25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

40 डिग्री सेल्सियस के करीब फिर पहुंचा पारा

सीवान.चार दिन राहत के बाद लोगों को उमसभरी गर्मी का सामना रविवार को करना पड़ा.बुधवार की रात हुई बारिश से लोगों को गर्मी से कुछ राहत मिली थी.इस दौरान अधिकतम तापमान 36 व न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस था.रविवार को पारा एक बार फिर 40 के करीब पहुंच गया.

संवाददाता, सीवान.चार दिन राहत के बाद लोगों को उमसभरी गर्मी का सामना रविवार को करना पड़ा.बुधवार की रात हुई बारिश से लोगों को गर्मी से कुछ राहत मिली थी.इस दौरान अधिकतम तापमान 36 व न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस था.रविवार को पारा एक बार फिर 40 के करीब पहुंच गया. रविवार को अधिकतम तापमान 39 व न्यूनतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.आसमान में आंशिक बादल दिनभर छाए रहे.पुरवा हवा के प्रवाह से उमसभरी गर्मी ने सताया.सुबह होते ही तेज धूप लोगों को झुलसाने लगी.गर्मी इतना की सुबह नौ बजे ही दोपहर जैसा महसूस होने लगा. दिन चढ़ने के साथ गर्मी का पारा भी बढ़ता चला गया. नतीजा यह रहा कि बाजारों व प्रमुख मार्गों पर दिन में सन्नाटा रहा. बेहद जरूरी काम होने पर ही कुछ लोग अपने घर से बाहर निकले.सड़कों पर दिन में सिर्फ इक्का-दुक्का वाहन ही दिखाई पड़ रहे थे. दिन के साथ रात का तापमान भी लोगों को परेशान कर रहा है. जल्द ही गर्मी से राहत मिलने के आसार उमसभरी गर्मी का दंश झेल रहे जिलावासियों को जल्द ही मुक्ति मिलने वाली है.मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक दो से तीन दिनों में मानसून सक्रिय होगा.मौसम विशेषज्ञ डॉ. मनोज कुमार गिरी ने बताया कि चक्रवाती हवा के कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है.जिससे बंगाल की खाड़ी से आ रही पूर्वी हवाओं के प्रभाव से हल्की बारिश हुई. 24 से 26 जून तक मानसून सक्रिय होगा .हल्की से भारी बारिश होने की संभावना है.जून में औसतन 143 एमएम बारिश होती है.लेकिन इस बार जून में 70 एमएम की करीब बारिश हुई है.पिछले वर्षों की तुलना करें तो अबतक जून काफी गर्म रहा है.हालांकि मौसम विभाग ने आगामी चार-पांच दिन बारिश के लिए अनुकूल बताया है. बदलते मौसम में बढ़ रहे आइ फ्लू के मरीज बदलते मौसम में आई फ्लू के मरीज बढ़ रहे है.गर्मी व पसीने के कारण आंखों में लालिमा और इंफेक्शन की समस्या को लेकर मरीजआ रहे है. कुछ लोगों के आंखों में सूजन की भी रह रही है.डॉक्टरों का कहना है कि मौसम में बदलाव के चलते आई फ्लू की समस्या बढ़ रही है.इसके लिए लोगों को बचाव करने की आवश्यकता है.बार-बार आंखों पर हाथ जाने के कारण आंखों में इंफेक्शन हो जा रहा है. ऐसे मौसम में बच्चों और बुजुर्गों का सबसे ज्यादा ख्याल रखने की जरूरत है. इम्यूनिटी कम होने के कारण इन्हें इंफेक्शन व एलर्जी की संभावना ज्यादा होती है.डॉ. संजय गिरी ने बताया कि गर्मियों में आंखों में कंजक्टिवाइटिस की समस्या बढ़ जाती है. आंखों में रेडनेस और दाने इसके आम लक्षण हैं. इसके लिए बचाव और मरीजों को अन्य से दूरी बनाने की सलाह दिया जाता है. मरीजों को दर्द से राहत पाने के लिए एंटीबायोटिक या स्टेरॉयड वाले ड्रॉप बिना डॉक्टर की सलाह के इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. इन ड्रॉप्स का इस्तेमाल करने से मरीजों को दर्द से राहत मिल जाता है.इससे आंखों की रोशनी जाने का डर रहता है.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें