1. home Hindi News
  2. national
  3. corona new strain coronas new strain is dangerous wearing masks and washing hands repeatedly is not enough corona new strain in india pkj

Corona New Strain : सिर्फ मास्क पहनने और हाथ धोने से नहीं बचेंगे कोरोना की नयी स्ट्रेन से

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कोरोना का नया स्ट्रेन
कोरोना का नया स्ट्रेन
फाइल

कोरोना के नये स्ट्रेन ने पूरी दुनिया को और सतर्क कर दिया है. इस वायरस की वजह से कई देशों ने पाबंदिया लगानी शुरू कर दी है ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट पर रोक लगा दी गयी है. यह वायरस कितना खतरनाक है, कोरोना की तुलना में यह किस तरह अलग है ऐसे कई सवाल हैं, जिसके जवाब अब भी तलाश किये जा रहा हैं. आइये विशेषज्ञों से समझने की कोशिस करते हैं कितना खतरनाक है नया कोरोना स्ट्रेन

मास्क पहनना और बार- बार हाथ धोना काफी नहीं

कोरोना वायरस में यह कहा जा रहा है कि सावधानी ही बचाव है लेकिन नये कोरोना वायरस के साथ आप ऐसा नहीं है . इसका संक्रमण तेजी से फैलता है. विशेषज्ञों का मानना है कि यह ज्यादा संक्रामक है. इस वायरस से वह भी नहीं बचा सकेंगे जो मास्क पहनते हैं या बार- बार हाथ धोते हैं. इन्हें भी वायरस का खतरा है. विशेषज्ञों का कहना है कि सुरक्षा को दोगुणा करना होगा. कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क और सैनिटाइजर बेहद अहम थे.

70 फीसद तेजी से फैलता है वायरस

बार - बार हाथ धोना कोरोना वायरस से बचाव के लिए अहम माना जाता था लेकिन एक टीवी चैनल से बात करते हुए में डॉ. नरेश त्रेहन ने जानकारी दी कि पहले मास्क नहीं पहनने और लोगों से मिलने पर भी वायरस से बच जाते थे, लेकिन अब यह खतरनाक हो गया है क्योंकि यह वायरस ज्यादा संक्रामक है और हमारे अंदर प्रवेश कर सकता है. यह वायरस लोगों में 70 फीसद ज्यादा तेजी से फैल रहा है हालांकि डाक्टर्स ने सलाह दी है कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है. सुरक्षा पहले से ज्यादा रखनी है और बुजुर्ग औऱ बच्चों का विशेष ध्यान रखना है क्योंकि यह वायरस इन्हें ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है.

भारत में क्या है स्थिति

भारत में ब्रिटेन से आये लोगों को ट्रैक किया जा रहा है. अबतक 7000 से अधिक लोग अबतक ब्रिटेन से दिल्ली पहुंच चुके हैं. इस जांच में अबतक कई लोगों को संक्रमित पाया गया है. कई लोग देश के दूसरे राज्यों में चले गये ऐसे में उन्हें तलाश करना उनकी जांच करना मुश्किल हो रहा है.

बढ़ रहा है संक्रमण का खतरा

सभी राज्य अपने - अपने स्तर पर इसकी जांच कर रहे हैं कि उनके राज्य में कितने लोग है जो ब्रिटेन से लौटे हैं. देहरादून में 131 लोग पिछले 1 महीने में ब्रिटेन से लौटे हैं. जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग उनतक पहुंच रही है ब्रिटेन से लौटे 5 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो गयी. 25 नवंबर से 8 दिसंबर के बीच भारत में आए हैं वैसे लोगों तक पहुंचने की कोशिश है जो इस दौरान ब्रिटेन से लौटे हैं. यूपी में भी ऐसे लोगों की जांच की जा रही है जो इस दौरान लौटे हैं.

संक्रमितों की पहचान की जा रही है

ऐसे कई लोगों की पहचान की गयी है और उनमें संक्रमण के लक्षण भी पाये गये हैं. मेरठ में तीन लोगों की रिपोर्ट संक्रमित आयी है. आगरा, बनारस, गाजियाबाद, सहारनपुर, चंदौली सहित आसपास के कई जिलो में 400 से ज्यादा ऐसे लोगों की पहचान की गयी है जो ब्रिटेन से लौटे हैं. कई लोगों की जांच की गयी है जिसमें से कुछ लोग संक्रमित पाये गये हैं. आईडेंटिफिकेशन के लिए सैंपल पुणे वायरोलॉजी लैब भेजा में इसे भेजा गया है. इस जांच से यह स्पष्ट हो जायेगा कि यह कोरोना की दूसरी स्ट्रेन है या पुराना वायरस है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें