दिल्ली विधानसभा : नये 70 विधायकों में से 52 करोड़पति, इनमें ‘आप’ के 45

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

दिल्ली विधानसभा में चुन कर आये नये 70 विधायकों में से 52 करोड़पति हैं, जिनकी घोषित संपत्ति एक करोड़ रुपये या उससे अधिक है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक, मुंडका सीट से आप विधायक धरमपाल लाकड़ा सबसे अमीर विधायक हैं. उनके पास 292.12 करोड़ रुपये की संपत्ति है, जबकि सबसे कम 76 हजार 421 रुपये की संपत्ति आप विधायक राखी बिड़ला के पास है.

वहीं, आरकेपुरम विधानसभा से जीत कर आयीं प्रमिला टोकस की संपत्ति घट गयी है. 2015 में उनके पास 87.91 करोड़ की संपत्ति थी, जो अब 80.89 करोड़ हो गयी है. उधर, भाजपा के आठ विधायकों में से सात करोड़पति हैं. भाजपा के विधायकों की औसत संपत्ति 9.10 करोड़ रुपये है, जबकि आप के विधायकों की औसत संपत्ति 14.96 करोड़ रुपये है. नयी विधानसभा में करोड़पति विधायकों की संख्या भी बढ़ गयी है.

पिछली बार से आठ ज्यादा करोड़पति उम्मीदवार इस बार जीते

पार्टी 2020 2015

आप 45 41

भाजपा 07 03

सबसे अमीर धरमपाल लाकड़ा

धरमपाल लाकड़ा (आप)

सीट : मुंडका

292.12 करोड़

प्रमिला टोकस (आप) सीट : आरकेपुरम

80.89 करोड़

राजकुमार आनंद (आप)

सीट : पटेल नगर

78.91 करोड़

बिड़ला के पास सबसे कम संपत्ति

राखी बिड़ला (आप) सीट : मंगोलपुरी

76 हजार

संजीव झा (आप)

सीट : बुराड़ी

10.37 लाख

सोमदत्त (आप)

सीट : सदर बाजार

11.96 लाख

धनवती चंदेला (आप) सीट : राजौरी गार्डन

56.90 करोड़

नरेश बाल्यान (आप) सीट : उत्तम नगर

56.40 करोड़

भावना गौड़ (आप)

सीट : पालम

14.28 लाख

ऋतुराज झा (आप)

सीट : किराड़ी

14.88 लाख

आपराधिक रिकॉर्ड

पिछली बार से 19 ज्यादा

नये विधायकों में 43 ऐसे विधायक हैं, जिनके ऊपर आपराधिक मामले चल रहे हैं. 37 विधायकों पर रेप, हत्या की कोशिश जैसे गंभीर मामले चल रहे हैं. इनमें आप के 33 और भाजपा के चार विधायक हैं.

13 मामले सीएम अरविंद केजरीवाल पर दर्ज हैं

01 विधायक पर मर्डर की कोशिश का केस दर्ज

13 विधायकों पर महिला के खिलाफ अपराध का केस

सभी पुराने मंत्रियों को ही मिलेगा मौका

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद केजरीवाल सरकार के मंत्रिमंडल गठन के लेकर चर्चाएं तेज हो गयी है. संभावना है कि सरकार में कुछ नये चेहरों को शामिल किया जा सकता है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का मानना है कि सरकार और मंत्रियों के काम पर दोबारा जीत मिली है और उन्हीं को दोबारा मौका दिया जाना चाहिए. जानकारी के अनुसार, मंत्रियों के नाम की सूची राष्ट्रपति को भेज दी गयी है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें