मोदी ने चुनाव में गंभीर साजिश की जतायी आशंका कहा, केंद्र से दोस्ती रखने वाली सरकार चुनिए

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
जहानाबाद/भभुआ : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को बिहार में सत्ता परिवर्तन का आह्वान किया. जहानाबाद और भभुआ में आयाजित सभाओं में उन्होंने कहा कि बिहार में सत्ता के लिए स्वार्थ का बंधन हुआ है. इस नये जोड़ीदार की सारी बाजी बिगड़ने लगी है.बिहार में भाजपा नेतृत्ववाली मित्र सरकार चाहिए, जो राज्य के विकास के लिए केंद्र सरकार से कंधा-से-कंधा मिला कर चले.
जहानाबाद में प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार बिहार का भाग्य बदलने की आशा रखनेवाली जनता स्वार्थ के नये जोड़ीदारों को सबक सिखायेगी. 25 साल से बिहार को उपेक्षित रखने की सजा उन्हें जरूर देगी. उन्होंने कहा कि बिहार का भाग्य बदलना और हिंदुस्तान को सबसे बड़ी ताकत बनाना मेरा सपना है. यह तभी होगा, जब यहां केंद्र की मित्र सरकार बनेगी.
जहानाबाद में वायु सेना के हेलीकॉप्टर से उतरने के बाद सभा मंच पर आकर संबोधन के दौरान पीएमने सबसे पहले तीन बार भारत माता के जयकारे लगाये और मगही भाषा में उपस्थित भीड़ को प्रणाम कर हालचाल पूछा. प्रधानमंत्री ने कहा, विरोधी कितना भी हमारे विनाश की बात बोलते रहें, लेकिन मेरा एक ही एजेंडा है बिहार का विकास. इस एजेंडे को साकार करने के लिए उन्होंने उपस्थित भीड़ से समर्थन मांगा.
नरेंद्र मोदी ने कहा कि चूंकि 25 साल से बिहार और दिल्ली में विपरीत सरकार चल रही है. विकास के लिए पैसे भी दिये जा रहे हैं. लेकिन बिहार सरकार उसका उपयोग नहीं कर रही है. दिल्ली के पैसे का हिसाब नहीं दे रही है. बिहार में आज सोयी हुई और राजनीति में डूबी हुई सरकार है. इन्हें कुरसी की चिंता है, बिहार की नहीं.
यहां सपने में साथ देनेवाली सरकार चाहिए. अच्छे रास्ते सबके काम आते हैं, इसलिए शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कें बननी चाहिए. 22 हजार किमी लंबी सड़कों का जाल बिछा देंगे. जहानाबाद की रैली में पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, पूर्व सीएम जीतन राम मांझी, पूर्व मंत्री प्रेम कुमार, दिल्ली के सांसद रामवीर सिंह विधुड़ी, विधायक चितरंजन कुमार, राहुल कुमार समेत 11 विधानसभा क्षेत्रों के प्रत्याशी मौजूद थे.
भभुआ में मोदी ने कहा
मोदी ने कहा कि आज यहां रैली नहीं, रैला है, बिहार को जगाने का मेला है. यह प्यार मैं ब्याज समेत वापस लौटाऊंगा. आप लोगों का प्यार है कि मैं यहां मौजूद हूं. प्रधानमंत्री ने विरोधियों पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी को तो रोक लोगे, लेकिन जनता के सैलाब को कैसे रोकोगे? पहले सभा को रोकने का प्रयास किया और जब सभा की इजाजत दी, तो टीवी पर सीधा प्रसारण पर रोक लगवाने की कोशिश की. लोकसभा चुनाव में बनारस में भी मुझे एक भी सभा नहीं करने दी गयी थी, जबकि मैं वहां प्रत्याशी था.
ऐसा शायद विश्व में कहीं नहीं हुआ होगा, लेकिन वहां की जनता ने मेरे मौन पर मुहर लगा दी. इन लोगों ने मुझे रोकने की साजिश कर लोकतंत्र का गला घोंटने का प्रयास किया है. आज आपके आशीर्वाद से परमिशन मिला है, न कि मेरे प्रधानमंत्री होने से. मैं मजदूर आदमी हूं, रोकोगे, तो पैदल ही चल पड़ूंगा.
चुनाव में गंभीर साजिश की जतायी आशंका
पीएम मोदी ने कहा कि मैं चुनाव आयोग से आग्रह करूंगा कि इस क्षेत्र पर विशेष ध्यान रखा जाये. यहां गंभीर साजिश की आशंका लग रही है. उन्होंने आग्रह किया कि बिहार के मतदाता रिकॉर्ड तोड़ मतदान करें, ताकि जो मुझे रोक रहे हैं, उन्हें जवाब मिले.
नीतीश ने दिया धोखा
पीएम ने कहा कि नीतीश कुमार ने 2010 के चुनाव में कहा था कि अगर गांव-गांव बिजली नहीं पहुंचायी, तो वोट मांगने नहीं आऊंगा. लेकिन, इसके बावजूद वह वोट मांगने आ रहे हैं. उन्होंने बिहार की जनता के साथ धोखा किया. बिहार की जनता इस धोखा को माफ नहीं करेगी और उन्हें इस चुनाव में इसका जवाब देगी.
भाषण सुन कर मिला लीजिए
उन्होंने कहा कि वह बिहार के विकास लिए वोट मांग रहे हैं, जबकि महागंठबंधन के लोग मोदी को रोकने के लिए. उन्होंने राजद-जदयू व कांग्रेस के महागंठबंधन को महास्वार्थबंधन बताते हुए कहा कि दोनों (नरेंद्र मोदी व महागंठबंधन के नेता) के भाषण सुनिए. साफ पता चल जायेगा कि वह (नरेंद्र मोदी) बिहार के विकास के लिए वोट मांग रहे हैं, बिहार के परिवर्तन के लिए वोट मांग रहे हैं. महास्वार्थबंधन के नेता अपने भाषणों में कहते फिर रहे हैं कि वे मोदी का विनाश कर के रहेंगे. बिहार की जनता को उनके महास्वार्थ को पहचानना है.
हर क्षेत्र में विकास का किया वादा
पीएम ने बिहार को 24 घंटे बिजली, रोजगार करनेवाले लोगों को बिना गारंटी के ऋण व गरीबों को ताकतवर बनाने का वादा किया. किसानों की बदहाली के लिए लालू -नीतीश को जिम्मेवार बताया. कहा कि बिहार में पानी-जवानी दोनों की अनदेखी की गयी है. पानी समुंदर में चला जाता है और जवानी पलायन कर जाती है.
इन दोनों पर मेरी निगाह है. उनके लिए हमने स्किल डेवलपमेंट सहित कई योजनाएं बनायी हैं. यहां सभा में उनके साथ प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय, सांसद मनोज तिवारी व छेदी पासवान सहित जिले के चारों विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी मौजूद थे. सभा का संचालन प्रदेश महामंत्री सुधीर शर्मा ने किया.
भभुआ में आने से रोकने की साजिश
जहानाबाद के बाद भभुआ के एयरपोर्ट मैदान में आयोजित सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो दिन पूर्व यहां की सभा को लेकर बनी संशय की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि मुझे यहां आने से रोकने के लिए साजिश की गयी.
मुझे पता नहीं था कि आज मैं भभुआ पहुंच पाऊंगा कि नहीं. प्रधानमंत्री हूं, तो क्या हुआ. लेकिन, अब पता चला है कि मुझे भभुआ आने से क्यों रोका जा रहा था. यहां मौजूद जनसैलाब से कइयों की नींद उड़ गयी है. बहुत बेचैन हैं. इसी कारण से मुझे रोकने की साजिश की गयी. पर, आपके इस प्यार से मेरा हौसला बढ़ रहा है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें