29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

बरहीमा में स्कॉर्पियो ने साइकिल सवार बच्चे को रौंदा, मौत पर भड़के लोगों ने किया बवाल

थाना क्षेत्र के बारहीमा एनएच 27 पर बुधवार के 12:30 बजे गोपालगंज की तरफ से आ रही तेज रफ्तार स्कॉर्पियो ने साइकिल सवार को रौंद दिया. इससे साइकिल सवार बच्चे की मौत हो गयी.

सिधवलिया. थाना क्षेत्र के बारहीमा एनएच 27 पर बुधवार के 12:30 बजे गोपालगंज की तरफ से आ रही तेज रफ्तार स्कॉर्पियो ने साइकिल सवार को रौंद दिया. इससे साइकिल सवार बच्चे की मौत हो गयी. मृतक नागेंद्र महतो का 12 वर्षीय पुत्र सिंधु कुमार है. घटना से उग्र भीड़ ने सड़क को जमकर एक्सीडेंट वाली स्कॉर्पियो को हाइवे पर पलट कर लाठी-डंडे से तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया. घटना की खबर मिलने पर पुलिस की 112 डायल टीम ने मौके पर पहुंच कर स्कॉर्पियो ड्राइवर को हिरासत में ले लिया. इस दौरान वीडियो बना रहे कुछ यात्रियों व राहगीरों की भीड़ के द्वारा पिटाई की गयी. बच्चा सामान खरीद कर साइकिल से घर के पास से महज 800 मीटर की दूरी पर था. उसी दौरान एक्सीडेंट में मौत हो गयी. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि स्कॉर्पियो की रफ्तार इतनी तेज थी कि बरहीमा एनएच 27 किनारे चौक के पास खड़ी पुरानी गाड़ियों भी जबर्दस्त टक्कर मार दी. इससे एक मैजिक, दो स्कॉर्पियो पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयी. वहीं एक बोलेरो में टक्कर मारी, जिससे वह घर के अंदर जा घुसी. इससे बिल्डिंग भी क्षतिग्रस्त हो गयी. घटना की सूचना पर एसडीपीओ के आदेश पर पहुंची महम्मदपुर और सिधवलिया थाने की पुलिस भीड़ को समझा-बुझाकर थानाध्यक्ष हरेराम कुमार के द्वारा शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया. क्षतिग्रस्त स्कॉर्पियो को क्रेन की मदद से हटाया गया. सिधवलिया पुलिस जब्त कर थाने ले गयी. घंटों बाद हाइवे पर परिचालन शुरू हो सका. एनएच-27 पर एक घंटा तक जाम रहा. इससे गाड़ियों की लंबी कतार लग गयी. दिल्ली, पंजाब, गोरखपुर, रक्सौल, लुधियाना, असम, बेतिया, मुजफ्फरपुर, छपरा और सीवान की गाड़ियों की लंबी कतार लगी रही. लू भरी गर्मी से यात्री जहां परेशान दिखे, तो वही एंबुलेंस भी फंसी रही. बरहीमा से लेकर महम्मदपुर तक जाम लगा हुआ था. वहीं पोस्टमार्टम के बाद घर पर जब शव पहुंचा, तो परिजनों में चीत्कार मच गया. बेटे की मौत का सदमा मां कृष्णावती देवी बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी. रो-रोकर सड़क पर ही बेहोश हो गयी. मृतक दो भाई थे. छोटा भाई आठ वर्षीय सिद्धांत कुमार घटना को समझ नहीं पा रहा था. परिवार के लोगों को समझाने के लिए इलाके के प्रबुद्ध लोगों की भीड़ रही.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें