26.1 C
Ranchi
Tuesday, February 27, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

पुलिस रेडियो बिल्डिंग में बन सकता है इआरएसएस का मुख्यालय

अनुज शर्मा, पटना : राज्यवासियों को किसी भी आफत में फंस जाने पर मदद के लिए अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं होगी. कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह की आपात स्थिति में फंस जाये तो वह 112 नंबर पर कॉल कर मदद मांग सके इसके लिए इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम (इआरएसएस) की स्थापना […]

अनुज शर्मा, पटना : राज्यवासियों को किसी भी आफत में फंस जाने पर मदद के लिए अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं होगी. कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह की आपात स्थिति में फंस जाये तो वह 112 नंबर पर कॉल कर मदद मांग सके इसके लिए इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम (इआरएसएस) की स्थापना की जा रही है.

पुलिस मुख्यालय ने इसके लिए पांच जगहों को चिह्नित कर अपर मुख्य सचिव के यहां रिपोर्ट भेज दी है. इसकी स्थापना पुलिस रेडियो बिल्डिंग में हो सकती है. अब सरकार के स्तर पर तय होना है कि पुलिस मुख्यालय द्वारा सुझाये गये पांच स्थानों में से किसे सबसे अधिक उपयुक्त मानती है. डीजीपी भी इसको लेकर बैठक कर चुके हैं.
एडीजी आधुनिकीकरण ने छह जनवरी, 2020 को इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम के लिए पटना की उन सात जगहों का मौका मुआयना किया था जहां इसकी स्थापना हो सकती है. सात जनवरी को गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी को भेजी रिपोर्ट के साथ इन जगहों के मानचित्र तक भेजे हैं.
सांईं काॅम्प्लेक्स और बिस्कोमान में भी किराये पर जगह उपलब्ध है. रिपोर्ट में पुलिस रेडियो बिल्डिंग को उपयुक्त बताते हुए जरूरत के अनुसार इसमें बदलाव की इजाजत की मांग की है. राजीव नगर में हाउसिंग बोर्ड की खाली पड़ी जगह को भी उपयुक्त बताया है. हालांकि, यहां जमीन के रेट तीस लाख रुपये प्रति डिसिमल है.
पुलिस करेगी सभी कॉल की निगरानी
एडीजी आधुनि- कीकरण ने सात जगहों का किया था दौरा
डीजीपी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद गृह विभाग को मानचित्र के साथ भेजी रिपोर्ट
पांच अन्य जगहों की भी सिफारिश
इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम पर मदद के लिए आने वाली सभी कॉल की निगरानी पुलिस करेगी. इसके लिए राज्य स्तर पर अलग से कंट्रोल रूम बनाया जा रहा है. इसको तत्काल मदद उपलब्ध कराने के लिए डिजाइन किया गया है.
इमरजेंसी रिस्पांस सेंटर्स पर मदद मांगने वाले को उसी जिले के डिस्ट्रिक्ट कमांड सेंटर (डीसीसी) से सहायता के लिए गाड़ी अथवा चिकित्सा सुविधा देने की व्यवस्था की जायेगी.
लोग इस तरह ले सकेंगे मदद
यदि किसी को मदद की जरूरत है तो उस व्यक्ति को 112 नंबर डायल करना होगा. यदि 112 डायल नहीं कर सकते हैं तो स्मार्ट फोन में मौजूद पावर बटन को दबाकर भी मदद ली जा सकती है. साधारण फोन रखने वाले व्यक्ति को इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम से मदद लेने के लिए पांच या नौ नंबर दबाना होगा. इआरएसएस की अपनी वेबसाइट और ऐप भी होगा.
You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें