1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. firing at lawyers house in bhagalpur father killed asj

भागलपुर में वकील के घर पर फायरिंग, पिता की हत्या

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सांकेतिक
सांकेतिक

नाथनगर (भागलपुर) : केसकर्ता से मिले होने के शक पर आरोपी पक्ष ने अपने ही वकील के घर गोलीबारी कर दी. आरोपियों ने वकील के घर गोलीबारी कर दी जिसमे वकील बाल बाल बच गये मगर उनके पिता की मौत हो गयी. घटना नाथनगर थानाक्षेत्र के राघोपुर माधोपुर का मंगलवार सुबह की है. इसमें आरोपित खुद वकील का चचेरा भाई है. वकील विरेंद्र मंडल के पिता सूर्यनारायण मंडल (65) को सीने व सिर में दो गोली लगी. उन्हें तुरंत मायागंज ले जाया गया. वहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

घटना की सूचना पाकर नाथनगर पुलिस मौके पर पहुंची. सिटी एसपी एसके सरोज, एएसपी पूरण कुमार झा भी मौके पर पहुंचे. एसपी ने पीड़ित परिजनों व आसपास के लोगों से पूछताछ की. घटनास्थल से पुलिस ने तीन खोखा बरामद किया है. वकील विरेंद्र मंडल ने घटना का आरोप अपने चचेरे भाई पर लगाया है. उन्होंने बताया कि वर्ष 2011 में गांव के ही धर्मेंद्र ने उनके चचेरे भाइयों पर एससीएसटी केस किया था. चचेरे भाई की तरफ से वो वकालत कर रहे थे. बीते फरवरी माह में उनके आरोपी भाई केसकर्ता के गवाहों को धमकाकर कोर्ट ले गये. अपने पक्ष में गवाही दिलायी.

वकील विरेंद्र ने बताया कि इसकी शिकायत लेकर केसकर्ता की मां उर्मिला देवी उनके पास आयी. उन्होंने थाने में शिकायत लिख कर देने कहा. यह मामला चचेरे भाइयों को पता चलते ही वो अपोजिट पार्टी से मिले होने का शक करने लगा. इसको लेकर वो लोग मारपीट पर उतारू हो गये. मंगलवार को वो कोर्ट के लिए निकल रहे थे कि आरोपी बलटू मंडल और उसकी पत्नी शोभा देवी मां को गाली गलौज कर रही थी. इसका विरोध किया तो आरोपितों ने गोलीबारी शुरू कर दी. इसमें पिता सूर्यनरायण मंडल को गोली लग गयी और अस्पताल मे उनकी मौत हो गयी.

वकील ने बताया कि दो माह पहले उनलोगों ने कोर्ट से आने के दौरान हत्या की नीयत से रास्ता भी रोका था. इसकी लिखित शिकायत थाने में की गयी थी. वकील ने बताया कि पिछले एक माह से उसका भाई लोग उनके हिस्से की जमीन पर चढ़ गये. इसकी शिकायत भी पुलिस में की थी. मगर पुलिस ने एक्शन नहीं लिया. उधर मंगलवार को सभी आरोपित ने घर पर चढ़कर गोलीबारी शुरू कर दी.

वकील विरेंद्र मंडल ने बताया कि पुलिस को तीन बार आवेदन देने के बाद कार्रवाई नहीं हुई तो एसपी से मिलकर शिकायत की. वहां से भी एक्शन नहीं होने के बाद डीआइईजी को शिकायत की थी मगर पुलिस ने कोई भी एक्शन नहीं लिया. पुलिस ने जमीन पर सिर्फ 107 की कार्रवाई कर ड्यूटी पूरी कर ली. जब घटना हुई तो नाथनगर पुलिस ने इस मामले में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.

सिटी एसपी एसके सरोज ने तीन दिन के भीतर अपराधियों को पकड़ने का टास्क नाथनगर पुलिस को दिया है. हालांकि उन्होंने यह टास्क मधुसूदनपुर पुलिस को भी साल भर पहले रामपुर में गोलीबारी मामले में दिया था. वकील विरेंद्र मंडल ने बताया कि आरोपी मंगलवार सुबह अचानक हथियार लेकर वो लोग घर पर चढ़ गये. गोली फायर करने लगा. उन्होंने बताया कि गोली चलते ही वो पत्नी और बच्चे के साथ घर में बंद हो गये. उनकी जान बची मगर पिता जैसे ही आंगन में निकले कि उन पर गोली चला दी.

posted by ashish jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें