1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. bhagalpur zone 1600 hectares will be katarni paddy cultivation ksl

Bhagalpur Zone: 800 हेक्टेयर में होती थी कतरनी की खेती, अब 1600 हेक्टेयर में रोपा जायेगा धान

बिहार कृषि विश्वविद्यालय के सहयोग से भागलपुरी कतरनी की खेती पहले जहां प्रक्षेत्र में 800 हेक्टेयर में होती थी, अब 1600 हेक्टेयर से अधिक भूमि पर कतरनी धान की खेती की जायेगी.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Bhagalpur: सांकेतिक तस्वीर.
Bhagalpur: सांकेतिक तस्वीर.
प्रभात खबर

Bhagalpur Zone: (दीपक राव) : बिहार कृषि विश्वविद्यालय के सहयोग से भागलपुरी कतरनी उत्पादक संघ की ओर से भागलपुर प्रक्षेत्र अंतर्गत भागलपुर, बांका और मुंगेर जिले में कतरनी की खेती दुगुने रकबे में करने की तैयारी है. इसे लेकर किसानों को जागरूक किया गया है. इतना ही नहीं, जैविक तरीके से हुई कतरनी की खेती ने कतरनी की खुशबू को और बढ़ा दिया. कतरनी चूड़ा और चावल की मांग बढ़ने के साथ कीमत भी मुंहमांगी मिल रही है. इससे किसानों का उत्साह देखते ही बन रहा है. पहले जहां प्रक्षेत्र में 800 हेक्टेयर में कतरनी की खेती होती थी, अब 1600 हेक्टेयर से अधिक भूमि पर कतरनी धान की खेती को तैयार हैं.

किसानों की परेशानी को कम करने के लिए शोध जारी

कृषि वैज्ञानिक मंकेश कुमार ने बताया कि कतरनी की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों की परेशानी को कम करने के लिए शोध जारी है. मौसम में सुधार होने के साथ-साथ जैविक तरीके से खेती को बढ़ावा मिला है. बिहार कृषि विश्वविद्यालय और भागलपुर कतरनी उत्पादक संघ की देखरेख में जिले के जगदीशपुर, सन्हौला, शाहकुंड व सुल्तानगंज प्रखंड में केवल 300 हेक्टेयर भूमि में कतरनी की खेती की गयी थी. पिछले साल से इस बार दो क्विंटल अधिक उपज हुई. पिछले साल जहां एक हेक्टेयर में 28 क्विंटल कतरनी धान की उपज हुई थी, इस बार 30 से 32 क्विंटल हुई.

इन क्षेत्रों में होती है कतरनी की खेती

बिहार कृषि विश्वविद्यालय के पौधा प्रजनन विभाग के कनीय वैज्ञानिक मंकेश कुमार ने बताया कि अभी मुंगेर, बांका और भागलपुर में 800 हेक्टेयर में कतरनी की खेती हो रही है, इसका दुगुना करने की तैयारी पहले से थी, जिसे किसानों ने स्वीकार कर लिया. मुंगेर में अभी 100 हेक्टेयर में, बांका के अमरपुर, रजौन, बाराहाट व बौंसी में 300 हेक्टेयर की खेती हो रही है. भागलपुर के जगदीशपुर, सुल्तानगंज, शाहकुंड, सन्हौला में केवल 300 हेक्टेयर में कतरनी की खेती होती है. मुंगेर में 200, बांका में 600 , जबकि भागलपुर में 800 से1000 हेक्टेयर तक रकबा बढ़ाने की तैयारी है.

व्यावसायिक खेती बनाने के लिए किसानों को कर रहे प्रोत्साहित

जगदीशपुर के कतरनी उत्पादक किसान राजशेखर ने बताया कि बिहार कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक फसल की राह में आयी मुश्किलों को दूर कर विस्तार देने का निर्णय लिया है. योजना के मुताबिक कतरनी का रकबा दोगुना किया जा रहा है. अब 800 हेक्टेयर से बढ़कर 1600 हेक्टेयर खेतों में लहलहाने लगेगी. व्यावसायिक खेती बनाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. इसमें कतरनी के प्रगतिशील किसान भरपूर सहयोग कर रहे हैं.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें