1. home Home
  2. national
  3. pak intelligence agency isi planning of terrorist attack in jammu kashmir with the help of isis k of afghanistan mtj

ISIS खुरासान के आतंकवादियों को हथियार देकर कश्मीर में हमले करवा सकता है पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI

भारत में हमले कराने के लिए अफगानिस्तान (Afghanistan) के जेलों से रिहा किये गये इस्लामिक इस्टेट खुरासान (ISKP) के आतंकवादियों का इस्तेमाल ISI कर सकता है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
ISIS खुरासान का ट्रेनिंग कैंप
ISIS खुरासान का ट्रेनिंग कैंप
File Photo

नयी दिल्ली: अफगानिस्तान में तालिबान की नयी कार्यकारी सरकार की घोषणा के बाद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (ISI) अब भारत में आतंकवादी हमलों (Terror Attacks) की साजिश रचने में जुट गया है. खुफिया सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि आईएसआई जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में हमले कराने के लिए आईएसआईएस खुरासान (ISIS Khurasan) की मदद ले सकता है. आईएसआई ने इस आतंकवादी संगठन को हथियार मुहैया कराना भी शुरू कर दिया है.

भारत में हमले कराने के लिए अफगानिस्तान (Afghanistan) के जेलों से रिहा किये गये इस्लामिक इस्टेट खुरासान (ISKP) के आतंकवादियों का इस्तेमाल कर सकता है. खुफिया रिपोर्टों में इस बात की आशंका जतायी गयी है कि इस्लामिक स्टेट खुरासान (Islamik State Khurasan) के आतंकवादियों को वे हथियार मुहैया कराये जायेंगे, जो तालिबान (Taliban) को मिले हैं. पिछले दिनों अमेरिकी सेना के हथियारों का जखीरा तालिबान के हाथ लग गया था. आईएस खुरासान (ISKP) के आतंकियों को यही हथियार दिये जा सकते हैं.

खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाले इस आतंकवादी संगठन के गुर्गों को पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) के रास्ते भारत में भेजा जायेगा. पूरी ट्रेनिंग देकर इन्हें जम्मू-कश्मीर समेत भारत के अलग-अलग हिस्से में हमला करने के लिए भेजा जायेगा. यहां तक बताया जा रहा है कि केरल के कम से कम दो दर्जन युवा आईएस खुरासान (ISKP) नामक आतंकवादी संगठन में शामिल हो चुके हैं. ये लोग अफगानिस्तान जाकर संगठन में शामिल हुए हैं.

सूत्रों का कहना है कि आईएसआई (ISI) बड़ी योजना के तहत पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) को इन आतंकवादियों का लांच पैड बना सकता है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को पिछले दिनों जानकारी मिली थी कि पाक अधिकृत कश्मीर में कुछ आतंकवादी कैंप में पश्तून भाषा बोलने वाले आतंकवादी देखे जे रहे हैं. पीओके में कुछ आतंकवादियों की एक रैली भी पिछले दिनों हुई थी. इसलिए इस बात की आशंका बढ़ गयी है कि ठंड के मौसम में आईएसआई कोई बड़ी साजिश कर सकता है.

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के महानिदेशक कुलदीप सिंह ने पिछले दिनों कहा था कि अफगानिस्तान में तालिबान के हाथ जो अमेरिकी हथियार लगे हैं, उसके साथ अगर आतंकवादी भारत में घुसपैठ करते हैं, तो उनसे निबटने के लिए लिए सेना और केंद्रीय बलों को अलग से रणनीति बनानी पड़ेगी. हालांकि, उन्होंने आश्वस्त किया था कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है.

ये है आईएसआई का पूरा प्लान

अफगानिस्तान से आईएस खुरासान (ISIS Khurasan) के आतंकवादियों को पहले पाक अधिकृत कश्मीर में शिफ्ट किया जायेगा. यहां से उन्हें मौका मिलते ही भारत की सीमा में दाखिल करा दिया जायेगा. सीमा पर भारत की सेना से आतंकवादियों को बचाने के लिए पाकिस्तान की सेना उनकी मदद करेगी. संभव है कि बर्फ की आड़ में आईएसकेपी के आतंकवादियों को भारत में भेजा जाये. हालांकि, भारत की सेना पूरी तरह से मुस्तैद है और किसी भी घुसपैठ को नाकाम करने के लिए पूरी तरह से चौकन्नी है.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें