1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. controversy of rs 4100 crore of pension fund between bihar and jharkhand news skt

अलग होने के 21 साल बाद भी झारखण्ड पर 4100 करोड़ का बकाया, जानें बिहार किस राशि को लेकर कर रहा दावा

बिहार और झारखण्ड के बीच अभी तक पेंशनर की राशि के बंटवारे का विवाद पड़ा ही हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दोनों राज्यों को मिलकर मामले को सुलझा लेने के लिए कहा है. जानिये क्या है विवाद..

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट
File Photo

बिहार और झारखंड का बंटवारा हुए 21 साल हो गये, लेकिन अभी तक दोनों राज्यों के बीच पेंशनरों को देने वाली राशि के बंटवारा का मामला नहीं सुलझा है. बिहार ने झारखंड पर चार हजार 100 करोड़ रुपये का बकाया का दावा कर रखा है. यह राशि बिहार को अब तक नहीं मिली है.

सुप्रीम कोर्ट में मामला

सुप्रीम कोर्ट ने दोनों राज्यों को केंद्र की मध्यस्थता से इस मसले का हल निकालने को कह रखा है. सोमवार को मुख्य सचिव आमिर सुबहानी की अध्यक्षता में झारखंड के मुख्य सचिव और केंद्र सरकार के वित्त एवं गृह विभाग के आला अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक हुई.

ऐसे निकलेगा हल

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि दोनों राज्यों के एजी (महालेखाकार) फिर से इसकी पड़ताल करेंगे कि पेंशनरों की संख्या कितनी है और बिहार को इस आधार पर कितने रुपये मिलने चाहिए. एक महीने बाद इस मसले को लेकर फिर से बैठक होगी. इस मौके पर वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ एस सिद्धार्थ ने बिहार की तरफ से दावेदारी प्रस्तुत की और राज्य को उसका बकाया दिलाने के लिए केंद्र से आग्रह किया.

यह है बिहार और झारखंड के बीच का पूरा विवाद

15 नवंबर, 2000 से पहले जो कर्मी वर्तमान में झारखंड के इलाके से (पूर्व में संयुक्त बिहार) रिटायर्ड हुए थे, उनकी पेंशन बिहार और झारखंड सरकार दोनों को संयुक्त रूप से देनी थी. पेंशन राशि में दो हिस्सा बिहार और एक हिस्सा झारखंड को देना था, परंतु झारखंड ने इस मद में कोई राशि अब तक नहीं दी. अब यह बकाया बढ़ कर चार हजार 100 करोड़ रुपये हो गया है. 15 नवंबर , 2000 के बाद रिटायर्ड हुए सरकारी कर्मियों के लिए यह लागू नहीं होता है.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें