27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

चौथी तिमाही में 6.5 फीसदी तक रह सकती है जीडीपी ग्रोथ रेट, इंडिया रेटिंग्स का अनुमान

GDP Growth: भारतीय अर्थव्यवस्था 2023-24 की जून की तिमाही में 8.2 फीसदी, सितंबर की तिमाही में 8.1 फीसदी और दिसंबर की तिमाही में 8.4 फीसदी की दर से बढ़ी है. चौथी तिमाही की ग्रोथ रेट 6.2 फीसदी होगी.

GDP Growth Of India: भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि के आंकड़े 31 मई 2024 तक सरकार की ओर से जारी कर दिए जाएंगे. इससे पहले, देश-दुनिया की रेटिंग एजेंसियों ने आर्थिक वृद्धि को लेकर अनुमान जाहिर करना शुरू कर दिया है. 31 मई तक मार्च 2024 को समाप्त हुई चौथी तिमाही के साथ-साथ वित्त वर्ष 2023-24 के आर्थिक वृद्धि के आंकड़े पेश किए जाएंगे. इस बीच, रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स की ओर से अनुमान जाहिर किया गया है कि चौथी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 6.2 फीसदी रह सकता है. वहीं, वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान जीडीपी ग्रोथ 7 फीसदी तक रहने की उम्मीद है.

31 मई को जीडीपी ग्रोथ का अनुमान जारी करेगी सरकार

इंडिया रेटिंग्स के प्रमुख सुनील कुमार सिन्हा ने अनुमान जाहिर किया है कि चौथी तिमाही में भारत के जीडीपी ग्रोथ 6.2 फीसदी रहने की उम्मीद है. इसके साथ ही, उन्होंने अपने अनुमान में यह भी कहा है कि वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान भारत का आर्थिक वृद्धि दर (जीडीपी ग्रोथ) करीब 7 फीसदी तक रह सकती है. सरकार जनवरी से मार्च तक की चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 2023-24 के लिए जीडीपी वृद्धि के शुरुआती अनुमान 31 मई को जारी करेगी.

वित्त वर्ष 2023-24 में 6.9 से 7 फीसदी रहेगी जीडीपी ग्रोथ रेट

भारतीय अर्थव्यवस्था 2023-24 की जून की तिमाही में 8.2 फीसदी, सितंबर की तिमाही में 8.1 फीसदी और दिसंबर की तिमाही में 8.4 फीसदी की दर से बढ़ी है. इंडिया रेटिंग्स के अर्थशास्त्री सुनील कुमार सिन्हा ने कहा कि हम उम्मीद कर रहे हैं कि चौथी तिमाही की ग्रोथ रेट 6.2 फीसदी होगी और वित्त वर्ष 2023-24 के लिए कुल जीडीपी वृद्धि दर करीब 6.9 से 7 फीसदी के बीच रहेगी.

भारत का दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का मतलब सिर्फ एक आंकड़ा नहीं : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

पहली दो तिमाहियों में मिला फायदा

उन्होंने कहा कि पहली दो तिमाहियों में ग्रोथ रेट को कम आधार का फायदा मिला. हालांकि, तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर 2023) के बीच 8.4 फीसदी की ग्रोथ रेट आश्चर्यजनक थी. उन्होंने कहा कि जब हम आंकड़ों का विश्लेषण करते हैं, तो पता चलता है कि जीवीए और जीडीपी के बीच अंतर है. तीसरी तिमाही में जीडीपी को एक बड़ा प्रोत्साहन रिकॉर्ड टैक्स कलेक्शन से मिला है, लेकिन चौथी तिमाही में ऐसा होने की संभावना नहीं है.

आ गया एसबीआई म्यूचुअल फंड का पहला ऑटो फंड, 31 मई तक निवेश करने का मौका

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें