1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. prabhat khabar impact tender for construction of bridge over bokaro river again risking life villagers can get relief by crossing river sam

प्रभात खबर इंपैक्ट : बोकारो नदी पर पुल निर्माण को लेकर निकला दोबारा टेंडर, जान जोखिम में डाल कर नदी पार करने से ग्रामीणों को मिल सकती है मुक्ति

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : बोकारो नदी पर पुल नहीं रहने से ग्रामीण जान जोखिम में डाल कर नदी पार करने को मजबूर होते हैं.
Jharkhand news : बोकारो नदी पर पुल नहीं रहने से ग्रामीण जान जोखिम में डाल कर नदी पार करने को मजबूर होते हैं.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Bokaro news : ललपनिया (नागेश्वर) : बोकारो जिला अंतर्गत गोमिया प्रखंड स्थित तिलैया पंचायत के ग्रामीणों को जान जोखिम में डाल कर बोकारो नदी पार करने से राहत मिलेगी. ग्रामीणों के लिए जल्द ही बोकारो नदी पर पुल बनेगा. इसके लिए टेंडर निकाला गया है. 15 जून, 2020 को प्रभात खबर में बोकारो नदी पर पुल की स्वीकृत के बाद भी नहीं बना पुल, पैदल नदी पार कर रहे हैं ग्रामीण संबंधी खबर प्रकाशित हुआ था. खबर छपने के बाद विभागीय स्तर पर इस मसले को संज्ञान में लेते हुए जांच- पड़ताल शुरू किये. इस दौरान बीते 2 सितंबर, 2020 को झारखंड राज्य ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण की ओर से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) के तहत विभाग द्वारा बोकारो नदी में 2 पुल निर्माण के लिए रि- टेंडर निकाला गया है.

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, बोकारो नदी में पुल का निर्माण को लेकर पीएमजीएसवाइ के तहत वित्तीय वर्ष 2018-19 में ही निविदा (Tender) निकाली गयी थी. इसके आलोक में पुल निर्माण को लेकर एक भी संवेदक की ओर से टेंडर नहीं डाला गया. विभाग के द्वारा निकाले गये निविदा पर संवेदकों का कहना है कि पुल निर्माण पर जिस प्रकार से प्राक्कलन बना है, उसकी राशि बहुत कम है. इसके कारण ही कोई संवेदक इस निविदा में शामिल नहीं हुए. प्रभात खबर में खबर प्रकाशित होने के बाद विभाग की ओर से दोबारा टेंडर निकाला गया है.

मालूम हो कि विभाग द्वारा बोकारो नदी पर एक ओर रेलवे पुल के पास एवं दूसरी ओर चोरपनिया के पास पुल का निर्माण होना है. क्षेत्र के ग्रामीण काफी लंबे समय से बोकारो नदी में पुल निर्माण को लेकर मांग कर रहे हैं. पुल निर्माण नहीं होने से एक दर्जन से अधिक गांव के ग्रामीणों को आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. कई बार तो नदी पार करने में ग्रामीणों को जानमाल की क्षति भी उठानी पड़ती है.

पुल नहीं रहने से एक दर्जन से अधिक गावों के ग्रामीणों का आवागमन प्रभावित हो रहा है. इसके तहत दनिया, मोढा,हलवैय, गयछंदवा, बिरहोर डेरा, असना पानी, लालगढ़, टूटी झरना, सरैयापानी आदि गांव हैं, जहां के ग्रामीणों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें