1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. 4 deaths a week stirred up varanasi pandeypur mental hospital nrj

वाराणसी के पांडेयपुर मानसिक चिकित्सालय में एक हफ्ते में 4 मौतों से हड़कंप, जांच के बाद होगा खुलासा

दोपहर में आजमगढ़ सीजेएम के यहां से भेजे गए एक मरीज के मौत की भी सूचना मिल रही हैं. इसके अलावा मरीज राहुल उम्र 26 वर्ष उसकी भी मौत विगत दिनों हुई है. उसके अगले दिन बस्ती के मरीज दिलीप मिश्रा उम्र 34 वर्ष की भी मौत हो गई. लगातार 4 मौतें होने के बाद अस्पताल प्रशासन कठघरे में खड़ा हो गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
वाराणसी का पांडेयपुर स्थित मानसिक चिकित्सालय.
वाराणसी का पांडेयपुर स्थित मानसिक चिकित्सालय.
Prabhat Khabar

Varanasi News: वाराणसी के पांडेयपुर स्थित मानसिक चिकित्सालय में एक हफ्ते में 4 मौतें होने से हड़कंप मच गया है. एक साथ चार मौतें होने से जिला प्रशासन भी सकते में आ गया है. ऊपर से मृत होने वाले लोगों के परिजनों ने भी अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है.

अचानक क्‍यों हो रही चर्चा?

इस तरह की घटना से अस्पताल प्रशासन पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं कि आखिर ऐसा क्या हो रहा है कि एक के बाद एक कैदियों और भर्ती मानसिक रोगियों की मौत हो जा रही हैं. इस पूरी घटना की सूचना जिलाधिकारी तक पहुंची है. उन्होंने इसे गम्भीरता से लेते हुए जांच कराने हेतु एडीएम प्रोटोकॉल व सीएमओ की टीम गठित की है. मानसिक रोगी श्रेया सारनाथ निवासिनी जिसकी उम्र 34 वर्ष थी उसे 26 मई को यहां भर्ती कराया गया था, जिसकी 14 जून मंगलवार को मृत्यु हो गई थी. परिजनों ने अस्पताल की निदेशक लिली श्रीवास्तव समेत जांच करने वाले चिकित्सकों पर आरोप उठाते हुए अस्पताल में हंगामा किया. सूचना पाकर अर्दली बाजार चौकी इंचार्ज तरुण कश्यप ने मामले को संभाला.

जांच के बाद छंटेंगे बादल

दोपहर में आजमगढ़ सीजेएम के यहां से भेजे गए एक मरीज के मौत की भी सूचना मिल रही हैं. इसके अलावा मरीज राहुल उम्र 26 वर्ष उसकी भी मौत विगत दिनों हुई है. उसके अगले दिन बस्ती के मरीज दिलीप मिश्रा उम्र 34 वर्ष की भी मौत हो गई. लगातार 4 मौतें होने के बाद अस्पताल प्रशासन कठघरे में खड़ा हो गया है. इस तरह की घटनाओं से जिनके मरीज अस्पताल में है उनके परिजन अब सशंकित हो कर अस्पताल को देख रहे हैं. लोगों का आरोप है कि अस्पताल कर्मी यहां जमकर मनमानी करते हैं. ओपीडी में दिखाए जाने वाले ज्यादातर मरीजों को यहां बाहर की दवा लिखी जाती हैं. फ‍िलहाल, जिलाधिकारी द्वारा गठित टीम की जांच के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा कि ऐसा क्यों हो रहा है?

रिपोर्ट : विप‍िन स‍िंह

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें