लातेहार : पुलवामा के शहीदों को दी गयी गीतों की श्रद्धांजलि

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

आशीष टैगोर, लातेहार

अनुमंडल पदाधिकारी सागर कुमार ने कहा कि देश के सुरक्षा के लिए शहादत देने वाले वीर सैनिकों की कुर्बानियों को भूलाया नहीं जा सकता है. उन्‍होंने कहा कि 14 फरवरी को ही पुलवामा में देश के 45 जवानों की शहादत हुई थी. श्री कुमार शहर के श्री वैष्णव दुर्गा मंदिर के हॉल में पुलवामा शहीदों की याद में स्वर संगम म्यूजिलकल्स के द्वारा आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.

उन्‍होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन शहीद वीर सैनिकों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है. मौके पर नगर पंचायत अध्यक्ष सीतामनी तिर्की ने कहा कि देश के सैनिक अपने जान की बाजी लगाकर सीमा पर देश की सुरक्षा करते हैं. उनके योगदानों को शब्दो में बयां नहीं किया जा सकता. इससे पहले एसडीओ श्री कुमार, नपं अध्यक्ष श्रीमति तिर्की, मंदिर समिति के अध्यक्ष अभिनंदन प्रसाद, समाजसेवी मुरली प्रसाद, गोविंद प्रसाद व राकेश कुमार दुबे ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया.

कार्यक्रम का आगाज डिसेबल्ड प्रमोशन सोसायटी की दृष्टि बाधित निशि रानी के द्वारा गाये गये 'ए मेरे वतन के लोगों...' गीत से हुआ. उसने 'संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं...' गीत गाकर लोगों को भावुक कर दिया. इसके बाद स्वर संगम म्यूजिकल्स के सचिव आशीष टैगोर ने 'शान तेरी कभी कम न हो ऐ वतन...' देशभक्ति गीत गाकर सीमा पर शहीद होने वाले जवानों को अपनी श्रद्धांजलि दी.

इसके स्वर संगम के सुजीत दास व बंसत कुमार ने 'दिल दिया है जां भी देगें ऐ वतन तेरे लिए...' और 'आपस मे प्रेम करो देश प्रेमियों...' गीत गाया. जबकि विष्णु प्रसाद ने 'कर चले हम फिदा जानो तन साथियों...' देशभक्ति गीत गाया. कार्यक्रम का समापन सामुहिक रूप से गाये गये 'इंसान का इंसान से हो भाइचारा यही पैगाम हमारा...' गीत से हुआ.

धन्यवाद ज्ञापन बद्री प्रसाद ने किया. मौके पर महावीर दुबे, उमेश प्रसाद गुप्ता, ओमप्रकाश गुप्ता, रविंद्र प्रजापति, अविनाश कुमार संतोष कुमार, संतोष कुमार दुबे, संजय कुमार गुड्डू आदि उपस्थित थे. कार्यक्रम को सफल बनाने में बजरंग टेंट हाउस व राज साउंड का योगदान सराहनीय रहा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें