1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. cm hemant soren gave employment to 2000 people in the textile industry smj

कपड़ा उद्योग में 2000 लोगों को मिला रोजगार, CM हेमंत सोरेन बोले- युवाओं के हुनर को सम्मान दे रही राज्य सरकार

झारखंड के कपड़ा उद्योग में 2000 लोगों को रोजगार मिला है. सीएम हेमंत सोरेन ने इनलोगों को नियुक्ति पत्र सौंपा. कपड़ा उद्याेग में रोजगार से जुड़ने वालों में 80 फीसदी महिलाएं हैं. वहीं, सीएम श्री सोरेन ने चंदवे-कुल्ही पथ का ऑनलाइन शिलान्यास भी किया.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Jharkhand news: सीएम हेमंत सोरेन ने कपड़ा उद्योग इकाइयों में 2000 लोगों को रोजगार दिया.
Jharkhand news: सीएम हेमंत सोरेन ने कपड़ा उद्योग इकाइयों में 2000 लोगों को रोजगार दिया.
ट्विटर.

Jharkhand news: झारखंड के कपड़ा उद्योग इकाइयों में 2000 लोगों को रोजगार मिला है. इसमें 80 फीसदी महिलाएं शामिल हैं. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इनलोगों को नियुक्ति पत्र सौंपा है. रांची जिला अंतर्गत ओरमांझी के कुल्ही स्थित 4 कपड़ा उद्योग कंपनी किशोर एक्सपोर्ट्स, द वेस्ट बैंड, श्री गणपति क्रिएशन एवं वैलेंसिया अप्पेरल के औद्योगिक इकाइयों का उद्घाटन किया. मौके पर सीएम श्री सोरेन ने चंदवे-कुल्ही पथ का ऑनलाइन शिलान्यास भी किया.

Jharkhand news: रांची के ओरमांझी स्थित कुल्हे में कपड़ा उद्योग इकाइयों में कार्य देखते सीएम हेमंत सोरेन व अन्य.
Jharkhand news: रांची के ओरमांझी स्थित कुल्हे में कपड़ा उद्योग इकाइयों में कार्य देखते सीएम हेमंत सोरेन व अन्य.
प्रभात खबर.

अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोड़ने की कोशिश

लोगों को संबोधित करते हुए सीएम श्री सोरेन ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन के खत्म होते ही राज्य सरकार की प्राथमिकता रही थी कि कैसे अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोड़ा जाये. इस संबंध में एक बेहतर रूपरेखा बननी चाहिए जिससे लोगों को रोजगार मुहैया कराया जा सके. राज्य में टेक्सटाइल पॉलिसी सहित अन्य रोजगारपरक गतिविधियों के दायरे को बढ़ाया जा रहा है.

Jharkhand news: रांची के ओरमांझी स्थित कुल्हे के कपड़ा उद्योग में कार्यरत महिलाएं.
Jharkhand news: रांची के ओरमांझी स्थित कुल्हे के कपड़ा उद्योग में कार्यरत महिलाएं.
ट्विटर.

एक मंच से 2000 लोगों को रोजगार से जोड़ा जा रहा

उन्होंने कहा कि विगत डेढ़ साल पूरे देश-दुनिया के लिए चुनौतीपूर्ण रहा. उद्योग जगत में अभी भी कुछ चिंताएं व्याप्त हैं. लगभग डेढ़ वर्ष से देश-दुनिया सहित झारखंड में भी गतिविधियां थम-सी गयी. उन राज्यों में समस्या अधिक रहा जहां संसाधन सीमित है. संक्रमण काल में जब लोग अपने-अपने घरों पर बंद थे, तब राज्य सरकार लगातार चिंतन और मंथन में लगी थी. लॉकडाउन रूपी बादल जैसे-जैसे छटने लगे वैसे ही हमारी सरकार ने गतिविधियों में तेजी लाने का निरंतर प्रयास किया. आज यहां एक मंच से 2000 लोगों को रोजगार से जोड़ा जा रहा है. यह संक्रमण काल में की गयी तैयारियों का उदाहरण है.

युवाओं के हुनर को सम्मान दे रही राज्य सरकार

सीएम श्री सोरेन ने कहा कि राज्य में हुनरमंद युवक-युवतियों की कोई कमी नहीं है. उचित प्लेटफार्म नहीं मिलने के कारण यहां के युवक-युवतियां रोजगार की तलाश में दूसरे राज्यों की ओर भटकते थे. कहा कि हमारी सरकार की सोच है कि राज्य के युवाओं के हुनर का उपयोग कर उन्हें रोजगार से जोड़ें तथा उनके हुनर को सम्मान दें. राज्य सरकार की पॉलिसी है कि झारखंड में कार्यरत विभिन्न औद्योगिक संस्थाओं में 75% मानव बल राज्य के हों, यह सुनिश्चित की जाये. राज्य में उद्योग से जुड़ी गतिविधियों को जीवित करने का कार्य किया जा रहा है. लोगों के सहयोग और राज्य सरकार के बेहतर पॉलिसी के तहत अधिक से अधिक निवेश झारखंड में हो यह सरकार की प्राथमिकता है. राज्य सरकार निरंतर बेहतर कार्य योजना के साथ आगे बढ़ने का काम कर रही है.

नियुक्ति पत्र पाने वालों में 95% लोग झारखंड के, 80% महिलाएं

उन्होंने कहा कि यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आज 4 टेक्सटाइल कंपनियों के उद्घाटन के साथ-साथ टेक्सटाइल क्षेत्र में काम करने वाले 2,000 से अधिक लोगों को नियुक्ति पत्र मिल रहा है. रोजगार पाने वालों में 95% लोग झारखंड के हैं. इसमें 80% महिलाएं शामिल हैं. कहा कि घर-परिवार में महिलाएं मजबूत होंगी तभी आनेवाली पीढ़ी भी सशक्त हो सकेगी. राज्य सरकार महिला सशक्तीकरण के लिए बेहतर कार्ययोजना के साथ आगे बढ़ रही है. आनेवाले दिनों में इन कार्य योजनाओं का रिजल्ट हम सभी के बीच अवश्य दिखेगा.

रोजगारपरक योजनाओं को धरातल पर उतारने का हो रहा प्रयास : उद्योग सचिव

इस अवसर पर उद्योग सचिव पूजा सिंघल ने कहा कि सीएम हेमंत सोरेन के नेतृत्व में उद्योग विभाग द्वारा निरंतर रोजगारपरक योजनाओं पर फोकस किया जा रहा है. मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार वैसे उद्योगों को धरातल पर उतारने का प्रयास किया जा रहा है जिनमें अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके. आज इस मंच से 2000 लोगों को रोजगार मिल रहा है, जिसमें 80% महिलाएं शामिल हैं. नियुक्ति पत्र पाने वाले महिलाओं में वैसी भी युवतियां भी शामिल हैं, जो लॉकडाउन के पहले तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और केरल जैसे राज्यों में काम कर रही थी. राज्य सरकार ने उन्हें अपने गांव-घर अथवा जिलों में ही रोजगार देने का भरोसा दिया था. कहा कि बेहतर टेक्सटाइल पॉलिसी के तहत आनेवाले 6 महीनों में टेक्सटाइल क्षेत्र में काम करने वाले 10 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा इसकी पूरी तैयारी कर ली गयी है.

इस मौके पर सीएम श्री हेमंत सोरेन ने सांकेतिक रूप से कई युवतियों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण किया. मुख्यमंत्री ने किशोर एक्सपोर्ट्स यूनिट का भ्रमण भी किया तथा वहां कार्यरत कर्मियों से उनका हालचाल जाना एवं उत्पादन से संबंधित जानकारी भी हासिल की.

इस अवसर पर खिजरी विधायक राजेश कच्छप, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, उद्योग डायरेक्टर जितेंद्र कुमार सिंह, डीसी छवि रंजन, औद्योगिक क्षेत्र कुल्ही एसोसिएशन के प्रेसिडेंट दीपक अग्रवाल, ओरिएंट क्राफ्ट लिमिटेड के डायरेक्टर सुधीर ढिंगरा, अरविंद टेक्सटाइल कंपनी के सीईओ अंकुर त्रिवेदी एवं मैट्रिक्स टेक्सटाइल कंपनी के एचआर हेड बीएन झा सहित अन्य नियोक्ता एवं नियुक्ति पत्र पानेवाले युवक-युवतियां तथा अन्य लोग उपस्थित थे.

Posted By: Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें