26.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

सर, कोई तो सुन ले हमारी फरियाद…ना स्कूल के प्रिंसिपल कुछ बताते हैं, ना विभाग

इंटर की परीक्षा में वंचित अजीडीह स्थित जिला स्कूल के 52 विद्यार्थियों को भविष्य की चिंता अभी तक सता रही है. उनकी समस्या का समाधान अभी तक नहीं हो पाया है.

जिला स्कूल के 52 छात्र रह गये थे इंटर की परीक्षा से वंचित

मृणाल कुमार, गिरिडीह

इंटर की परीक्षा में वंचित अजीडीह स्थित जिला स्कूल के 52 विद्यार्थियों को भविष्य की चिंता अभी तक सता रही है. उनकी समस्या का समाधान अभी तक नहीं हो पाया है. छात्र विद्यार्थी प्रतिदिन स्कूल जाकर परीक्षा संबंधित जानकारी लेने का प्रयास कर रहे हैं. लेकिन, ना तो स्कूल के प्रिंसिपल उनकी बातें सुन रहे हैं और ना ही विभाग कुछ बता रहा है. विद्यार्थियों के अभिभावक भी चिंतित हैं.

संपूरक परीक्षा के लिए फार्म भरने की तिथि हो चुकी है घोषित

जैक ने मैट्रिक व इंटर की संपूरक परीक्षा के लिए परीक्षा फार्म भरने की तिथि घोषित कर दी है. इंटर के लिए फार्म भरने की तिथि 17 मई से 31 मई तक निर्धारित की गयी है, जबकि शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि 3 जून निर्धारित है. वहीं, विलंब शुल्क सहित एक जून से छह जून तक परीक्षा फार्म भरा जा सकेगा. शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि 10 जून निर्धारित की गयी है. लेकिन, अभी तक जिला स्कूल के इन 52 बच्चों की परीक्षा के लिए जैक ने कोई आदेश जारी नहीं किया है.

क्या है पूरा मामला

मामला यह है कि प्लस टू जिला स्कूल गिरिडीह के इंटरमीडिएट परीक्षा में शामिल होने वाले 52 बच्चों का एडमिट कार्ड नहीं मिला था. स्कूल प्रबंधन की लापरवाही के कारण ये छात्र इंटरमीडिएट की परीक्षा में शामिल नहीं हो सके. कुल 442 छात्रों ने इंटर आर्ट्स की परीक्षा के लिए फार्म भरा था. इनमें से 52 छात्रों का ऑनलाइन आवेदन सबमिट ही नहीं हुआ था. इस दौरान छात्रों को पावती रसीद भी दे दी गयी. लेकिन, फार्म सबमिट नहीं होने का खुलासा तब हुआ जब छात्रों का एडमिट कार्ड स्कूल प्रबंधन के पास नहीं आया. जांच के बाद खुलासा हुआ कि फार्म ऑनलाइन भरने के दौरान सबमिट नहीं होने के कारण जैक ने इन 52 छात्रों का एडमिट कार्ड नहीं भेजा. इसके बाद छात्र-छात्राओं ने पांच फरवरी को गिरिडीह-धनबाद मुख्य मार्ग को जाम कर दिया था. एसडीओ, डीइओ, एसडीपीओ समेत तमाम अधिकारियों ने इन बच्चों को आश्वस्त किया था कि उनका एक साल बर्बाद नहीं होगा. लेकिन, कोई समाधान नहीं निकला. इधर, इंटर की परीक्षा छह फरवरी से शुरू होकर खत्म हो चुकी है. 52 बच्चे परीक्षा से वंचित रह गये हैं. इस मामले को लेकर तत्कालीन जिला शिक्षा पदाधिकारी नीलम आइलीन टोप्पो ने जिला स्कूल के प्रिंसिपल डेगन रविदास के निलंबन के लिए भी विभाग से अनुसंशा की थी, लेकिन अभी तक इस मामले में भी कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है.

बच्चों को परेशान होने की जरूरत नहीं, जल्द होगा समस्या का समाधान : डीइओ

डीइओ वसीम अहमद ने बताया कि जैक ने मैट्रिक व इंटर के संपूरक (कंपार्टमेंटल) परीक्षा के लिए फार्म भरने की तिथि की घोषणा की गयी है. लेकिन, जिला स्कूल के बच्चों की परीक्षा मुख्य परीक्षा की तरह होगी. इसलिए बच्चे परेशान नहीं हो. मैं खुद इस मामले को गंभीरता से देख रहा हूं. इस संबंध उन्होंने जैक से खुद बात की है. एक से दो दिनों के अंदर इन बच्चों की परीक्षा के लिए जैक से आदेश जारी हो जायेगा. जल्द इन बच्चों के परीक्षा का फार्म जमा भरा जायेगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें