30.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

बीजेपी सांसद आदित्य साहू ने ममता बनर्जी पर मुस्लिम तुष्टिकरण का लगाया आरोप, कहा-पिछड़ो का आरक्षण छिन कर मुसलमानों को दिया

बीजेपी के राज्यसभा सांसद आदित्य साहू ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ऊपर जम कर निशाना साधा. उन्होंने ममता बनर्जी के ऊपर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगाया.

भाजपा प्रदेश महामंत्री एवं राज्‍यसभा सांसद आदित्‍य साहू ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बड़ा हमला बोला. उन्होंने कहा कि कलकत्‍ता हाईकोर्ट ने बुधवार को ऐतिहासिक फैसला दि‍या. ममता बनर्जी ने 118 मुसलमान जातियों को बिना किसी पिछड़ेपन का सर्वे कराए ओबीसी का आरक्षण दे दिया. कोर्ट ने इसका संज्ञान लेकर 2010 से 2024 तक जितने प्रमाणपत्र ममता बनर्जी सरकार ने जारी किए थे उसके स्थगन का आदेश दिया है. उन्‍होंने कहा कि ममता बनर्जी ने पिछड़े वर्ग के आरक्षण छीन कर मुसलमानों को दिया. उन्होंने हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत किया.

ममता बनर्जी ने फैसला मानने से किया इंकार

राज्यसभा सांसद आदित्य साहू ने ममता बनर्जी पर सवाल उठाते हुए कहा कि कोई मुख्यमंत्री, संवैधानिक पद पर होने के बावजूद ऐसा कैसे कहा सकता है कि वो हाईकोर्ट का आदेश नहीं मानेगा. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि बीजेपी यह
सुनिश्चित करेगी कि हाई कोर्ट के फैसले पर अमल हो और पिछड़े वर्ग को उनका अधिकार मिले. उन्होंने कहा कि आरक्षण का लाभ पिछड़ों को मिले न कि यहा तुष्टीकरण और वोट बैंक की भेंट चढ़े.

कांग्रेस को भी लिया आड़े हाथ

आदित्य साहू ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ठीक इसी तरह कांग्रेस पार्टी भी तेलंगाना और कर्नाटक में ओबीसी के आरक्षण पर डाका ड़ालने का काम कर रही है. बंगाल में ममता बनर्जी ने भी एससी, एसटी के आरक्षण पर डाका ड़ालकर उनका हक मुसलमानों को दे रही है. भाजपा इसका विरोध करती है क्योंकि संविधान धर्म के आधार पर आरक्षण की कोई अनुमति नहीं देता है.

रामकृष्ण मिशन के मुद्दे पर भी ममता को घेरा

आदित्य साहू ने रामकृष्ण मिशन में हुई तोड़फोड़ पर भी ममता बनर्जी को कटघरे में खड़ा किया. उन्होंने कहा कि भारत सेवाश्रम संघ वह संस्था है, जिसके कारण आज पश्चिम बंगाल भारत का हिस्सा है. ममता बनर्जी को शायद नहीं मालूम कि भारत सेवाश्रम संघ के संस्थापक स्वामी प्रणवानन्द अगर ना होते तो पश्चिम बंगाल भारत का नहीं बांग्लादेश का हिस्सा होता. जबकि आज ममता बनर्जी भारत सेवाश्रम संघ, इस्कॉन, रामकृष्ण मिशन इस प्रकार की संस्थाओं को बदनाम कर रही हैं ताकि वो मुसलमान मतदाताओं को खुश कर कर सकें. उन्होंने आगे कहा कि ममता बनर्जी सिर्फ़ चुनाव जीतने के लिए इन संस्थाओं की प्रतिष्ठा को आहत करने की कोशिश कर रही हैं. जबकि रामकृष्ण मिशन नॉर्थ ईस्ट और दूर दराज़ के जंगलों में आज शिक्षा, स्वास्थ्य से लेकर अनेकों प्रोजेक्ट पर काम कर रही है. ममता बनर्जी तुष्टीकरण की राजनीति कर रही हैं.

Also Read : कोलकाता हाईकोर्ट का बड़ा फैसला- 2010 के बाद वाला ओबीसी प्रमाण पत्र खारिज

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें