34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Advertisement

फैसल रहमानी बने इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर, बड़े अंतर से जीते चुनाव

इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर के लिए हुए चुनाव का परिणाम घोषित कर दिया गया है. बिहार-झारखंड और ओडिशा के मुस्लिम समुदाय के सबसे बड़े एदारा इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर के रूप में बिहार के फैसल रहमानी चुने गये हैं.

पटना. इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर के लिए हुए चुनाव का परिणाम घोषित कर दिया गया है. बिहार-झारखंड और ओडिशा के मुस्लिम समुदाय के सबसे बड़े एदारा इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर के रूप में बिहार के फैसल रहमानी चुने गये हैं. रहमानी मुंगेर के रहनेवाले हैं. फैसल रहमानी सातवें अमीर-ए-शरिया मौलाना वली रहमानी के साहबजादे हैं. रहमानी मुंगेर के खानकाह से तालुकात रखते हैं.

आठवें अमीर-ए-शरिया के लिए हुए चुनाव में 347 वोटों से फैसल ने जीत दर्ज की. वैसे अमीर का चुनाव आम सहमति से होना था, लेकिन दो लोगों की दावेदारी से अमीर के चुनाव के लिए मतदान की नौबत आ गयी. लिहाजा, मतदान हुआ.

वैसे तो पांच उम्मीदवार थे, लेकिन दो ही मौजूद रहे. तीन ने नाम वापस ले लिया. दो उम्मीदवारों में अहमद वली फैसल रहमानी और अनिसुर रहमान कासमी के लिए वोटिंग की गई.

चुनाव में बिहार-झारखंड-ओडिशा और पश्चिम बंगाल समेत अन्य राज्यों के कुल 851 अरबाब-ए-हल्ल-ओ-अकद व उलमा शामिल हुए.

कड़ी सुरक्षा के बीच हुए मतदान में सभी ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. मतदान के दौरान बिहार पुलिस, रेपिड एक्शन फोर्स, क्यूआरटी, दंडाधिकारी, बज्र वाहन, फायर ब्रिगेड समेत वरीय अधिकारी मौजूद रहे.

जानकारी मुताबिक अधिकांश अरबाब-ए-हल्ल-ओ-अकद व उलमा पहले से ही अहमद वली फैसल रहमानी के पक्ष में थे. सर्व सहमति से अमीर की घोषणा का अंतिम समय तक प्रयास किया गया. इससके बाद मतदान प्रक्रिया में सभी को भाग लेना पड़ा.

कौन हैं फैसल रहमानी?
Undefined
फैसल रहमानी बने इमारत-ए-शरिया के आठवें अमीर, बड़े अंतर से जीते चुनाव 2
  • फैसल रहमानी सातवें अमीर-ए-शरिया मौलाना वली रहमानी के साहबजादे हैं.

  • अहमद वली फैसल रहमानी अमेरिका के कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से आईटी में कॉलेज टॉपर हैं.

  • इसी यूनिवर्सिटी में लेक्चरर भी रह चुके हैं.

  • कई मल्टीनेशनल कंपनियों में बड़े ओहदे पर भी रह चुके हैं.

  • फैसल अरबी, अंग्रेजी के साथ दीनी दुनियावी तालीम दोनों में योग्यता रखते हैं.

मौलाना अनीसुर्रहमान कासमी को मिले 196 मत

इमारत शरिया के अमीर के लिए पहला मौका रहा, जब मतदान कराने की नौबत आ गयी. मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी को 347 और मौलाना अनीसुर्रहमान कासमी को मिले 196 मत मिले. इस चुनाव में पांच उम्मीदवार नए अमीर ए शरीयत के लिए सामने आए थे, जिनमें मौलाना सैफुल्लाह रहमानी , मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी,मौलाना अनीसुर्रहमान कासमी , नायब अमीर ए शरीयत मौलाना शमशाद रहमानी और मौलाना नजरे तौहीद का नाम था.

पहले मौलाना शमशाद रहमानी और मौलाना नजरे तौहीद ने अपना नाम वापस लिया उसके बाद मौलाना सैफुल्लाह रहमानी ने भी चुनाव में शिरकत करने से इनकार करते हुए चुनावी मैदान से हट गए. अमीर के चुनाव में वोटिंग करने वाले 851 शूरा के सदस्यों में करीब 543 सदस्य ही उपस्थित हो पाए थे.

दोपहर दो बजे से सदस्यों ने अपने अपने मताधिकार का प्रयोग करना शुरू किया. इसी दौरान कई सदस्य अमीर के चुनाव का बहिष्कार करते हुए बगैर मताधिकार का प्रयोग कर सभा स्थल से बाहर निकल गए. मत देने का सिलसिला करीब तीन घण्टो तक शाम पांच बजे तक चला. शाम करीब छह बजे इमारत-ए-शरिया बिहार, झारखंड व उड़ीसा के नए और आठवें अमीर-ए-शरियत मौलाना अहमद वली फैसल रहमानी को चुन लिये जाने के एलान किया गया.

गौरवशाली परम्परा को आगे बढ़ाएंगे: रहमानी

मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी शनिवार को बिहार झारखंड ओडिशा के मुसलमानों की सबसे बड़ी एदारा इमारत ए शरिया के नये और आठवें अमीर ए शरीयत चुन लिये जाने के बाद नए अमीर ए शरीयत अहमद फैसल वली रहमानी को सुरक्षा की दृष्टि से फोर्स ने अपने घेरे में ले लिया. समर्थकों के भारी हुजूम और जोशपूर्ण नारेबाजी के बीच अमीर ए शरीयत मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी इमारत शरिया मुख्यालय पहुंचे.

वहां नायब अमीर ए शरीयत मौलाना शमशाद रहमानी, कार्रवाहक नाजिम मौलाना शिबली अल कासमी , मौलाना फहद रहमानी सहित अन्य ने गर्मजोशी से स्वागत किया. इमारत शरिया मुख्यालय में उमड़ी भारी भीड़ को सम्बोधित करते हुए नए अमीर ए शरीयत मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी ने सभी लोगो का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा कि इमारत शरिया के गौरवमयी परम्परा को सभालने की बड़ी जिम्मेदारी मिली है.

इमारत शरिया शुरू से ही मुल्क और समाज की तरक्की में भागीदारी निभाता आया है. शिक्षा स्वास्थ्य और हर क्षेत्र में आम अवाम की तरक्की की बुनियाद को मजबूत करने का काम जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि उनसे पहले रहे सभी अमीर ए शरीयत के कार्यों बढाते रहेंगे. उनके विचारो आदर्शो और बताये मार्गो पर अमल किया जायेगा ताकि इमारत शरिया की गौरवशाली परम्परा को कायम रखा जा सके.

इनपुट – अजीत, फुलवारी

Posted by Ashish Jha

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें