गुमला : मॉनसून की पहली बारिश में ही 1.12 करोड़ का पुल ध्वस्त, 2016 में ही बना था पुल

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बालू भरे बोरे पर टिका था पुल. चार माह पहले डीसी ने दिया था मरम्मत का निर्देश. मरम्मत नहीं हुई, बारिश में ध्वस्त हो गया. 40 गांव टापू बना

दुर्जय पासवान, गुमला

डुमरी प्रखंड के घोर नक्सल प्रभावित नटावल व कठगांव को जोड़ने वाली चरकाटोली नदी पर एक करोड़ 12 लाख रुपये की लागत से बनी पुल पहली ही बारिश में ध्वस्त हो गयी. पुल के बीच का पिलर बैठ गया. जिससे पुल ध्वस्त हुआ है. पुल ध्वस्त होने से करीब 40 गांव के लोग प्रभावित हैं. क्योंकि इसी पुल के ऊपर से लोग आना जाना करते थे.

अब सभी 40 गांव टापू हो गया है. यह पुल वर्ष 2016 में बना था. बनते के साथ ही पुल का एक पिलर नदी में धंस गया था. इसके बाद कार्यकारी एजेंसी विशेष प्रमंडल ने बोरे में बालू भरकर पुल को टिका कर रखे हुए थे. बालू भरे बोरे में पुल टिका होने की खबर को प्रभात खबर में वर्ष 2017 के फरवरी माह में छपा था.

इसके बाद डीसी श्रवण साय ने पुल के मरम्मत का निर्देश दिया था. उस समय जांच टीम बनी थी. पुल की जांच भी हुई. लेकिन विभाग ने पुल की मरम्मत में महज खानापूर्ति की. जिसका नतीजा है कि बारिश में पुल ध्वस्त हो गया.

गुमला : मॉनसून की पहली बारिश में ही 1.12 करोड़ का पुल ध्वस्त, 2016 में ही बना था पुल

पुल के आगे खतरा का बोर्ड लगाया

पुल ध्वस्त होने के बाद प्रशासन ने पुल के आगे बोर्ड लगा दिया है. जिसमें लिखा है, पुल के ऊपर से न गुजरे. पुल से गुजरना खतरनाक हो सकता है. वहीं पुल ध्वस्त होने से कठगांव, बतसपुर, सरईटोली, महुवाटोली, दीना सहित कई 40 गांव बरसात में टापू हो गया है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें