35.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

प्रभात खबर से खास बातचीत में बोली गीता कोड़ा- मधु कोड़ा के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंकनेवालों की दुकान अब बंद

गीता कोड़ा ने कहा कि राजनीति में शुचिता बनी रहनी चाहिए. विपक्ष का यह कहना कि भाजपा में चले जाने से मामले समाप्त हो जायेंगे, उचित नहीं होगा.

रांची/ जमशेदपुर : कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुईं चाईबासा की सांसद गीता कोड़ा ने कहा है कि झारखंड का गठन जिस उद्देश्य से हुआ, वह आज तक पूरा नहीं हो पाया है. झारखंडियों को जो हक मिलना चाहिए, उससे उन्हें वंचित किया जा रहा है. सत्ता में बैठे लोग स्वार्थ की राजनीति कर रहे हैं. पूर्व मुख्यमंत्री व उनके पति मधु कोड़ा के नाम पर काफी लोगों ने राजनीतिक रोटियां सेंकी, लेकिन अब समय उन्हें इसकी इजाजत नहीं देगा. उनकी दुकान बंद हो चुकी है. प्रभात खबर से बातचीत में गीता कोड़ा ने कहा कि झारखंड के विकास की एकमात्र उम्मीद उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दिखायी पड़ी, इसलिए उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ने का फैसला किया.

भाजपा में शामिल होना गौरव व अवसर दोनों :

गीता कोड़ा ने कहा कि भाजपा में शामिल होना जहां एक ओर चुनौती है, वहीं गौरव व अवसर की भी बात है. पीएम मोदी के नेतृत्व में चुनौतियों को सामना करने में उन्हें अधिक परेशानी नहीं होगी, बल्कि नयी योजनाओं पर काम कर वे समग्र विकास का खाका खीचेंगी. जब मोदी हैं, तो सब संभव हो जायेगा. झारखंड में अपने लोगों के लिए काफी काम करना है. यह तभी संभव हो पायेगा, जब समाज और इसके विकास के बारे में सोचने वाले लोग साथ बैठें, एक जैसे समावेशी कार्यक्रम तय करें और उन्हें धरातल पर उतारने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति से काम करें.

पति पर राजनीतिक कारणों से दर्ज कराये गये दर्जनों मामले :

गीता कोड़ा ने कहा कि राजनीति में शुचिता बनी रहनी चाहिए. विपक्ष का यह कहना कि भाजपा में चले जाने से मामले समाप्त हो जायेंगे, उचित नहीं होगा. झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के खिलाफ 2009 में एक नहीं, दर्जनों मामले राजनीतिक कारणों से दर्ज किये गये. सभी झूठ की बुनियाद पर थे. उस वक्त परिवार काफी परेशानियों में रहा, लेकिन उन्हें देश की न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है. कई मामलों में उन्हें सीबीआइ समेत कई अन्य एजेंसियां क्लीनचिट दे चुकी हैं.

भाजपा जैसा मजबूत संगठन किसी दल के पास नहीं :

सांसद गीता कोड़ा ने कहा कि जिस तरह भाजपा में संगठन काम करता है, वैसा किसी भी अन्य दल में नहीं दिखता. उनके भाजपा में शामिल होने पर संगठन मजबूत होगा. कांग्रेस पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष और मौजूदा सांसद होने के बावजूद उनकी सीट पर पैरलल प्रत्याशी की घोषणा करना, उसका समर्थन करना उन्हें आश्चर्य में डालता था. इसका सहयोगी दल के लोग भी विरोध नहीं करते थे. ऐसी स्थिति मेरे लिए अपमानजनक दिखती थी.
कांग्रेस को सिर्फ एक परिवार की चिंता

गीता कोड़ा ने कहा कि फिलवक्त वे अकेली ही कांग्रेस को छोड़कर भाजपा में शामिल हुई हैं. निकट भविष्य में और कौन-कौन लोग आयेंगे, यह आनेवालों का विवेक और वक्त तय करेगा. कांग्रेस में सिर्फ लोगों को एक ही परिवार की चिंता है. प्रदेश संगठन किस स्थिति में है, यह किसी से छिपा हुआ नहीं है. कहा कि तुष्टिकरण की राजनीति से देश और समाज का भला नहीं हो सकता है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें