24.7 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

विद्यालय में कार्यरत नहीं एक भी शिक्षक

कैसे होगी व्यावसायिक विषय की पढ़ाई

कैसे होगी व्यावसायिक विषय की पढ़ाई, फोटो.14. टाउन हाई स्कूल का फोटो = दो साल पहले व्यावसायिक शिक्षा के वर्ग संचालन के लिए किया गया था उद्घाटन = उद्घाटन के बाद विद्यार्थियों को पढ़ाने के लिए दो शिक्षक किये थे योगदान = सिक्युरिटी में 25 व ऑटोमोबाइल्स व्यावसायिक कोर्स के लिए 25 विद्यार्थियों ने कराया था नामांकन = मामला शहर के प्लस टू उच्च विद्यालय का प्रतिनिधि, भभुआ नगर जिले में मात्र एक प्लस टू विद्यालय भभुआ यानी टाउन हाइस्कूल में संचालित हो रहे व्यावसायिक कोर्स की पढ़ाई मात्र दो वर्ष में ही दम तोड़ने लगी है. विद्यालय में नौवीं एवं 10वीं में व्यावसायिक कोर्स के लिए नामांकित छात्र अपना व्यावसायिक कोर्स से नाम कटवा रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ 10वीं में पढ़ने वाले छात्र व्यावसायिक कोर्स की पढ़ाई संचालित नहीं होने के कारण परीक्षा के लिए भरे जा रहे रजिस्ट्रेशन फाॅर्म से व्यावसायिक विषय हटा दे रहे हैं. दरअसल, विगत दो वर्ष पहले व्यावसायिक शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों को एक विशिष्ट कैरियर पथ के लिए तैयार करने के उद्देश्य से व्यावसायिक शिक्षा राज्य के पांच दर्जनों से अधिक विद्यालयों में लागू की गयी थी. इसके तहत प्लस टू उच्च विद्यालय भभुआ में भी व्यावसायिक शिक्षा की पढ़ाई विगत 2023 में प्रारंभ की गयी थी. व्यावसायिक शिक्षा कोर्स प्रारंभ होने के बाद व्यावसायिक शिक्षा कोर्स संचालित करने के लिए दो शिक्षकों की नियुक्ति हुई थी. लेकिन, एक शिक्षक जिनकी नियुक्ति सिक्योरिटी गार्ड कोर्स संचालित करने के लिए हुआ था, वह कोर्स संचालित होने के कुछ माह बाद ही चले गये. इसके बाद दूसरा शिक्षक ऑटोमोबाइल्स कोर्स को संचालित करने के लिए नियुक्ति हुआ था, वह भी विगत 31 मार्च को विद्यालय से चले गये. इसके बाद से व्यावसायिक कोर्स संचालित करने के लिए विभाग की ओर से एक भी शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति नहीं की गयी. इधर, शिक्षकों की नियुक्ति नहीं होने के कारण छात्र अपना नाम व्यावसायिक कोर्स से कटवा रहे हैं. = विगत दो वर्ष पहले ही व्यावसायिक विषय संचालित करने के लिए हुआ था उद्घाटन विगत दो वर्ष पहले ही शहर के प्लस टू उच्च विद्यालय में व्यावसायिक कोर्स की पढ़ाई के लिए तत्कालीन जिला शिक्षा पदाधिकारी सूर्यनारायण की ओर से उद्घाटन किया गया था. लेकिन, दो वर्ष बाद ही विद्यालय में व्यावसायिक कोर्स की पढ़ाई शिक्षकों की नहीं रहने के कारण बंद हो गयी. नये सत्र में एक भी छात्र शिक्षक नहीं रहने के कारण नामांकन नहीं कराये हैं. ऑटोमोबाइल्स व्यावसायिक शिक्षा की पठन-पाठन के लिए विभाग की ओर से लाखों रुपये से अधिक की सामग्री विद्यालय में दी गयी है. लेकिन, शिक्षकों के नहीं रहने के कारण सभी सामग्री खराब हो रही है. = आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे गये थे शिक्षक विद्यालय में व्यावसायिक शिक्षा कोर्स को संचालित करने के लिए आउटसोर्सिंग यानी कंपनी के माध्यम से शिक्षकों की नियुक्ति की गयी थी. सरकार की ओर से जिस कंपनी को व्यावसायिक कोर्स के संचालन करने के लिए नियुक्ति की गयी थी, उस कंपनी की ओर से नियुक्त किये गये दोनों ट्रेनिंग देने वाले शिक्षकों को हटा लिया गया है. = आठवें विषय के रूप में सब्जेक्टों को किया था शामिल विद्यालय में ऐच्छिक विषय की पढ़ाई यानी व्यावसायिक कोर्स की पढ़ाई शुरू होने के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से आठवें विषय के लिए शामिल कर दिया है. इस संबंध में विद्यालय के प्रधानाध्यापक राजाराम ने कहा कि व्यावसायिक कोर्स को संचालित करने के लिए दो शिक्षकों की नियुक्ति विद्यालय में की गयी थी. लेकिन, दोनों शिक्षकों को सरकार द्वारा हटा लिया गया है. शिक्षकों के नहीं रहने के कारण विद्यालय में व्यावसायिक विषय की पढ़ाई बाधित है. इस वर्ष व्यावसायिक विषय में शिक्षक नहीं रहने के कारण एक भी छात्रों का नामांकन नहीं लिया गया है. इसकी सूचना भी विभाग को दे दी गयी है.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें