1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. corona warrior mohit chopra of ranchi has donated plasma 10 times rims doctors are also surprised about the titer level read the story of plasma danveer of jharkhand grj

रांची के कोरोना योद्धा मोहित चोपड़ा ने 10 बार किया प्लाज्मा दान, टाइटर लेवल को लेकर रिम्स के डॉक्टर्स भी हैं हैरान, पढ़िए प्लाज्मा दानवीर की कहानी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Jharkhand News : मोहित चोपड़ा ने 10 बार किया प्लाज्मा दान
Jharkhand News : मोहित चोपड़ा ने 10 बार किया प्लाज्मा दान
फाइल फोटो

Corona Warrior, Plasma donor Covid, रांची न्यूज (राजीव पांडेय) : कोरोना संक्रमितों के इलाज में प्लाज्मा को एक अहम हथियार माना जा रहा है. ऐसे में कोरोना विजेताओं के शरीर में वायरस से लड़ने को लेकर प्लाज्मा के रूप में जो प्रतिरोधक क्षमता तैयार हो रही है, उसको इलाज में अहम माना जा रहा है. झारखंड में रांची के मोहित चोपड़ा अब तक सबसे अधिक दस बार प्लाज्मा दान कर चुके हैं. वह प्लाज्मा दानवीर बन गये हैं. रिम्स के ब्लड बैंक में मोहित द्वारा किये गये सभी प्लाज्मा दान का रिकॉर्ड मौजूद है.

रिम्स के डॉक्टर मोहित के शरीर में कोरोना वायरस के विरुद्ध तैयार हुई एंटीबॉडी (टाइटर लेवल) से आश्चर्यचकित हैं, क्योंकि इतने दिनों तक एंटीबॉडी जमा नहीं रहता है. मोहित ने कोरोना को मात देकर प्लाज्मा दान के लिए जब पहली बार टाइटर टेस्ट कराया, तो उसका लेवल 8.31 था. पांच से छह बार प्लाज्मा दान के बाद डॉक्टरों को लगा कि टाइटर का लेवल कम हो जायेगा, लेकिन मोहित दान करते रहे व टाइटर लेवल निर्धारित मानक से कम नहीं हुआ. बुधवार को रिम्स ब्लड बैंक में मोहित ने जब 10 वीं बार टाइटर टेस्ट कराया, तो उसका लेवल 4:31 मिला. यानी अभी भी उनके शरीर में वायरस के विरुद्ध लड़ने की क्षमता मौजूद थी.

टाइटर लेवल चार से नीचे होने पर प्लाज्मा दान नहीं किया जा सकता है. आइसीएमआर ने भी स्पष्ट कर दिया है कि प्लाज्मा दान वही कर सकता है, जिसके टाइटर का लेवल चार से कम नहीं हो. मोहित का टाइटर अभी भी निर्धारित मानक से ऊपर है. विशेषज्ञों की मानें, तो प्लाज्मा दान करने से पहले व्यक्ति का टाइटर टेस्ट किया जाता है. मानक को पूरा करनेवाले का प्लाज्मा शरीर से लिया जाता है.

प्लाज्मा दानवीर मोहित चोपड़ा ने बताया कि वह 'लाइव सेवर्स' से जुड़े हैं. पहली बार प्लाज्मा दान किया, तो यह नहीं पता था कि वह 10 बार तक यह सेवा कार्य कर पायेंगे. कहा कि यह ईश्वर की मेहरबानी है कि हर बार मेरा टाइटर निर्धारित स्तर से अधिक पाया गया. दान करने के बाद किसको मेरा प्लाज्मा चढ़ाया गया, यह नहीं जानता, लेकिन जिसे भी फायदा हुआ हो, इसकी मुझे खुशी है. 10 वीं बार दान किया गया प्लाज्मा रिम्स से जमशेदपुर गया है, लेकिन किसको, यह पता नहीं है. दान करने के बाद किसको इसका फायदा मिला, इसकी खोज हम नहीं करते हैं.

कब-कब किया प्लाज्मा दान

पहला 03 अगस्त 2020

दूसरा 20 अगस्त 2020

तीसरा 06 नवंबर 2020

चौथा 22 नवंबर 2020

पांचवां 10 दिसंबर 2020

छठा 26 दिसंबर 2020

सातवां 10 जनवरी 2021

आठवां 31 जनवरी 2021

नौवां 06 मार्च 2021

दसवां 31 मार्च 2021

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें