शाहीन बाग में सड़क खुली तो जाफराबाद में जुटे प्रदर्शनकारी, भीम आर्मी ने किया भारत बंद का एलान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्लीः दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले करीब दो महीनों से नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन चल रहा है. शनिवार शाम प्रदर्शनकारियों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों से चर्चा के बाद प्रदर्शन स्थल के पास 9 नंबर की सड़क खोल दी है. यह सड़क जामिया से कालिंदी कुंज होते हुए नोएडा जाती है. प्रदर्शनकारियों ने नागरिकता कानून के खिलाफ चल प्रदर्शन के तहत इसे बंद कर रखा था. हालांकि जानकारों का कहना है कि इस रोड के खुल जाने से जामिया से नोएडा और नोएडा से जामिया जाने वाले लोगों को कोई राहत नहीं मिलेगी. क्योंकि अब भी महामाया फ्लाइओवर पर रास्ता बंद है. यह रास्ता यूपी पुलिस और दिल्ली पुलिस ने बंद किया हुआ है.

इधर, शनिवार की रात दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के निकट लगभग 500 लोग इकट्ठा हुए जिससे एक मुख्य सड़क बंद हो गई. मेट्रो स्टेशन के निकट एकत्र होने वाले लोगों में ज्यादातर महिलाएं थीं. महिलाओं ने तिरंगा लेकर 'आजादी' के नारे लगाते हुए कहा कि वे तब तक प्रदर्शनस्थल से नहीं हटेंगी जब तक कि केंद्र सरकार सीएए को रद्द नहीं कर देती.एहतियातन जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर प्रवेश और निकास बंद कर दिया गया है. मेट्रो स्टेशन परिसर के बाहर भारी पुलिस बल तैनात है.

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्र शेखर आजाद का दावा है कि ये सभी महिलाएं उनके भारत बंद के आह्वान पर धरने पर बैठी हैं. चंद्र शेखर आजाद ने ट्वीट कर कहा है कि ऐतिहासिक भारत बंद की शुरुआत हो गई है और बीजेपी सरकार को बहुजनों की ताकत का अहसास होगा. सोशल मीडिया पर भीम आर्मी से जुड़े लोग भारत बंद को लेकर लगातार विडियो, फोटो शेयर कर रहे हैं.

जाफराबाद में महिलाओं ने अपनी बांह पर एक नीली पट्टी बांधी और 'जय भीम' के नारे भी लगाए. इलाके में महिला पुलिसकर्मियों सहित भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है. महिलाओं ने सीलमपुर को मौजपुर और यमुना विहार से जोड़ने वाली सड़क नंबर 66 को अवरुद्ध कर दिया है. अचानक विरोध-प्रदर्शन के कारण यातायात बाधित हो गया.
सड़क को खाली कराने के लिए पुलिस प्रदर्शनकारियों से बात करने की कोशिश कर रही है. सीएए के खिलाफ मुख्य सीलमपुर रोड और कर्दमपुरी के पास पहले से ही विरोध प्रदर्शन चल रहा है. जाफराबाद में ऐसे समय में प्रदर्शन हो रहे हैं जब शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों द्वारा अवरुद्ध एक सड़क को खाली करने का प्रयास किया जा रहा है.
शाहीनबाग में रास्ता खुला मगर राहत नहीं
नोएडा को दक्षिणपूर्वी दिल्ली और हरियाणा में फरीदाबाद तक जोड़ने वाली सड़क को शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन के मद्देनजर गत 15 दिसम्बर से बंद किया हुआ है. हाई कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों वरिष्ठ अधिवक्ताओं संजय हेगड़े तथा साधना रामचंद्रन और प्रदर्शनकारियों के बीच सड़कों को अवरूद्ध किये जाने से लोगों को हो रही समस्या को लेकर तीन दिन चली बातचीत के बाद यह घटनाक्रम सामने आया है. पुलिस के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज की ओर जाने वाली एक सड़क के एक छोटे हिस्से को खोला था ताकि स्थानीय लोग अपने दोपहिया वाहनों से वहां से गुजर सके.
एक अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा' से कहा कि नोएडा यातायात पुलिस हालांकि सड़क पर उत्तर प्रदेश की तरफ प्रतिबंधों को जारी रखे हुए है. एक प्रदर्शनकारी सोनू वारसी ने कहा, बार-बार यह आरोप लगाया जा रहा था कि प्रदर्शनकारियों ने नोएडा सेक्टर 37 की तरफ जाने वाली कालिंदी कुंज सड़क को अवरूद्ध किया हुआ है. इसलिए आज यह निर्णय लिया गया कि इस आरोप को खत्म किया जाना चाहिए और मार्ग को खोला गया.
अब यह दिल्ली पुलिस और उत्तर प्रदेश पुलिस को तय करना है कि वे किन वाहनों को अनुमति देंगे. इस रोड के खुलने से बटला हाउस, जैतपुर, जामिया नगर और होली फैमिली अस्पताल से फरीदाबाद जाने वालों को फायदा होगा. कालिंदी कुंज रोड से होकर वाया पुश्ता रोड फरीदाबाद आसानी से पहुंच सकेंगे लेकिन फरीदाबाद से दिल्ली आने वालों की मुश्किलें जस की तस हैं.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें