1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. agriculture bill 2020 the bharatiya janata party is counting the benefits then the congress party is reporting the flaws srn

Agriculture bill 2020: भारतीय जनता पार्टी फायदे गिना रही है, तो कांग्रेस पार्टी बता रही है खामियां

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश कृषि कानून को किसानों की हित बताया तो वहीं सामेश्वर उरांव ने इसे हरित क्रांति पर हमला बताया है
भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश कृषि कानून को किसानों की हित बताया तो वहीं सामेश्वर उरांव ने इसे हरित क्रांति पर हमला बताया है
file photo deepak prakash

रांची : भाजपा रांची महानगर की ओर से आयोजित कृषि संगोष्ठी को संबोधित करते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने व उत्पादन बढ़ाने के उद्देश्य से तीन कृषि सुधार कानून लाया गया है. देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए किसानों का आत्मनिर्भर होना जरूरी है. यह कानून किसानों को खुला बाजार, पूंजी निवेश और वस्तु थोक करने की आजादी देगा. किसान अपनी शर्त के साथ उत्पाद बेच सकेंगे.

कांग्रेस बिचौलियों, दलालों की पार्टी

श्री प्रकाश ने कहा कि मंडियों में दलालों व बिचौलियों का बोलबाला रहा है. कांग्रेस इन बिचौलियों और दलालों की संरक्षक है. इन कृषि सुधार कानूनों से बिचौलियों और दलालों की दलाली समाप्त होगी. यही कारण है कि कांग्रेस के पेट में दर्द हो रहा है. कांग्रेसी इन कानूनों का विरोध कर रही है.

सोनिया गांधी के दामाद और कांग्रेस ने किसानों को लूटने का कार्य किया है. जिन्हें गेहूं और धान की जानकारी नहीं, वे किसान हित की बात नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि कानून बनाये जाने से पहले सभी राज्यों के मुख्यमंत्री व दर्जनों संगठन से सहमति ली गयी थी.

घड़ियाली आंसू बहा रही राज्य सरकार

उन्होंने कहा कि भाजपा की तत्कालीन रघुवर दास सरकार में किसानों के सम्मान और किसानों के हित में कई योजनाएं चलायी जा रही थीं, जिसे झामुमो और कांग्रेस की सरकार ने बंद कर दिया. किसानों के अधिकार समाप्त करने पर तुली राज्य सरकार किसानों की हितैषी कभी नहीं हो सकती. इस सरकार में यूरिया, बीज और फसल की मारामारी हो रही है. कांग्रेस व झामुमो ने किसानों को धोखा देकर सत्ता हासिल की है.

विधवा विलाप कर रही है कांग्रेस : आदित्य साहू

महामंत्री आदित्य साहू ने कहा कि किसानों को ठगने वाली कांग्रेसी आज किसान सुधार कानून पर विधवा विलाप कर रही है.कांग्रेस किसानों की बेहतरी नहीं चाहती है. प्रदेश उपाध्यक्ष गंगोत्री कुजूर ने कहा कि झामुमो-कांग्रेस किसानों में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. किंतु, किसान इस बिल का लाभ समझ चुके हैं.

किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष पवन साहू ने कहा कि पूरे राज्य में पार्टी किसानों के बीच जाकर कृषि सुधार कानून का लाभ खटिया पंचायत के तहत रखने का कार्य करेगी. संगोष्ठी में सांसद संजय सेठ, विधायक समरी लाल, नवीन जायसवाल, सत्यनारायण सिंह, सीमा पात्रा, महानगर जिलाध्यक्ष केके गुप्ता, ग्रामीण जिलाध्यक्ष सुरेंद्र महतो समेत कई लोग मौजूद थे.

हरित क्रांति पर हमला है कृषि का कानून : रामेश्वर उरांव

केंद्र सरकार द्वारा लाये गये कृषि कानून के विरोध में प्रदेश कांग्रेस ने शनिवार को किसान सम्मेलन का आयोजन किया. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव के सरकारी आवास में हुए सम्मेलन में राज्य के विभिन्न हिस्सों से आये किसानों ने अपना दर्द साझा किया.

डॉ उरांव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने तीन काले कृषि कानूनों को संसद से पारित कर देश की हरित क्रांति पर हमला किया गया है. देश के 62 करोड़ अन्नदाताओं व खेत-खलिहानों का भविष्य खतरे में डाल दिया गया है. पूंजीपतियों काे साधने, खत्म कर दी गयी जमींदारी प्रथा को फिर से बहाल करने व जमाखोरों, मुनाफाखोरों को बढ़ावा देने के लिए कानून बनाया गया है.

कार्यक्रम को विधायक इरफान अंसारी, अंबा प्रसाद, ममता देवी, दीपिका पांडेय सिंह, राजेश कच्छप, अजयनाथ शाहदेव, संजय लाल पासवान, भीम कुमार, रमा खलखो, शमशेर आलम, राजीव रंजन प्रसाद समेत अन्य ने संबोधित िकया.

कानून को रोल बैक करने तक आंदोलन : आलमगीर

मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि तीनों कृषि कानून को देश के संसदीय इतिहास में काले अध्याय के रूप में याद किया जायेगा. कांग्रेस पार्टी किसानों मजदूरों की आवाज को कुंद नहीं पड़ने देगी. कानून को रोल बैक करने तक आंदोलन जारी रहेगा. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि कोरोना संकट व भाजपा की गलत नीतियों के कारण दम तोड़ती अर्थव्यवस्था को सहारा देने और देश को आत्मनिर्भर बनानेवाले कृषि क्षेत्र को भाजपा सरकार बर्बाद करने पर तुली हुई है. कांग्रेस िकसानों का दर्द समझती है.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें