CAB : गुवाहाटी में दो और लोगों की मौत, पुलिस गोलीबारी में मरने वालों की संख्या चार हुई

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

गुवाहाटी : असम के गुवाहाटी में गोली लगने से दो और लोगों की मौत हो गयी, जिससे संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन में मरने वालों की कुल संख्या चार हो गयी है.

गौहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के अधीक्षक रमन तालुकदार ने कहा कि एक व्यक्ति की मौत शनिवार की रात हुई, जबकि दूसरे व्यक्ति की रविवार की सुबह हुई. उन्होंने कहा, ईश्वर नायक की कल रात मौत हुई, जबकि अब्दुल अलीम की आज सुबह मौत हुई. उन्होंने कहा कि बुधवार से गोली लगने के कारण 27 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बहरहाल, प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि विवादास्पद कानून के खिलाफ आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीबारी में पांच लोगों की मौत हुई है. गुवाहाटी में बृहस्पतिवार को सैम स्टैफोर्ड और दीपांजल दाव की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. वहां हर गली-चौराहे पर सेना, अर्द्धसैनिक बल और राज्य पुलिस के जवान तैनात हैं.

बहरहाल प्रदर्शनकारी और अखिल असम छात्र संघ (आसू) का दावा है कि उस दिन गोली लगने से तीन लोगों की मौत हुई थी. आसू अध्यक्ष दीपांक कुमार नाथ ने कहा, उन्होंने (सरकार) ने लोगों का दमन करने के लिए अपने तंत्र को खुली छूट दे रखी है, जिसमें पांच नाबालिग छात्र मारे गए हैं और गोलियों से कई अन्य जख्मी हुए हैं. यह स्पष्ट है कि सर्वानंद सोनोवाल की सरकार को गिरा दिया जायेगा.

इस बीच, हिंसक प्रदर्शनों के मद्देनजर गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ जिले के कुछ हिस्सों में लगाये गये कर्फ्यू में रविवार को कुछ घंटों के लिए ढील दी गयी. पुलिस अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. असम पर्यटन विभाग ने रेलवे के सहयोग से विशेष ट्रेनों का प्रबंध किया है ताकि राज्य के विभिन्न हिस्सों में फंसे यात्रियों को उनके गंतव्य तक ले जाया जा सके. एक अधिकारी ने बताया कि गुवाहाटी में सुबह नौ बजे से शाम छह बजे तक कर्फ्यू में ढील दी गयी है. डिब्रूगढ़ पश्चिम के नहरकटिया और तेनुघाट क्षेत्रों में सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक कर्फ्यू में ढील दी गयी है. भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया कि कानून-व्यवस्था की समस्या के कारण छह उड़ान सेवाएं रद्द करनी पड़ी है, जिसमें भूटान के पारो जाने वाली उड़ान भी शामिल हैं.

कर्फ्यू में ढील के कारण दिसपुर, उजान बाजार, चांदमारी, सिलपुखुरी और जू रोड सहित कई स्थानों पर दुकानों के बाहर लंबी कतारें नजर आयीं. ऑटो-रिक्शा और साइकिल-रिक्शा सड़कों पर चलते दिखायी दिये. पेट्रोल पंप पर भी वाहनों की लंबी कतारें नजर आयी और पुलिस लोगों को इस ढील की जानकारी देने के लिए लाउडस्पीकरों का इस्तेमाल कर रही है. इस बीच, असम गण परिषद (एजीपी) की गुवाहाटी इकाई के सदस्यों ने अंबारी में पार्टी मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और पार्टी अध्यक्ष अतुल बोरा समेत तीन मंत्रियों के इस्तीफे की मांग की. संसद में एजीपी के सदस्यों ने इस विवादित विधेयक के समर्थन में मतदान किया था. छात्र संगठनों अखिल असम छात्र संघ (आसू)और असम जातीयताबादी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) ने भी इस कानून के विरोध में राज्यभर में रैलियां निकालीं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें