1. home Home
  2. national
  3. third wave of corona r value more than peak of second wave in india rts

कोरोना की तीसरी लहर में मचेगा हाहाकार! ‘आर- वैल्यू’ दूसरी लहर की पीक से भी ज्यादा, केंद्र ने क्या कहा

भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच नीति आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ वीके पॉल ने कहा कि भारत में कोरोना के मामलों में तेजी दूसरी लहर से काफी ज्यादा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल
नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल
Twitter

Corona R Value: भारत में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से फैलने लगा है. रोजाना मामलों में दोगुना बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. देश में तीसरी लहर की दस्तक ने लोगों को डरा दिया है. हालांकि मामलों में आई तेजी के पीछे ओमिक्रॉन को एक बड़ी वजह माना जा रहा है. केंद्र की तरफ से बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 58 हजार से अधिक कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं. वहीं, दूसरी तरफ स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञ बढ़ते मामलों के बीच भी आधिकारिक रूप से तीसरी लहर का जिक्र करते बचते दिख रहे हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को ओमिक्रॉन और भारत में तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर कई बातों का जिक्र किया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने माना है कि कोरोना केसेस बढ़ रहे हैं. 30 दिसंबर को संक्रमण दर 1.1 फीसदी थी जो 5 जनवरी को 5 फीसदी हो गई. वहीं, नीति आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ वीके पॉल ने कहा कि यह एक बढ़ती हुई महामारी है. उन्होंने सार्वजनिक उपलब्ध आंकड़ों का हवाला देकर कहा कि भारत का कोविड आर-नॉट वैल्यू 2.69 हो गया है, जो कि दूसरी लहर की पीक से 1.69 से अधिक है. R-naught value एक तय बिंदु पर संक्रमण के स्तर को समझने में मदद करता है. अगर आर वैल्यू 2.69 है तो इसका मतलब 100 में से 269 लोगों में संक्रमण फैल सकता है.

डॉ पॉल ने कहा कि देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरह से कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है. ऐसी स्थिति पिछली दोनों लहरों में भी हुआ था. उन्होंने कहा कि मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति की भी निगरानी की जा रही है. दिल्ली में यह 4 फीसदी है जबकि मुंबई में 5 फीसदी. पिछले साल अस्तपताल में भर्ती होने का दर 20 फीसदी था. वहीं, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने कहा कि संक्रमण का प्रकोप उन शहरों में हो रहा है जहां ओमिक्रॉन के मामले ज्यादा हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें