1. home Hindi News
  2. national
  3. modi government ban chinese company link apps prepration india china border tension

India China News : ड्रैगन पर एक और स्ट्राइक ! चीनी कंपनियों से संबंध रखने वाले ऐप हो सकते हैं बैन

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
India China
India China
Twitter

India China News : भारत-चीन सीमा पर तनाव के बीच केंद्र सरकार चीन पर एक और स्ट्राइक करने की तैयारी कर रही है. 59 चाइनिज़ ऐप को बैन करने के बाद सरकार अब चीनी कंपनियों से सांठगांठ कर भारत में कार्य कर रहे एप को भी बैन करने की तैयारी कर रही है. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इसको लेकर प्लान भी तैयार कर लिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार केंद्र सरकार ने चीनी कंपनियों से संबंधित कुछ ऐप को गूगल प्ले स्टोर हूं हटवाया है. ये सभी ऐप कंपनियों के मेन वर्जन के अलावा काम कर रहे थे. सरकार चाइनिज़ कंपनियों से सांठगांठ रखने वाले ऐप पर भी कार्रवाई करने की तैयारी में है.

59 ऐप को जारी किया था नोटिस- इससे पहले, केंद्र सरकार ने टिकटॉक सहित 59 चाइनिज़ ऐप पर सख्त नाराजगी जताई थी और सभी ऐप के खिलाफ नोटिस जारी किया था.इंडिया टुडे ने केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के हवाले से बताया कि सरकार ने सभी ऐप को पत्र लिखकर कहा कि वो सरकार द्वारा उठाए गए कदम का पालन करें. मंत्रालय ने पत्र में कहा है कि सभी ऐप के खिलाफ संप्रभु शक्तियों का प्रयोग कर बैन लगाया गया है. ऐसे में इन आदेशों का पालन नहीं करने पर सख्त कदम उठाए जा सकते हैं.

सीमा पर तनाव के बाद लगा था बैन- गलवान घाटी में शुरू हुए तनाव के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बीते दिनों चीन को एक और बड़ा झटका दिया था. केंद्र सरकार ने टिक-टॉक, यूसी ब्राउजर समेत 59 चाइनीज ऐप को देश में बैन कर दिया था. केंद्र सरकार ने इसे देश की संप्रभुता, एकता और रक्षा के लिये खतरा बताया था. सरकार ने अलग-अलग तरीके के 59 मोबाइल ऐप को देश की संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए पूर्वाग्रह रखने वाला बताते हुए उन पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसमें चीन के एप टिकटॉक, शेयरइट और वीचैट जैसे एप भी शामिल हैं. भारत-चीन सीमा पर तनाव से जुड़ी हर Latest News in Hindi से अपडेट रहने के लिए बने रहें हमारे साथ.

गौरतलब है कि 15 जून की रात को भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प की घटना हुई थी, जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गये थे. उस घटना में चीन को भी भारी नुकसान हुआ था, लेकिन ड्रैगन ने अपने नुकसान को दुनिया के सामने नहीं लाया. उस घटना के बाद से लद्दाख में दोनों देशों के बीच विवाद और भी गहरा गया था. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार अभी भी सीमा पर तकरीबन 40 हजार चीनी सैनिक तैनात हैं.

Posted By : Avinish Kumar Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें