हेमंत ने सीएम को भेजा नोटिस, भाजपा बोली- हास्यास्पद

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही दलों में तल्खी बढ़ रही है़ नेता प्रतिपक्ष हेमंत साेरेन ने भी तेवर दिखाये है़ं श्री सोरेन ने रविवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सीएम रघुवर दास के खिलाफ कई आरोप लगाये झामुमो नेता ने मुख्यमंत्री को लीगल नोटिस भी भेजा है़ इधर, भाजपा ने भी श्री सोरेन पर पलटवार किया है़ भाजपा प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने झामुमो नेता पर आरोप लगाते हुए कई सवालों के जवाब मांगे है़ं भ्रष्टाचार का सीधा आरोप लगाया है़
500 करोड़ की संपत्ति अर्जित करने का आरोप बेबुनियाद
रांची : 500 करोड़ की संपत्ति अर्जित करने के आरोप पर नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को वकील माध्यम से लीगल नोटिस भेजा है. इसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री झूठे आरोप को वापस लें. झारखंड की जनता को गुमराह करने और मेरी छवि धूमिल करने के प्रयास के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे. अगर सात दिनों के अंदर वे ऐसा नहीं करते हैं, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी.
एसआइटी की रिपोर्ट सार्वजनिक करें : श्री सोरेन ने कहा कि सरकार ने राजनीतिक दुर्भावना से ग्रसित होकर मेरे खिलाफ एसआइटी का गठन किया. एसआइटी की शिकायत मुख्यमंत्री कार्यालय से भेजी गयी. एसआइटी की रिपोर्ट सरकार के पास है. सरकार रिपोर्ट को सार्वजनिक करे. इसमें जो भी दोषी हो, उस पर कार्रवाई हो, चाहे हम हों या मुख्यमंत्री के लोग या कोई और.
- भाजपा के तीन मंत्र : लूट तंत्र, झूठ तंत्र व षड़यंत्र
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार की आदिवासियों के खिलाफ घृणा साफ दिखायी देती है. भाजपा के तीन मंत्र हैं. लूट तंत्र, झूठ तंत्र और षड़यंत्र. झामुमो इसका हर तरीके से विरोध करेगी और पर्दाफाश करेगी.
मुख्यमंत्री की भाषा संवैधानिक पद पर बैठे लोगों के अनुकूल नहीं
श्री सोरेन ने कहा कि मुख्यमंत्री पिछले पांच वर्षों में मान-मर्यादा का उल्लंघन करते हुए गाली-गलौज और अपशब्दों को राजकीय भाषा बना दिया है. ये देश के एकमात्र मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने सदन तक में अपशब्दों का उपयोग किया है. इनकी भाषा और आचरण संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के अनुकूल नहीं है.
- मुख्यमंत्री के रिश्तेदार हड़पना चाह रहे हैं जमीन, हाईकोर्ट पहुंचा मामला :
नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के रिश्तेदार खेमचंद्र साहू जमशेदपुर में मनीष दास की जमीन हड़पना चाहते हैं. इसको लेकर मनीष दास ने हाइकोर्ट में क्रिमिनल रिट दायर कर सुरक्षा की गुहार लगायी है.
श्री सोरेन ने हाइकोर्ट में दायर याचिका की प्रति को सार्वजनिक किया़ हेमंत सोरेन ने कहा बताया कि जब देश में नोटबंदी हुई थी, उस दौरान सीएम के साले खेमराज साहू ने उसे 15 लाख रुपये दिये थे और इसके बदले सिक्यूरिटी के तौर पर घर की पावर ऑफ एटार्नी रख ली थी. उस दौरान उसने कहा था कि वह सारे पैसे लौटा देगा, पर घर नहीं देगा.
जब वह पैसे लौटाने गया तो खेमराज साहू ने पैसे के बदले में घर की डिमांड कर दी. मनीष दास का कहना है कि अगर वह घर दे देगा, तो खुद रहेगा कहां? क्योंकि उसके पास दूसरा कोई विकल्प नहीं है. वह छत्तीसगढ़ का रहनेवाला है. याचिका में लिखा है कि खेमराज साहू किसी न किसी प्रकार से मनीष दास का घर हथियाना चाहते है़ं
हेमंत बतायें अपनी प्रॉपर्टी का मार्केट वैल्यू : भाजपा
रांची : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने हेमंत सोरेन द्वारा मुख्यमंत्री रघुवर दास को लीगल नोटिस भेजे जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है़उन्होंने कहा है कि सीएम को नोटिस भेजना हास्यास्पद है़ हेमंत को स्पष्ट करना चाहिए कि उनके द्वारा अर्जित संपत्ति 500 करोड़ की नहीं है, तो उससे ज्यादा या कम कितनी है़ हेमंत अपनी प्रॉपर्टी का मार्केट वैल्यू बताये़ं झामुमो नेता श्री सोरेन सार्वजनिक जीवन में हैं, ऐसे में उनको जनता के सामने स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए़
भाजपा 10 लीगल नोटिस भेजेगी : श्री शाहदेव ने कहा कि इन्होंने अधिकांश संपत्ति सीएनटी-एसपीटी कानून की धज्जियां उड़ा कर खरीदी है़ं हेमंत सोरेन द्वारा भाजपा सरकार पर लगातार भ्रष्टाचार के निराधार आरोप लगाए गये है़ं
रघुवर सरकार के दामन पर कोई दाग नहीं है, लेकिन हेमंत ने पिछले पांच वर्षों के दौरान बेबुनियाद आरोप लगाकर सरकार की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है़ भाजपा इन मामलों में हेमंत सोरेन को लीगल नोटिस भेजेगी और हेमंत सोरेन एक लीगल नोटिस दे रहे हैं, तो उसके जवाब में भाजपा 10 लीगल नोटिस देगी़
- हेमंत सोरेन को जनता ने रिजेक्ट कर दिया है
श्री शाहदेव ने कहा कि दरअसल जनता द्वारा रिजेक्ट कर दिए जाने के बाद हेमंत सोरेन इतने हैरान और परेशान हैं कि वह अब अपनी छवि सुधारने के लिए कुछ भी करने को तैयार है़ जनता सोरेन परिवार की कारस्तानी से अच्छे से वाकिफ है़ सांसद रिश्वत कांड से लेकर सीएनटी-एसपीटी जमीन घोटालों का इनका लंबा इतिहास रहा है और जनता सब समझती है़
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें