1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. former naxalite coming out of chhat ghat by offering argh srn

Jharkhand news : अर्घ देकर छठ घाट से बाहर आ रहे पूर्व नक्सली की हत्या

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
chatra news : नक्सली संगठन पीएलएफआई ने अपने पूर्व सहयोगी पर मुखबिरी का आरोप लगा कर गोली मार कर की हत्या.
chatra news : नक्सली संगठन पीएलएफआई ने अपने पूर्व सहयोगी पर मुखबिरी का आरोप लगा कर गोली मार कर की हत्या.
प्रतीकात्मक तस्वीर

चतरा : सिमरिया थाना क्षेत्र के तपसा निवासी मुकेश गिरि (40 वर्ष) की शनिवार सुबह माओवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. घटना पत्थलगड्डा प्रखंड की सिंघानी पंचायत के सिनपुर टोला स्थित छठ घाट के पास हुई. घटना के वक्त मुकेश उदीयमान सूर्य को अर्घ देकर छठ घाट से बाहर आया था. वारदात के बाद माओवादी जंगल की ओर भाग निकले.

जाते-जाते माओवादियों ने वहां एक पर्चा छोड़ा, जिसमें मुकेश को पुलिस का मुखबिर बताया गया है. पुलिस के अनुसार मुकेश पूर्व में नक्सली था और कई मामलों में जेल भी जा चुका था. माओवादियों ने मुकेश को तीन गोलियां मारी थीं. दो गोलियां उसके सीने और एक गर्दन में लगी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया. वारदात की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और घायल मुकेश को सिमरिया रेफरल अस्पताल भेजा.

यहां उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे हजारीबाग सदर अस्पताल रेफर कर दिया. हालांकि, रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया. हजारीबाग सदर अस्पताल के चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. सदर अस्पताल में ही शव का पोस्टमार्टम किया गया. पोस्टमार्टम के बाद शव गांव पहुंचाwू. इस घटना से गांव में मातम के साथ-साथ दहशत का माहौल है. वहीं, मुकेश के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

गोलियों की आवाज सुन घाट पर मची अफरा-तफरी : परिजन के अनुसार, मुकेश ने छठ व्रत किया था और सिनपुर टोला स्थित छठ घाट पर अर्घ देने गया था. शनिवार सुबह उदीयमान सूर्य को अर्घ देकर जैसे ही वह छठ घाट से बाहर आया, वहां पहले से घात लगाये माओवादियों ने उसे पकड़ कर गोली मार दी. घाट पर मौजूद कई लोगों ने हत्या होते देखा.

ग्रामीणों ने गोली चलानेवालों को अपराधी बता कर पकड़ना चाहा, लेकिन बगल में कई लोग हथियार लिये खड़े थे, जिसे देखकर लोग डर गये. वहीं, गोली की आवाज सुनते ही छठ घाट पर अफरा-तफरी मच गयी. डर से कई लोग बिना अर्घ दिये घर वापस लौट गये. वारदात के बाद वहां से भाग रहे माओवादियों ने जो पर्चा छोड़ा है, उसमें मुकेश को पुलिस का एसपीओ (मुखबिर) बताया गया है. साथ ही लिखा है : एसपीओ बनाना बंद करो, भोली-भाली जनता को पुलिस मुखबिर बनाना बंद करो.

डीजीपी चतरा पहुंचे, पुलिस अधिकारियों के साथ की बैठक : वारदात की सूचना पाकर एसडीपीओ वचनदेव कुजूर, पत्थलगड्डा थाना प्रभारी निरंजन मिश्रा, शिला पिकेट प्रभारी रंजीत मंडल घटनास्थल पर पहुंचे और वहां से तीन खोखा बरामद किये. डीजीपी एमवी राव भी घटना की जानकारी लेने चतरा पहुंचे. यहां उन्होंने पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक कर माओवादियों के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि मुकेश गिरी पूर्व में नक्सली था और वह नक्सली मामलों में जेल जा चुका था.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें