1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. lohardaga
  5. difficult to walk on the road from pakhar passenger shed to sarna path of lohardaga passengers upset srn

लोहरदगा के पाखर यात्री शेड से सरना पाठ तक सड़क पर चलना दूभर, यात्री परेशान

पाखर पंचायत के पाखर यात्री शेड से सरनापाठ तक मुख्य सड़क में तीन से चार फीट तक गड्ढे हो गये हैं, जिससे स्थानीय लोगों को आवागमन करने में परेशानी हो रही है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
लोहरदगा के पाखर यात्री शेड से सरना पाठ तक सड़क पर चलना दूभर
लोहरदगा के पाखर यात्री शेड से सरना पाठ तक सड़क पर चलना दूभर
प्रभात खबर.

लोहरदगा : पाखर पंचायत के पाखर यात्री शेड से सरनापाठ तक मुख्य सड़क में तीन से चार फीट तक गड्ढे हो गये हैं, जिससे स्थानीय लोगों को आवागमन करने में परेशानी हो रही है. ज्ञात हो कि पाखर माइंस क्षेत्र से करोड़ों का मुनाफा कमाने वाली कंपनी का इस ओर कोई ध्यान नहीं है. कंपनी केवल अपने मुनाफा से मतलब रखती है. इस सड़क से रोजाना हिंडाल्को के अधिकारियों व सैकड़ों बॉक्साइट ट्रकों का परिचालन होता है. इसके बाद भी सड़क की दशा यह है .

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हिंडालको को विकास कार्य में कितनी रुचि है. जबकि हिंडाल्को को मुनाफा में एक निश्चित राशि विकास कार्य में खर्च करना है. हिंडाल्को कंपनी द्वारा विकास कार्य में खर्च नहीं किया जाता है.

इस संबंध में हिंडालको के अधिकारियों से पूछने पर बताया गया कि डीएमएफटी फंड के माध्यम से क्षेत्र के विकास के लिए खर्च किया जाता है, लेकिन यह कागजों तक सीमित है. धरातल पर क्षेत्र में विकास कार्य कहीं दिखायी नहीं देता है. पाखर सरनापाट से पाखर यात्री शेड तक सड़क की स्थिति बद से बदतर हो गयी है. सड़क पर जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गयी है, जिससे इस सड़क पर कीचड़ हमेशा जमा रहता है. दो पहिया वाहनों के साथ-साथ लोगों का पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है.

इस क्षेत्र के लोग प्रखंड मुख्यालय व किस्को बाजार जाने के लिए इस सड़क का उपयोग करते हैं, लेकिन यह सड़क चलने लायक नहीं है. कई बार सामने से आ रहे दो पहिया वाहनों के पार होते के समय पैदल चलने वालों पर कीचड़ का छींटा पड़ जाता है, जिससे लोगों में तू-तू, मैं-मैं होती रहती है. ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व में हिंडाल्को कंपनी द्वारा पाखर सरना पाठ से यात्री शेड तक पीसीसी सड़क निर्माण करने की बात कही गयी थी, परंतु लिखित आवेदन देने के बाद भी सड़क नहीं बनी. लोगों का कहना है कि कंपनी इस क्षेत्र में विकास के बजाय विनाश करने पर तूली है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें