29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

दुमका : न सड़क,न बिजली और न शुद्ध पानी, नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं काठीकुंड प्रखंड के लोग

उपराजधानी दुमका से कुछ ही किलोमिटर दूर ग्रामीण आज भी विकास से कटे हुए हैं. काठीकुंड प्रखंड के चुनरभुई और बासकंदरी टोला के लोग लंबी दूरी तय कर पानी लाते हैं. गांव में दिन खत्म होते ही अंधेरा छा जाता है.

काठीकुंड, अभिषेक : क्या बताएं साहेब शाम ढलते ही पूरा गांव में अंधेरा छा जाता है,सड़क नहीं होने के कारण शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है,रिश्तेदारों को साफ पानी नहीं पिला पाते. यह पीड़ा है जिले के काठीकुंड प्रखंड स्थित बड़तल्ला पंचायत के खिलौड़ी गांव के पहाड़िया बहुल चुनरभुई व बासकंदरी टोला के अभागे ग्रामीणों की.

डिजिटल युग में गांव तक नहीं पहुंची सड़क

डिजिटलाइजेशन के इस दौर में भी किसी गांव का विकास से इस कदर कटा हुआ होना अपने आप में सवालिया निशान पैदा करता है. इन दोनों टोला में 60 से ज्यादा परिवार की सैकड़ों की आबादी निवास करती है. शुद्ध पेयजल,सड़क और बिजली आज तक दोनों टोला में नहीं पहुंची है. ग्रामीणों को दर्द इस बात का है कि उनकी समस्याओं की जानकारी होने के बावजूद न तो जनप्रतिनिधि और न ही प्रशासन कोई पहल कर रही है. आजादी के कई दशक बीतने व झारखंड निर्माण के इतने वर्षो के बाद भी यहां के ग्रामीण आज भी ढिबरी युग में जी रहे है. दोनों टोला में बिजली का एक अदद पोल खंभा तक नहीं दिखता है. ग्रामीण मोबाइल और टॉर्च दुसरे गांव जाकर या सोलर से किसी प्रकार चार्ज करते है. पढ़ाई करने वाले स्कूली बच्चें सोलर से बैटरी चार्ज कर एलएडी टॉर्च लाइट जला कर पढ़ते है. कम रौशनी के कारण बच्चो की आंखों में भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है.

सड़क की जगह पगडंडी पर चलने को मजबूर लोग

अगर सड़क की बात करें तो गांव तक पहुंचने के पगडंडीनुमा रास्ते में बड़े बड़े पत्थर हर रोज ग्रामीणों के सब्र का इम्तिहान लेते है. बड़ी मुश्किल से दोपहिया वाहन गांव तक पहुंच पाती है. ग्रामीण सोनेलाल देहरी,परमेश्वर देहरी,युधिष्ठिर देहरी,बुधन देहरी,बसु देहरी,देसाई देहरी,सीमा देवी,संगीता देवी,फुलमनी महारानी,लखन कुमार देहरी,रासमुनी रानी,लक्ष्मी रानी,बुधनी महारानी,फुलमनी महारानी,संगीता देवी,अक्लो देहरी,लखन कुमार देहरी सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि सड़क नहीं होने का दर्द हम लोगो से बेहतर कोई नहीं समझ सकता.

खराब सड़क की वजह से मरीजों को होती है परेशानी

सड़क न होने का दंश ग्रामीणों को इस कदर झेलना पड़ता है कि गंभीर स्वास्थ समस्या के वक्त मरीज को अगर अस्पताल ले जाना हो तो मरीज को खाट पर लाद कर डेढ़ से दो किलोमीटर दूर मुख्य सड़क तक ले जाना ही अंतिम विकल्प होता है. शादी ब्याह जैसे मौकों पर भी ग्रामीणों को शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है. सैकड़ों की आबादी पानी की हर जरूरत के लिए एक मात्र कुएं पर निर्भर है. वो कुआं भी बढ़ती गर्मी के साथ सूखता जाता है. एक मात्र कुएं से ग्रामीणों के लिए पानी की हर जरूरत पूरी नहीं हो पाती. बहरहाल,बड़ा सवाल यह होगा कि आजादी के अमृतकाल में भी मूलभूत समस्याओं के लिए तरस रहे यहां के ग्रामीणों को आखिर कब इन परेशानियों से निजात मिल पायेगा.

Also Read : दुमका जिले में नहीं पहुंचा अबतक धान बीज, लैम्पस की ओर से ड्राफ्ट भेजने में हुई देरी

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें