25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

नगर निगम : आधार कार्ड बनाने का काम शुरू, सुविधा के साथ लोगों ने महसूस किया तकलीफ

मंगलवार से नगर निगम में आधार कार्ड बनाने का काम शुरू हाे गया है.

मेयर डाॅ बसुंधरा लाल ने कहा- वहां पर एक शेड बनाने का निर्देश देंगे, लाेगाें काे धूप में नहीं होगी परेशानीवरीय संवाददाता, भागलपुरमंगलवार से नगर निगम में आधार कार्ड बनाने का काम शुरू हाे गया है. इससे आधार कार्ड बनवाने या सुधार कराने की सुविधा अगर मिलने लगी है, तो साथ में तकलीफ होने लगा है. आधार केंद्र का संचालन अपरिहार्य कराण बताकर बंद रखा गया था. इधर, यहां भीड़ हद से ज्यादा जुटने लगी है और छोटे से जगह में इसका संचालन पूर्व की तरह शुरू किया है. पूरे दिन लोगों के लिए आपाधापी की स्थिति बनी रही. तेज धूप में अपने बच्चाें के साथ आये लाेग आधार कार्ड बनवाने में परेशान रहे. काउंटर पर छांव की व्यवस्था नहीं है, इसके चलते लाेगाें काे धूप में ही खड़े हाेकर अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा. तेज धूप में जब बच्चाें काे परेशानी हाेेने लगी ताे महिलाएं सिटी मैनेजर व काेषागार के पास ही जमीन पर बैठ गयी. कुछ महिलाएं सिटी मैनेजर की जहां गाड़ी पार्क हाेती है, उस पाेर्टिकाें में बैठ गयी. इस बीच एक बच्चे काे सभागार के बगल में जमीन पर ही सुला दिया, जबकि बगल में तेज धूप से लाेगाें काे परेशानी हाे रही थी. चूंकि उस महिला के साथ और काेई नहीं था, इस वजह से बच्चे काे लेकर धूप में जाने के बजाए सभागार के बगल में ही लेटाकर चली गयी थी. वहीं, निगम के अधिकारी और कर्मचारी आते-जाते रहे लेकिन, उन लोगों की इस हालत पर कोई ध्यान नहीं दिया. मेयर डाॅ बसुंधरा लाल ने कहा है कि वहां पर एक शेड बनाने का निर्देश देंगे, ताकि लाेगाें काे धूप में परेशानी न हाे सके.

दिगम्बर जैन मन्दिर में श्रुत पंचमी पर्व भक्ति भाव से मनाया गया

कोतवाली स्थित श्री दिगम्बर जैन मन्दिर में श्रुत पंचमी पर्व भक्ति भाव से मनाया गया. सुबह करीब छह बजे मंगल मंत्र पाठ हुआ. श्रुत स्कंध का अभिषेक किया गया. इस अवसर पर श्री दिगंबर जैन मंदिर से शोभायात्रा निकाली गयी. इसमें पुरुष और महिलाएं स्तुति गाते हुए मस्तक पर ग्रंथ रख चल रही थी.शोभा यात्रा मारवाड़ी टोला लेन से कोतवाली चौक, डॉ राजेंद्र प्रसाद रोड होते हुए वापस कोतवाली चौक जैन मंदिर पहुंची. पंडित जागेश शास्त्री ने बताया कि श्रुत पंचमी ज्ञान की आराधना का महान पर्व है. भगवान महावीर के अहिंसा दर्शन को मंगलवार से 2000 वर्ष पहले लिखित ग्रंथ के रूप में पहली बार प्रस्तुत किया गया. इससे पूर्व लिखने की परंपरा नहीं थी उसे सुनकर ही स्मरण किया जाता था. इसलिए उसका नाम श्रुत था. आज के दिन श्रुत परंपरा लिपिबद्ध परंपरा के रूप में षटखंडागम नामक ग्रंथ सामने आया. श्रुत पंचमी यानी ज्ञान अमृत पर्व है. दुर्लभ ग्रंथ की शुरुआत का पर्व श्रुत पंचमी है. संतों की वाणी पढ़ने सुनने की प्रेरणा देने का पर्व श्रुत पंचमी है. सद्भाव बिना समरसता संभव ही नही है. ग्रंथ शांतिदाता है. अच्छा बनने के लिए सबसे पहले अच्छा अध्यन चाहिये. ज्ञानियों का समागम सौभाग्य है.शांति धारा सुमंत राजेश पाटनी और प्रथम अभिषेक निर्मल विकास पाटनी ने किया. इस अवसर पर सिद्ध क्षेत्र मंत्री सुनील जैन, विजय रारा,पदम पाटनी शंकर लाल जैन, पवन गंगवाल, नरेश काला मनोज पाटनी, संजय गंगवाल ,राजीव पाटनी, सज्जन विनायका, सुमित बड़जात्या, अजय पाटनी, सिद्धार्थ विनायका व अन्य थे.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें