इधर, झंझारपुर में कमला नदी खतरे के निशान से ऊपर

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

झंझारपुर : कमला नदी खतरे के निशान से 10 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है. बारिश के कारण नेपाल के तराई व जल अधिग्रहण क्षेत्र से जिले की नदियों में लगातार पानी छोड़ा जा रहा है. बीते कई दिनों से भूतही बलान, कोसी व कमला नदियों के जलस्तर में उतार-चढ़ाव जारी है. इधर, बुधवार को हुई बारिश के बाद झंझारपुर से होकर बह रही कमला नदी के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी होने लगी, जो दोपहर तक खतरे के निशान

इधर, झंझारपुर में
को पार कर गयी. जलस्तर बढ़ने से बांध पर पानी का दबाव भी लगातार बढ़ रहा है.
इधर, नदी में पानी बढ़ने के कारण कई जगहों से निचले इलाकों में भी पानी फैल गया है. इससे बाढ़ की आशंका बढ़ती जा रही है. लोग एहतियात बरतते हुए अभी से ही सुरक्षित स्थलों की तलाश में लगे हैं. हालांकि, अनुमंडल प्रशासन व बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल लगातार स्थिति पर नजर रख रहे हैं. कमजोर बिंदुओं को चिह्नित कर उस स्थल पर विशेष रूप से सतर्कता बरती जा रही है.
मधेपुर के निचले इलाकों में भरा पानी
मधेपुर के कई निचले इलाकों में भी पानी जमा है. दर्जनों गांवों के लोग पानी से घिर गये हैं. हालांकि, कहीं से भी किसी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. बाढ़ नियंत्रण विभाग के अधिकारी योगेंद्र कुमार ने बताया कि झंझारपुर स्थित कमला नदी का जलस्तर खतरे निशान से ऊपर जरूर बह रहा है, लेकिन स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है. उन्होंने कहा कि तटबंध की निगरानी की जा रही है. बता दें कि झंझारपुर आरएस स्थित कमला नदी पर बने रेल सह सड़क पुल पर विभाग ने निशान का पिलर बनाया है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें