1. home Hindi News
  2. national
  3. kisan andolan government teacher joined the farmers movement by cycling 225 km kisan andolan latest news in hindi pkj

Kisan Andolan Latest news : 225 किमी साइकिल चलाकर किसानों के आंदोलन में शामिल हुआ सरकारी शिक्षक

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
225 किमी साइकिल चलाकर किसानों के आंदोलन में शामिल हुआ सरकारी शिक्षक
225 किमी साइकिल चलाकर किसानों के आंदोलन में शामिल हुआ सरकारी शिक्षक
फाइल फोटो

किसान आंदोलन 33 दिनों से लगातार जारी है, किसानों ने ऐलान कर दिया है कि बगैर अपनी मांग मनवाये वह आंदोलन खत्म नहीं करेंगे. इस आंदोलन के समर्थन में कई बॉलीवुड स्टार, खिलाड़ी भी सामने आ रहे हैं.

आंदोलन को मिल रहा है समर्थन

आंदोलन को समर्थन मिल रहा है ऐसे में अपना समर्थन जाहिर करते हुए पंजाब के सरकारी स्कूल में पढ़ाने वाले अध्यापक मनोज कुमार किसान आंदोलन के समर्थन में साइकिल से 225 किलोमीटर का सफर तय कर दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पहुंच गये. पंजाब और हरियाणा के ज्यादातर किसान इस आंदोलन में शामिल है ऐसे में पंजाब के एक सरकारी स्कूल से इस शिक्षक के यात्रा की खूब चर्चा हो रही है.

अब किसानों का नही नहीं लोकहित का मुद्दा बना

यहां पहुंचने पर जब उनसे पूछा गया कि आपने इतनी लंबी यात्रा कैसे तय कि और किस सोच के साथ आप इस आंदोलन में शामिल हुए हैं तो उन्होंने कहा, हम सब को इकट्ठा होना पड़ेगा, यह केवल किसानों का आंदोलन नहीं यह एक लोकहित आंदोलन बन चुका है. किसान आंदोलन के समर्थन में कई लोग अबतक सामने आ चुके हैं. इस आंदोलन में बड़ी कंपनियों में काम करने वाले कुछ लोगो ने भी मदद की है.

सरकार बातचीत से निकालना चाहती है हल

दूसरी तरफ सरकार किसानों से बातचीत कर रही है. सरकार किसानों के मन का डर खत्म करना चाहती है लेकिन किसान इस कानून पर भरोसे के लिए तैयार नहीं है. किसान तीनों कृषि बिल को वापस करने की मांग पर अड़े हैं. सरकार किसानों से इस बिल में क्या समस्या है इस पर चर्चा करना चाहती है जबकि किसान पूरे बिल को ही गलत बता रहे हैं.

प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री ने दिया भरोसा

कृषि मंत्री ने किसानों के सवालों का जवाब देते हुए किसानों को एक खुली चिट्ठी लिखी जिसमें उनके जमीन जानें और एमसएसपी खत्म ना करने का भरोसा दिया गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी स्पष्ट किया कि किसानों की जमीन नहीं जायेगी और ना ही एमएसपी खत्म होगी. इसके बाद भी किसान अपनी मांग पर अड़े हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें