1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand weather forecast monsoon 2021 rain and thunderstorm till august 4 forecast of meteorologists grj

झारखंड में कब तक होगी बारिश, कैसी है Monsoon की स्थिति, मौसम वैज्ञानिकों का ये है पूर्वानुमान

बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव (Low pressure in Bay of Bengal) का क्षेत्र बने रहने के कारण झारखंड में बारिश हो रही है. सुबह से ही राजधानी रांची में रिमझिम बारिश हो रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार चार अगस्त तक रुक-रुक कर बारिश हो सकती है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand Weather Forecast : चार अगस्त तक रुक-रुक कर हो सकती है बारिश
Jharkhand Weather Forecast : चार अगस्त तक रुक-रुक कर हो सकती है बारिश
प्रभात खबर

Jharkhand Weather Forecast, रांची न्यूज : बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव (Low pressure in Bay of Bengal) का क्षेत्र बने रहने के कारण झारखंड में बारिश हो रही है. सुबह से ही राजधानी रांची में रिमझिम बारिश हो रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार चार अगस्त तक रुक-रुक कर बारिश हो सकती है.

बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र (Low pressure area in Bay of Bengal) बने रहने के कारण इसका व्यापक असर बांग्लादेश, बंगाल, झारखंड और बिहार में पड़ा है. इससे आकाश में बादल (clouds in the sky) छाये रहेंगे और अगले तीन-चार दिनों तक हल्के और मध्यम दर्जे की बारिश (light to moderate rain) होने की संभावना है. मौसम विभाग (weather department) के अनुसार झारखंड में चार अगस्त तक कई इलाकों में रुक-रुक कर बारिश होती रहेगी.

आपको बता दें कि गुरुवार को झारखंड के कई जिलों में बारिश हुई. रांची में लगभग 12 मिमी बारिश हुई. मौसम वैज्ञानिक (meteorologist) के अनुसार झारखंड में मानसून (monsoon) की स्थिति सामान्य रही. झारखंड में चार अगस्त तक बारिश हो सकती है. हालांकि, तापमान में बड़ा बदलाव नहीं होगा. गुरुवार को लातेहार, पलामू, जामताड़ा, खूंटी, हजारीबाग, गुमला में भी अच्छी बारिश हुई.

मौसम वैज्ञानिकों ने मौसम खराब होने पर सुरक्षित स्थान पर रहने की अपील की है. खासकर खेत में काम कर रहे किसान भाइयों से अपील की है कि मौसम खराब रहने पर पेड़ के नीचे नहीं रहे. सुरक्षित स्थान पर पहुंच जाएं.

मौसम विभाग के अनुसार, रांची में जुलाई में हर वर्ष अच्छी बारिश हुई है. 2017 में पूरे माह 666.4 मिमी वर्षा हुई. इसके अलावा वर्ष 2010 में 224.3 मिमी, 2011 में 211.3 मिमी, 2012 में 279.8 मिमी, 2013 में 268.3 मिमी, 2014 में 325 मिमी, 2015 में 356.8 मिमी, 2016 में 609.4 मिमी, 2018 में 389.7 मिमी व 2019 में 213.8 मिमी बारिश हुई.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें