक प्रबंध था. हर आने जाने वाले लोगों की सघन तलाशी ली जा रहीं थी.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें