1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. vhp to hold programmes to celebrate supreme court verdict on ram temple

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का जश्न मनाने की तैयारी में VHP, देशभर में 25 मार्च से कार्यक्रम

By amitabh.kumar@prabhatkhabar.in
Updated Date

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का जश्न मनाने की तैयारी विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) कर रहा है. इसके लिए देशभर में कार्यक्रम आयोजित करने का खाका बनाया जा रहा है. विहिप की ओर से कहा गया है कि वह देश में 200 से अधिक स्थानों पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर राम जन्मभूमि मामले में कोर्ट से मिली “जीत” का जश्न मनाएगा. ये कार्यक्रम 25 मार्च से आठ अप्रैल के बीच आयोजित किये जाएंगे.

दक्षिणपंथी संगठन ने केंद्र से दिल्ली में “हिंदू समुदाय के खिलाफ” दंगे में संलिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई का भी आग्रह किया है. आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल नवंबर में सुनाये अपने फैसले में अयोध्या में राममंदिर निर्माण का रास्ता साफ किया था. कोर्ट के आदेशानुसार मंदिर निर्माण के लिए पिछले महीने 15 सदस्यीय एक न्यास का गठन किया था.

वीएचपी महासचिव मिलिंद परांदे ने कहा कि वीएचपी द्वारा एक लंबी लड़ाई का नेतृत्व करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने हमारे पक्ष में फैसला सुनाया था. अब जब केंद्र ने एक स्वतंत्र न्यास का गठन कर दिया है तब हमें उम्मीद है कि अयोध्या में शीघ्र ही भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा. उन्होंने कहा कि राम मंदिर के पक्ष में कोर्ट के निर्णय को लेकर हम 25 मार्च से आठ अप्रैल के बीच वृहद स्तर पर जश्न मनाएंगे. हम बड़ी रथयात्राएं निकालेंगे, 1992 से 1994 के बीच कारसेवा में हिस्सा लेने वालों के लिए सम्मान कार्यक्रम आयोजित करेंगे और दो सौ से अधिक स्थानों पर कार्यक्रम करेंगे.

यह पूछे जाने पर कि क्या कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए वीएचपी अपने तयशुदा कार्यक्रम आयोजित करेगा, परांदे ने कहा कि आवश्यक स्वास्थ्य एहतियात बरतने के बाद सभी कार्यक्रम आयोजित होंगे. शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन और दिल्ली में हुई हिंसा पर पूछे गये प्रश्न के जवाब में परांदे ने कहा कि विरोध प्रदर्शन “हिन्दू विरोध” में तब्दील हो चुके हैं और राजधानी में हुए दंगों में कई हिन्दुओं ने अपनी जान गंवाई.

परांदे ने कहा कि दिल्ली की आप सरकार और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी को करदाताओं के पैसे से मुस्लिम मौलवियों को वेतन देना बंद करना चाहिए.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें