पटना : गुरु पूर्णिमा पर छुट्टी मांगने पर सीएम बोले, गुरु की पूजा का मतलब दो घंटे अधिक काम करें

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : गुरु पूर्णिमा पर सरकारी छुट्टी नहीं होगी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को कहा कि गुरु की पूजा का मतलब यह नहीं है कि छुट्टी मनाएं.

गुरु की पूजा का मतलब है कि दो घंटे अधिक काम करें. विधान परिषद की कार्यवाही के दौरान जदयू के सदस्यों ने गुरु पूर्णिमा पर राजकीय अवकाश घोषित कराने की मांग की, तो मुख्यमंत्री ने सख्त लहजे में कहा कि कोई पूजा के नाम पर छुट्टी नहीं मांगें. जिम्मेदारी से अपने दायित्व का निर्वहण करें.

जदयू के डॉ संजीव कुमार सिंह ने गुरु पूर्णिमा को राजकीय स्तर पर आयोजित करने और इस दिन राजकीय अवकाश घोषित करने के संबंध में ध्यानाकर्षण लाया था. सरकार की ओर से प्रभारी मंत्री विजेंद्र यादव ने जवाब दिया कि छुट्टी का प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है.
इस पर जदयू के डाॅ रणवीर नंदन गुरु महिमा का बखान करते हुए गुरु की पूजा के लिए छुट्टी के पक्ष में अपने तर्क दे रहे थे. इसी बीच मुख्यमंत्री भी सदन में आ गये. रणवीर नंदन बैठ भी नहीं पाये थे कि सीएम खड़े हो गये. छुट्टी की मांग करने वालों की ओर देखते हुए बोले- हम सुन रहे थे, यही है गुरु की पूजा, गुरु की पूजा यही है कि छुट्टी मांगे. यह गुरु की पूजा नहीं है.
इतने पर्व हैं, सब पर छुट्टी हो जाये तो फिर काम क्या होगा? गुरु ने क्या यह सिखाया है कि गुरु के लिए घर बैठे रहो, कोई काम नहीं करो. गुरुओं ने सभी काे काम करने के लिए प्रेरित किया है. पूजा-पाठ को लेकर सीएम ने कहा कि यह तो अपना-अपना कर्तव्य है. शिक्षक क्लास न लें ताे गुरु-शिष्य का रिश्ता कैसे रहेगा? गुरु की पूजा करें, लेकिन उनकी बात नहीं मानें तो यह गुरु की पूजा नहीं हुई.
सीएम ने पूछा, ये कौन पुजारी हैं, जो गुरु की पूजा के लिए छुट्टी मांग रहे हैं? सही पुजारी तो वही है जो काम के लिए और भी प्रेरित हों और खूब काम करें. गुरु पूर्णिमा की जो सबसे बड़ी प्रेरणा है कि आप खूब काम कीजिए. खूब सेवा कीजिए. छुट्टी क्यों मांग रहे हैं, काम दो घंटे समय बढ़ा दीजिए, ताकि और प्रेरणा मिले.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें