कुमारमंगलम पार्क में तोड़फोड़ की घटना को लेकर चढ़ा राजनीतिक पारा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

दुर्गापुर : शहर के टाउनशिप इलाके में स्थित कुमारमंगलम पार्क में तोड़-फोड़ की घटना को लेकर राजनीति शुरू हो गयी है. इसके लेकर राजनीतिक पार्टियों एक-दूसरे पर दोषारोप कर रही है. कुछ लोग इसे भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच बढ़ रहे विवाद को जिम्मेदार ठहराया है.

जानकारों का कहना है कि तृणमूल कांग्रेस द्वारा पार्क में अपनी पैठ जमाने और भाजपा की पैठ खत्म करने के लिए यह किया गया है. इस संबंध में सीटू नेता सौरभ दत्ता ने कहा कि कुमारमंगलम पार्क डीएसपी का है, लेकिन इस पर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस अपना कब्जा बनाने की कोशिश रहे हैं.
उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि इस घटना के लिए भाजपा व तृणमूल कांग्रेस के साथ-साथ पुलिस प्रशासन और डीएसपी प्रबंधन भी ज़िम्मेवार है. कोई इससे पल्ला नहीं झाड़ सकता है. उन्होने कहा कि पार्क को लेकर डीएसपी प्रबंधन का रवैया उदासीन रहा है.
उन्होंने कहा कि डीएसपी को तुरंत प्रशासन और कानून की मदद से पार्क को अपने स्वयं के कब्जे में लेना चाहिए और श्रमिक परिवार को एक वास्तविक उपहार देना चाहिए. वहीं, कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष देवेश चक्रवर्ती ने कहा कि शहर दुर्गापुर अब धीरे-धीरे अपनी पहचान खोता जा रहा है. दुर्गापुर नगर निगम चुनाव के बाद शहर अशांत हो रहा है. इस चुनाव के बाद शहर में हथियार का उपयोग आम हो गया है. उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि शहर में इतना हथियार कहां से आ रहा है.
पुलिस पूरी तरह से निष्क्रिय बनी हुई है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि आज की घटना भी पुलिस के सामने हुई और पुलिस मूकदर्शक बन कर तमाशा देखती रही. वहीं, उन्होंने इस घटना के लिए डीएसपी प्रबंधन को भी ज़िम्मेवार ठहराते हुए कहा कि प्रबंधन पार्क को लेकर उदासीन बना हुआ है, जिसके कारण पार्क आज राजनीति का अखाड़ा बन गया है.
इस बाबत भाजपा के जिला सचिव प्रदीप मण्डल ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए इसे तृणमूल कांग्रेस की सोची समझी साजिश करार दिया. उन्होंने कहा कि इस घटना को लेकर पुलिस के पास शिकायत दर्ज की गयी है. पार्टी की ओर से इस घटना से जुड़े लोगों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की गयी है.
यदि पुलिस मारपीट करने और गोली चलाने वाले पर कार्रवाई नहीं करती है तो जोरदार आंदोलन किया जायेगा. उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के शय पर अवैध तरीके से पार्क में कार्यक्रमों के आयोजन की तैयारी हो रही थी, जिसका विरोध करने का खामियाजा पार्क प्रबंधन को उठाना पड़ा.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें