1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. ntpc is incurring crores of losses every day due to the agitation of the ryots the work remained closed for the fourth day srn

रैयतों के आंदोलन की वजह से एनटीपीसी को प्रतिदिन करोड़ों का हो रहा है नुकसान, चौथे दिन भी बंद रहा कार्य

रैयतों के आंदोलन के कारण एनटीपीसी परियोजना चौथे दिन गुरुवार को भी बंद रही. एनटीपीसी का काम पूरी तरह ठप है. मजदूर अपने गांव लौट रहे हैं.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Jharkhand News: 17 विद्यार्थी जेआरएफ  परीक्षा में सफल
Jharkhand News: 17 विद्यार्थी जेआरएफ परीक्षा में सफल
Prabhat Khabar

टंडवा : रैयतों के आंदोलन के कारण एनटीपीसी परियोजना चौथे दिन गुरुवार को भी बंद रही. एनटीपीसी का काम पूरी तरह ठप है. मजदूर अपने गांव लौट रहे हैं. बताया गया कि काम बंद होने के बाद मजदूरों को भुगतान नहीं किया जाता है, जिसे लेकर मजदूर लौट रहे हैं. पावर प्लांट निर्माण में पांच हजार से अधिक मजदूर काम करते हैं.

आंदोलन की वजह से परियोजना निर्माण पर ग्रहण लगता दिख रहा है, जिसकी चिंता एनटीपीसी प्रबंधन को सताने लगी है. मजदूरों के लौटने से पावर प्लांट निर्माण, टाउनशिप, डैम समेत सभी निर्माण कार्य प्रभावित है. एनटीपीसी यूनिट वन से 2022 के प्रथम तिमाही में उत्पादन का लक्ष्य रखा गया था. बंदी से पावर प्लांट का निर्माण कार्य कई माह पीछे चला जायेगा.

पावर प्लांट निर्माण में आंध्र प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, बिहार, ओड़िशा, पश्चिम बंगाल समेत कई प्रदेश के लोग काम करते हैं. इधर आंदोलनरत रैयतों का आमरण अनशन छठे दिन भी जारी रहा. अनशनकारी तिलेश्वर साव, अजीत नायक, महेश महतो व सुबाशो देवी के स्वास्थ्य की जांच की गयी. अनशनकारियों के रक्तचाप में उतार चढ़ाव हो रहा है. अनशनकारियोंको धरना स्थल पर ही स्लाइन चढ़ाया जा रहा है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें