1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. srijan scam ed special departmental court order issued seven flats and six shops of 10 accused seized in ghaziabad asj

सृजन घोटाला: ED की विशेष विभागीय अदालत का आदेश जारी, गाजियाबाद में 10 आरोपितों के सात फ्लैट और छह दुकानें जब्त

इडी ने सृजन घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है. इसके अंतर्गत यूपी के गाजियाबाद में मौजूद करीब 10 प्रमुख आरोपितों के सात फ्लैट और छह दुकानों को अंतिम रूप से जब्त कर लिया है. इन अभियुक्तों की फेहरिस्त में भारती ठाकुर भी शामिल हैं, जो एक प्रशासनिक अधिकारी की पत्नी बतायी जा रही हैं.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सृजन
सृजन
फाइल

पटना. इडी ने सृजन घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है. इसके अंतर्गत यूपी के गाजियाबाद में मौजूद करीब 10 प्रमुख आरोपितों के सात फ्लैट और छह दुकानों को अंतिम रूप से जब्त कर लिया है. इन अभियुक्तों की फेहरिस्त में भारती ठाकुर भी शामिल हैं, जो एक प्रशासनिक अधिकारी की पत्नी बतायी जा रही हैं.

ये प्रशासनिक अधिकारी सबौर के सीओ, भागलपुर के जिला पंचायती राज पदाधिकारी व जमुई के डीडीसी रह चुके हैं. इडी की नयी दिल्‍ली स्थित एजुकेटिंग अथॉरिटी (विशेष विभागीय अदालत) के स्तर से इस संबंध में विस्तृत आदेश जारी कर दिया गया है.

ये सभी सात फ्लैट गाजियाबाद की सबसे लग्जरी अपार्टमेंट कॉलोनी गार्डेनिया के अलग-अलग लोकेशन यानी फेज-1 या 2 में मौजूद हैं. इसमें एक फ्लैट का वर्तमान बाजार मूल्य दो से ढाई करोड़ रुपये है. कुछ फ्लैट की कीमत इससे भी ज्यादा है.

ये सभी फ्लैट सृजन घोटाले के सभी प्रमुख आरोपित या उनकी पत्नियों के नाम से हैं. इसके अलावा जो दुकानें जब्त की गयी हैं, वे भी इसी गार्डेनिया सोसाइटी या इसके आसपास ही मौजूद हैं. दुकानों को भी कई आरोपितों ने अपनी-अपनी पत्नी के नाम पर बुक करा रखा है.

2018 में इडी ने शुरू की थी जांच

इन संपत्तियों को इडी ने शुरुआती स्तर पर इसी वर्ष जब्त किया था. इसके बाद यह मामला इडी की एजुकेटिंग अथॉरिटी में चला गया. वहां से अंतिम स्तर पर इन्हें जब्त करने का फैसला आ गया है. सीबीआइ की दर्ज एफआइआर के आधार पर इडी ने 2018 में इसीआइआर (इन्फोर्समेंट केस इन्वेस्टीगेशन रिपोर्ट) दर्ज कर सृजन घोटाले की जांच शुरू कर दी है. इस मामले में इडी पीएमएलए से जुड़े सभी पहलुओं की खासतौर से जांच कर रही है.

इनके नाम से थे ये फ्लैट और दुकानें

दिवंगत मनोरमा देवी के पुत्र अमित कुमार व बहू रजनी प्रिया, आस्था लाल (पुत्री सीमा कुमारी), डॉ. प्रणव कुमार, डॉ अमिना बानो अंसारी, भारती ठाकुर, रूबी कुमारी (पति बिपिन कुमार ) व अन्य.

सृजन समिति के नाम खरीदी हुई थी एक दुकान

इस गार्डेनिया सोसाइटी के फेज-2 में दो नंबर की एक दुकान है, जो सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड के नाम से खरीदी गयी थी. इसे भी जब्त कर लिया गया है. फिलहाल इस सोसाइटी में सृजन घोटाले से जुड़े कुछ अन्य आरोपितों के नाम पर भी फ्लैट होने का पता चला है. इसकी जांच चल रही है. जल्द ही कुछ अन्य फ्लैटों और दुकानों के बारे में भी जानकारी मिल जायेगी, जिसे सृजन घोटाले के पैसे से यहां खरीदा गया है.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें