1. home Hindi News
  2. world
  3. covid 19 russia to make 200 million doses of coronavirus vaccine in 2020 coronavirus pandemic

Covid-19: कोरोनावायरस वैक्सीन की 20 करोड़ डोज 2020 में ही बनायेगा रूस

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Coronavirus Vaccine
Coronavirus Vaccine
File Photo

मॉस्को : कोरोनावायरस महामारी के इस दौर में इसका वैक्सीन बनाने के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिक लगे हुए हैं. इस बीच रूस ने वैक्सीन बना लेने का दावा किया है और कहा है कि 2020 के अंत तक वह इस वैक्सीन की 20 करोड़ डोज तैयार करेगा. रूस अपने देश के लिए करीब 3 करोड़ डोज तैयार करेगा. इसके साथ ही वह विदेशों में सप्लाई के लिए भी 17 करोड़ डोज तैयार करेगा. इस साल के अंत तक इसको दुनिया के कई देशों में एप्रूवल मिलने की उम्मीद जतायी गयी है.

रशिया डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड के हेड किरिल दिमित्रीव ने बताया है कि इस हफ्ते एक महीने तक 38 लोगों पर किया गया पहला ह्यूमन ट्रायल पूरा हो गया है. शोधकर्ताओं ने पाया यह वैक्सीन इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है और यह शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित कर रही है. अगले महीने से इसे रूस और फिर सितंबर में दूसरे देशों में अप्रूवल मिलने के साथ ही उत्पादन पर काम शुरू हो पायेगा.

किरिल दिमित्रीव ने बताया कि अगस्त में देश के हजारों लोगों के ऊपर तीसरे चरण का ट्रायल होना है. इससे पहले 3 अगस्त तक 100 लोगों पर ट्रायल को पूरा किया जायेगा. मौजूदा नतीजों के आधार पर हमें भरोसा है कि इसे रूस में अगस्त 2020 में अप्रूव कर दिया जायेगा और कुछ और देशों में सितंबर 2020 में जिससे यह पूरी दुनिया में अप्रूव होने वाली पहली वैक्सीन बन जायेगी.

उनका कहना है कि तीसरे चरण का ट्रायल रूस के अलावा मिडिल ईस्ट के दो देशों में किया जायेगा. इसके लिए रूस सऊदी अरब से बात कर रहा है. सऊदी से इसके उत्पादन में भी साथ देने की बात की जा रही है. आपको बता दें कि इसी महीने रूस ने यह दावा किया था कि उनके वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है. रूसी समाचार एजेंसी स्पुतनिक ने अनुसार, इंस्टिट्यूट फोर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के डायरेक्टर वादिम तरासोव ने कहा, 'दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है.'

रूस ने कहा था कि मॉस्को स्थित सरकारी मेडिकल यूनिवर्सिटी सेचेनोफ ने ये ट्रायल किये और पाया कि ये वैक्सीन इंसानों पर सुरक्षित है. जिन लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल किया गया है, उनके एक समूह को 15 जुलाई और दूसरे समूह को 20 जुलाई को अस्पताल से छुट्टी दी जायेगी. यूनिवर्सिटी ने 18 जून को रूस के गेमली इंस्टिट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा निर्मित इस वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल शुरू किये थे.

Posted by: Amlesh Nandan Sinha.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें