1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand language dispute congress in charge avinash pandey said efforts are being made to divert attention from the issues srn

झारखंड में भाषा विवाद पर बोले कांग्रेस प्रभारी मुद्दों से ध्यान भटकाने का हो रहा प्रयास, न हो राजनीतिकरण

भाषा विवाद मामले पर कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा है कि यह एक गंभीर मामला है जिस पर राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ऐसा किया जा रहा है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
अविनाश पांडेय
अविनाश पांडेय
File Photo

रांची: कांग्रेस के झारखंड प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय ने प्रदेश में सुलग रहे भाषा संबंधित विवाद को लेकर कहा है कि भाषा के मुद्दे पर कांग्रेस हमेशा तठस्थ रही है. कांग्रेस ने जाति, धर्म, भाषा से उपर उठकर हमेशा सबका सम्मान किया है. उन्होंने दुमका के इंडोर स्टेडियम में संताल परगना के पार्टी पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं के साथ संवाद के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि भाषा का उपयोग लोगों को जोड़ने व संवाद करने के लिए होता है.

राजनीति के लिए नहीं. सबसे सरल राष्ट्रभाषा हिंदी है. इससे ज्यादा से ज्यादा समस्याएं सुलझ सकती है. हालांकि क्या कमियां हैं, उस पर विचार होना चाहिए. श्री पांडेय ने कहा कि झारखंड में जरूरत है युवाओं को नौकरी देने की. उनके बाैद्धिक व आर्थिक विकास पर काम करने की. कमी है, तो हमारी गठबंधन की यह सरकार उसे दूर करेगी.

उन्होंने कहा:

कांग्रेसी होने के नाते और एक भारतीय होने के नाते मेरा मानना है कि इस भाषा के विवाद का राजनीतिकरण न हो. लगता है इस मुद्दे को षड्यंत्र के तहत भड़काया जा रहा है. जो लोग आवाज उठा रहे हैं, चाहे वे पक्ष के हों या विपक्ष के, नुकसान तो यहां के युवाओं का हो रहा है.

ध्यान भटकाने का प्रयास :

महंगाई-बेरोजगारी, नौकरी के अवसर, स्वास्थ्य संबंधी सुधार उन सबसे ध्यान भटकाने के लिए ऐसा किया जा रहा है. मैं यह नहीं कहता कि भाषा संबंधित बातें महत्वपूर्ण नहीं हैं, भाषा संबंधित बातें भी महत्वूपर्ण है. झारखंड का युवा वर्ग समझदार है. इसका भी रास्ता जरूर निकलेगा. उन्होंने कहा कि झारखंड में स्थानीय नीति को लेकर उठ रही आवाज को लेकर पार्टी अपने स्तर से अध्ययन कर रही है.

Posted By: Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें