1. home Hindi News
  2. sports
  3. cricket
  4. dhoni thinking about retirement the manager said this big thing

संन्यास का ख्याल अभी धोनी के दिमाग में है नहीं, माही से मुलाकात के बाद दोस्त ने कही ये बात

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
धौनी के दोस्त और मैनेजर ने कहा है कि मुझे नहीं लगता कि धौनी के संन्यास का ख्याल अभी उनके दिमाग में है. उन्होंने कहा वह आइपीएल में खेलने के लिए प्रतिबद्ध है.
धौनी के दोस्त और मैनेजर ने कहा है कि मुझे नहीं लगता कि धौनी के संन्यास का ख्याल अभी उनके दिमाग में है. उन्होंने कहा वह आइपीएल में खेलने के लिए प्रतिबद्ध है.
Twitter

भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धौनी विश्व कप 2019 के बाद से ही क्रिकेट से दूर हैं. आईपीएल 2020 के जरिए उसे क्रिकेट में वापसी करनी थी लेकिन कोरोना महामारी के कारण आईपीएल को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया जिसके बाद लोग उनके संन्यास के बारे में कयास लगाने लगे. कई क्रिकेटरों ने ये बात कह भी दी कि उनकी वापसी मुश्किल है. अब धौनी रिटायरमेंट के बारे में क्या सोच रहे हैं ये तो वही जानते हैं. लेकिन उनके दोस्त और मैनेजर मिहिर दिवाकर ने उनके फिलहाल संन्यास को लेकर साफ इनकार कर दिया.

उन्होंने कहा कि मैंने हाल ही में धौनी से बात की है, यह एक सामान्य व्यावसायिक चर्चा थी. जब उनसे उनके रिटायरमेंट को लेकर बात किया गया तो उन्होंने कहा कि एक दोस्त होने के नाते मैं और धौनी इस बारे में बात नहीं करते लेकिन मुझे नहीं लगता कि संन्यास का ख्याल अभी उनके दिमाग में है. उन्होंने कहा वह आइपीएल में खेलने के लिए प्रतिबद्ध है.

उन्होंने इसके लिए कड़ी मेहनत की है. अगर आपको याद हो तो वह सीएसके के ट्रेनिंग कैंप के लिए चेन्नई एक महीने पहले ही पहुंच गए थे, लेकिन इसके बाद सब कुछ बंद हो गया. दिवाकर ने यह भी कहा कि देशभक्ति धौनी के खून में है. यह देश की सेवा (सेना) करना हो या जमीन (खेती) की, वह इन्हें लेकर काफी जुनूनी है. उसके पास 40 से 50 एकड़ खेती की जमीन है और वह वहां पपीते, केले की जैविक खेती में व्यस्त हैं.

अगर हम महेंद्र सिंह धौनी के विश्व कप और उससे पहले के प्रदर्शनों पर गौर करें तो उनका प्रदर्शन किसी भी लिहाज से खराब नहीं कह सकते. विश्व कप में धौनी ने 45 से ज्यादा की औसत से 273 रन बनाए थे जिसमें दो अर्द्धशतक शामिल है. ये अर्द्धशतक उन्होंने एक वेस्टइंडीज के खिलाफ तो दूसरा उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ मारा था.

जबकि उससे पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए मैचों में उन्होंने तीनों मैचों में अर्द्धशतक जमाया था और उस सीरीज में वो मैन ऑफ द टूर्नामेंट भी रहे थे. अगर हम उनके विश्व कप में विकेट के पीछे की प्रदर्शनों पर बात करें तो उन्होंने नौ मैचों में दस शिकार किए जिसमें सात कैच आउट और तीन स्टंपिंग शामिल रहा. जो किसी भी लिहाज से खराब नहीं माना जाएगा.

Posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें