16.1 C
Ranchi
Friday, February 23, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeराज्यउत्तर प्रदेशदेश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेसवे पर कुंभ से पहले दौड़ेंगे वाहन, वेस्ट यूपी से जुड़ेगा ईस्ट यूपी, जानें...

देश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेसवे पर कुंभ से पहले दौड़ेंगे वाहन, वेस्ट यूपी से जुड़ेगा ईस्ट यूपी, जानें खासियत

गंगा एक्सप्रेसवे पर कुंभ मेले से पहले वाहन दौड़ाने की तैयारी है. इसके लिए पीएमओ ने कार्यदायी संस्था को निर्देश से दिए गए हैं. मेरठ से शुरू होने वाला गंगा एक्सप्रेसवे 596 किलोमीटर लंबा है. एक्सप्रेसवे के निर्माण पर करीब 36 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे. यह वेस्ट यूपी से ईस्ट यूपी को जोड़ेगा.

बरेली : हिंदुस्तान के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेसवे पर 2025 में आयोजित होने वाले कुंभ मेले से पहले वाहन दौड़ाने की तैयारी है. इसके लिए पीएमओ ने कार्यदायी संस्था को निर्देश से दिए गए हैं, जिसके चलते निर्माण कार्य की गति को बढ़ा दिया गया है. मेरठ से शुरू होने वाला गंगा एक्सप्रेसवे 596 किलोमीटर लंबा है. एक्सप्रेसवे के निर्माण पर करीब 36 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे. यह यूपी के मेरठ से शुरू होने के बाद 12 जिलों से गुजरकर इलाहाबाद (प्रयागराज) पहुंचेगा. उन्नाव में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से लिंक होगा. जमीन अधिग्रहण और पर्यावरण समेत सभी विभागों से एनओसी पहले ही मिल गई है. गंगा एक्सप्रेसवे मेरठ के बिजौली गांव से शुरू होकर प्रयागराज के जूडापुर गांव से जुड़ेगा. ये हाईवे एक तरह से पश्चिमी यूपी से पूर्वांचल को कनेक्ट करेगा.

जमीन अधिग्रहण का काम हो चुका है पूरा

इसके लिए जमीन का अधिग्रहण पूरा हो गया है. यह एक्सप्रेसवे यूपी के बारह जिलों मेरठ, हापुड़, बुलन्दशहर, अमरोहा, संभल, बदांयू , शाहजहॉंपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और रायबरेली से होकर गुजरेगा. यह यूपी के 12 जिलों और 519 गांवों को जोड़ेगा. इस पर चलने वाले वाहनों की अधिकतम रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटा तय की गई है. पीएम नरेंद्र मोदी 18 दिसंबर 2021 को शाहजहांपुर के रोजा रेलवे ग्राउंड में गंगा एक्सप्रेसवे की संग-ए-बुनियाद (शिलान्यास) रख चुके हैं. एक्सप्रेसवे की लंबाई मेरठ में 15 किमी,  हापुड़ में 33 किमी, बुलंदशहर में 11 किमी, अमरोहा में 26 किमी, संभल में 39 किमी, बदायूं में 92 किमी, शाहजहांपुर में 40 किमी, हरदोई में 99 किमी, उन्नाव में 105 किमी, रायबरेली में 77 किमी, प्रतापगढ़ में 41 किमी और प्रयागराज में 16 किलोमीटर होगी.

Also Read: बरेली-लखनऊ का सफर हुआ महंगा, मैगलगंज टोल प्लाजा पर वाहनों से वसूली शुरू, यहां देखें रेट लिस्ट
एक्सप्रेसवे पर रहेगा 17 टोल प्लाजा

गंगा एक्सप्रेसवे के अंतर्गत 14 बड़े पुल, 126 छोटे पुल, 929 पुलिया, 7 आरओबी, 28 फ्लाईओवर और 8 डायमंड इंटरचेंज का निर्माण शुरू हो गया है. गंगा नदी पर एक किलोमीटर लंबा और रामगंगा नदी पर 720 मीटर लंबा पुल बनाया जाएगा. गंगा एक्सप्रेसवे पर मेरठ और प्रयागराज में 2 मुख्य टोल प्लाजा होंगे. इसके अलावा रास्ते में 15 रैंप टोल प्लाजा भी बनेंगे. पशुओं की आवाजाही रोकने के लिए कंक्रीट चारदीवारी बनाई जाएगी.

चार ग्रुप में बांटा एक्सप्रेसवे का काम

इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कमिश्नर (आईआईडीसी) संजीव मित्तल की अध्यक्षता में गठित कमेटी के सामने पिछले वर्ष दो दिसंबर की देर शाम फाइनेंशियल बिड खोली गई थी. करीब 36 हजार करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए कुल तीन कंपनियों ने बोली लगाई थी. इसे चार ग्रुप में बांटा गया था. इसमें से तीन को पूरा करने की जिम्मेदारी अडानी ग्रुप को मिली है, जबकि मेरठ से अमरोहा तक का काम आईआरबी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स को मिला है. मेरठ से अमरोहा तक 129 किमी के खंड के लिए आईआरबी ने 1782 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी. हरदोई से बदायूं के 151 किमी लंबे खंड के लिए अडानी समूह ने 1950 करोड़ रुपये, हरदोई से उन्नाव तक के 155 किमी खंड के लिए 2197 करोड़ रुपये और उन्नाव से प्रयागराज तक के 156 किमी लंबे खंड के लिए 2099 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी.

मेरठ से हापुड़ तक 40 फीसद काम पूरा

इस प्रोजेक्ट को 2024 के मध्य तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था. बिजौली गांव के पास इंटरचेंज का निर्माण भी चल रहा है. इसमें 40 से अधिक खंभे तैयार किए जा चुके हैं. कंस्ट्रक्शन कंपनी को कुंभ 2025 से पहले मई तक इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का निर्देश दिया गया है.

गंगा एक्सप्रेसवे पर होने वाले प्रमुख कार्य

  • शाहजहांपुर में एक्सप्रेस-वे पर हवाई पट्टी (3.5 किमी लंबी) बनेगी, यहां से आपात स्थिति में वायुसेना के विमान उतर और उड़ान भर सकेंगे.

  • गंगा एक्सप्रेस वे के मेरठ और प्रयागराज में मुख्य टोल प्लाजा होंगे.

  • मुख्य टोल प्लाजा के अलावा 12 अतिरिक्त रैम्प टोल प्लाजा होंगे.

  • बोली लगाने वाले का चयन 30 वर्ष की अवधि के लिए किया गया है.

  • गंगा एक्सप्रेस वे के किनारे उपयुक्त स्थानों पर इंडस्ट्रियल क्लस्टर चिन्हित किए जाएंगे.

  • गंगा एक्सप्रेस वे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, यमुना एक्सप्रेसवे और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को कनेक्टिविटी प्रदान करेगा.गंगा एक्सप्रेस वे पूर्वी यूपी से राष्ट्रीय राजधानी तक सीधी कनेक्टिविटी भी सुनिश्चित करेगा.

रिपोर्ट : मुहम्मद साजिद, बरेली

Also Read: Army Bharti Rally 2023: जाट रेजिमेंटल सेंटर बरेली में हेडक्वार्टर्स कोटा में सेना भर्ती रैली 4 दिसंबर से

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें