रांची : कैबिनेट से रिवाइज्ड स्टीमेट की मंजूरी के बाद ही शुरू होगा कांटाटोली फ्लाइओवर का काम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
अभी करना होगा इंतजार. राशि समाप्त हो जाने के कारण चार माह से बंद है निर्माण कार्य
रांची : कांटाटोली फ्लाइओवर के रिवाइज्ड स्टीमेट को कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद जमीन पर काम आगे बढ़ेगा. मंजूरी मिलने तक फ्लाइओवर निर्माण का कार्य शुरू नहीं होगा.
इसके लिए शहर के लोगों को अभी और इंतजार करना होगा. नगर विकास विभाग ने कांटाटोली फ्लाइओवर का रिवाइज्ड स्टीमेट तैयार करा कर आइआइटी मुंबई से उसका मूल्यांकन करा लिया है. लागत में बढ़ोतरी का प्रस्ताव भी कैबिनेट की स्वीकृति के लिए तैयार कर लिया गया है. हालांकि, अभी यह तय नहीं किया गया है कि वर्तमान में काम कर रहे संवेदक से ही काम कराया जायेगा या रिवाइज्ड स्टीमेट के बाद फिर से टेंडर आयोजित कर बचे हुए काम के लिए अलग से संवेदक का चयन किया जायेगा.
फिलहाल,कांटाटोली फ्लाइओवर के निर्माण का कार्य पूरी तरह से ठप है. फ्लाइओवर के लिए कुल 19 पिलर का निर्माण होना है, जिसमें अब तक केवल दो पिलर ही कुछ लंबाई तक खड़े हो सके हैं. राशि समाप्त हो जाने की वजह से पिछले चार महीने से निर्माण कार्य बंद है.
22 जुलाई 2016 को कांटाटोली फ्लाइओवर निर्माण के लिए 5170.12 लाख रुपये व योजना के कार्यान्वयन के लिए 14048.87 लाख रुपये की लागत पर भूमि अधिग्रहण यानी कुल 19218.99 लाख रुपये की योजना की प्रशासनिक स्वीकृति दी गयी थी. योजना का डीपीआर मेकन द्वारा तैयार किया गया था. इसके बाद मेकन द्वारा दोबारा योजना के लिए संशोधित डीपीआर तैयार किया गया. पथ निर्माण विभाग के केंद्रीय निरूपण संगठन के मुख्य अभियंता द्वारा पुनरीक्षित डीपीआर में कुल 25749.19 लाख रुपये के प्राक्कलन पर तकनीकी अनुमोदन प्राप्त किया गया है.
डीपीआर की मूल राशि में संशोधन कर 100 फीसदी की वृद्धि की गयी
रिवाइज्ड स्टीमेट 83 करोड़ का
कांटाटोली फ्लाइओवर का रिवाइज्ड स्टीमेट लगभग 83 करोड़ रुपये का बनाया गया है. पूर्व में योजना पर करीब 40 करोड़ रुपये खर्च किये जाने थे, लेकिन डीपीआर में उल्लिखित मूल राशि में संशोधन कर 100 प्रतिशत राशि बढ़ायी गयी है.
मूल डीपीआर के डिजाइन में भी कई परिवर्तन किये गये हैं. पुल की लंबाई 905 मीटर से बढ़ा कर 1250 मीटर की गयी है. कांटाटोली फ्लाइओवर में हो रही पाइलिंग की लंबाई पूर्व में 1580 मीटर थी, जिसे बढ़ा कर 1700 मीटर कर दिया गया है. ओपेन फाउंडेशन के स्थान पर पाइल फाउंडेशन का प्रावधान किया गया है. साथ ही पाइपर कैप की लंबाई में वृद्धि का भी प्रावधान किया गया है.
कांटाटोली फ्लाइओवर निर्माण की सारी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं. डायवर्जन रोड तैयार कर लिया गया है. अब ट्रैफिक बाधित किये बिना पिलर का काम किया जा सकता है. फ्लाइओवर का रिवाइज स्टीमेट तैयार कर उसका मूल्यांकन करा लिया गया है. तकनीकी स्वीकृति हासिल कर उसे कैबिनेट में भेजा जायेगा. कैबिनेट की स्वीकृति के बाद ही काम शुरू होगा.
- अजय कुमार सिंह, प्रधान सचिव, नगर विकास विभाग

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें