1. home Home
  2. world
  3. pakistani information minister fawad chaudhry said garlic is adrak video viral on social media vwt

पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने 'गार्लिक' को बताया 'अदरक', अब सोशल मीडिया पर वीडियो हो रहा वायरल

पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी की ओर से महंगाई पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के वीडियो का एक क्लिप माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर शेयर किया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी.
पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी.
फोटो : ट्विटर.

नई दिल्ली : आतंकियों को पालने-पोसने वाले और भुखमरी के शिकार पाकिस्तान का सोशल मीडिया पर एक बार फिर जमकर मजाक़ उड़ रहा है. इस बार पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने महंगाई को लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान 'गार्लिक' का अनुवाद करने में गड़बड़ा गए. मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने अंग्रेजी के 'गार्लिक' का मतलब 'अदरक' बता दिया. प्रेस कॉन्फ्रेंस में फवाद चौधरी ने कहा कि गार्लिक का मतलब अदरक होता है. अब उनका गार्लिक का मतलब समझाने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.

पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी की ओर से महंगाई पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के वीडियो का एक क्लिप माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर शेयर किया गया है. इस क्लिप में वह 'गार्लिक' का मतलब समझाते हुए दिखाई दे रहे हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि 'गार्लिक' का मतलब अदरक होता है. हालांकि, इस दौरान कई लोगों ने टोका-टाकी करते हुए कहा भी कि 'गार्लिक' का मतलब लहसून होता है, लेकिन वे अपने बयान पर अड़े रहे और कहा कि नहीं, 'गार्लिक' का मतलब अदरक ही होता है.

बता दें कि अंग्रेजी के शब्द 'गार्लिक' का हिंदी अनुवाद लहसून होता है, जबकि अंग्रेजी के 'जिंजर' को हिंदी में अदरक कहा जाता है. गार्लिक और जिंजर शब्द का हिंदी मतलब बच्चों को पढ़ाई के दौरान निचली कक्षाओं में बता या रटा दिया जाता है. अब पाकिस्तान के पढ़े-लिखे विद्वान सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ही अंग्रेजी के 'गार्लिक' यानी लहसून को जिंजर यानी अदरक बताने पर आमादा हैं, तो लगे हाथ उनसे जिंजर का हिंदी अनुवाद भी पूछ ही लेना चाहिए था.

अब जबकि सोशल मीडिया पर उनके इस ज्ञान को लेकर मजाक़ उड़ाया जा रहा है, तो उनके कई चहेतों ने बचाव में मोर्चा भी संभाल लिया है. बचाव में उनके चहेते यह तर्क दे रहे हैं कि कई लोगों से अंग्रेजी के 'गार्लिक' और 'जिंजर' के हिंदी अर्थ में फर्क करने में गड़बड़ी हो ही जाती है. वे 'गार्लिक' को 'जिंजर' और 'जिंजर' को 'गार्लिक' समझ लेते हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें