30.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

शिक्षा विभाग का मिशन दक्ष महज खानापूर्ति

शिक्षा विभाग के एसीएस केके पाठक के निर्देश पर गर्मी की छुट्टी में मिशन दक्ष के तहत कमजोर बच्चों को विद्यालयों में पढ़ाई के साथ भोजन देना था. इस्माइलपुर प्रखंड में उनके निर्देश को ठेंगा दिखाया जा रहा है. सुबह आठ-साढ़े आठ बजे तक शिक्षक विद्यालय आते हैं और 10 बजते विद्यालय से चले जाते हैं.

गोपालपुर. शिक्षा विभाग के एसीएस केके पाठक के निर्देश पर गर्मी की छुट्टी में मिशन दक्ष के तहत कमजोर बच्चों को विद्यालयों में पढ़ाई के साथ भोजन देना था. इस्माइलपुर प्रखंड में उनके निर्देश को ठेंगा दिखाया जा रहा है. सुबह आठ-साढ़े आठ बजे तक शिक्षक विद्यालय आते हैं और 10 बजते विद्यालय से चले जाते हैं. मंगलवार को मवि डिमाहा नारायणपुर में नामांकित छात्रों में मिशन दक्ष के तहत कक्षा एक में चार, कक्षा दो में छह व कक्षा तीन में तीन छात्र उपस्थित थे. एक साथ एक ही कमरे में कक्षा चलायी जा रही थी. ग्रामीण वीरेंद्र मंडल ने बताया कि पिछले महीने ही यहां के पूर्व प्रधानाध्यापक रमेश सिंह सेवानिवृत हुए हैं. बिना किसी तरह का प्रभार दिये ही वह यहां से चले गये हैं. विद्यालय में नयी प्रभारी शबनम कुमारी को बनाया गया है. उसके पास किसी तरह का लेखा-जोखा नहीं है. ग्रामीणों ने बताया कि हम लोग इसकी शिकायत जिला शिक्षा पदाधिकारी से कर जांच की मांग की है. मवि इस्माइलपुर पश्चिमी भिट्ठा में शिक्षक और छात्र पठन-पाठन कर रहे थे. विद्यालय में दो अन्य विद्यालय संचालित है. उन दोनों विद्यालय में भी पठन-पाठन व शिक्षक मौजूद थे. प्राथमिक विद्यालय पश्चिम टोला भिट्ठा में 25 छात्रों का मिशन दक्ष में नामांकन था, लेकिन यहां 14 छात्र उपस्थित थे . विद्यालय में छह शिक्षक नियुक्त हैं, जिसमें प्रधानाध्यापक सहित दो शिक्षक छुट्टी पर थे. 14 छात्रों को शिक्षकों ने सुबह 9:30 बजे मीनू के मुताबिक खाना खिला कर छुट्टी देने की तैयारी में थे. विद्यालय के प्रधानाध्यापक अशोक यादव ने बताया कि मैं ट्रेनिंग में हूं .विद्यालय समय से संचालित करने का निर्देश दिया था. प्राथमिक विद्यालय बेदी राय टोला व मवि कमला कुंड 10:00 बजे तक बंद हो गया था. इस विद्यालय में कक्षा एक से आठवीं तक की पढ़ाई होती है. आधा दर्जन शिक्षक हैं, लेकिन बिना भोजन कराये ही शिक्षक निकलते बने. सुबह 8:00 से 10:00 बजे तक मिशन दक्ष के तहत कक्षा संचालन करना है. अधिकतर छात्रों की उपस्थिति रखने का निर्देश दिया गया है, जबकि यहां नामांकन के 10 फीसदी भी किसी भी विद्यालय में छात्र उपस्थित नहीं थे. इस बारे में जिला शिक्षा विभाग के कार्यक्रम पदाधिकारी सर्व शिक्षा से पूछा, तो उन्होंने बताया कि हम लोगों की जानकारी में नहीं है कि इस्माइलपुर में किस तरह की व्यवस्था है. अगर वहां पठन-पाठन की व्यवस्था दुरुस्त नहीं होगी, तो कार्रवाई की जायेगी.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें