1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. 73 new corona positive found in bhagalpur district 54 dead so far asj

भागलपुर जिले में मिले 73 नये कोरोना पॉजिटिव,अब तक 54 लोगों की मौत

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कोरोना
कोरोना

भागलपुर : राज्य स्वास्थ्य समिति की ओर से जारी सूची में रविवार को कुल 73 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. इसमें शहर के 18 लोग कोरोना संक्रमण का शिकार हो गये हैं. दो परिवार के छह लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. इसके साथ ही जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6577 हो गयी है. अब तक कोरोना से 54 लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना से 5900 लोग ठीक हो चुके हैं. अभी जिले में कोरोना एक्टिव मरीज की संख्या 624 है. सिविल सर्जन डॉ विजय सिंह ने बताया जिले में 73 लोग पॉजिटिव पाये गये हैं.

तीन परिवार के आठ लोग कोरोना पॉजिटिव

10 सितंबर को सदर अस्पताल में कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया था. रिपोर्ट में छोटी खंजरपुर के एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमण का शिकार हो गये हैं. तिलकामांझी इलाके की 45 साल की महिला अपने 15 साल की बेटी के साथ कोरोना संक्रमण का शिकार हो गयी है. खलीफाबाग के 22 साल का युवक, एक निजी संस्थान में कार्यरत 44 साल का अधेड़, मुंदीचक का 40 साल का युवक और इसी के परिवार की 38 साल की महिला कोरोना पॉजिटिव पायी गयी है. मोर्य नगर के 45 साल के अधेड़, सदर अस्पताल में कार्यरत 32 साल का युवक और मुंदीचक में के 66 साल के बुजुर्ग कोरोना संक्रमण का शिकार हो गये हैं.

सदर अस्पताल में एंटीजन जांच में मिले पॉजिटिव

सदर अस्पताल में एंटीजन रैपिड किट से जांच में चार लोग शहरी क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का शिकार हुए हैं. इसमें एक अपार्टमेंट का 47 साल का अधेड़, मुंदीचक का 48 साल के अधेड़ और 29 साल का युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. गोशाला रोड के 29 साल का युवक भी संक्रमण का शिकार हो गया है. अब तक पुलिस लाइन और जेल में कोरोना पॉजिटिव मिले हैं. रविवार को हुई जांच में मोजाहिदपुर थाना में तैनात 44 साल का दारोगा कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. इसके अलावा सैंडिस कंपाउंड में स्मार्ट सिटी का काम करा रहे एक 37 साल का कर्मी कोरोना संक्रमण का शिकार हो गये हैं.

सीसीसी में हो रहा लाखों खर्च, पर मरीज बना रहे दूरी

कोविड केयर सेंटर घंटाघर को कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए तैयार किया गया है. एक साथ यहां 600 मरीजों को रखने की व्यवस्था सरकार ने की है. स्वास्थ्य विभाग के 20 से ज्यादा कर्मी यहां लगातार काम कर रहे हैं. आउटसोर्स एजेंसी के 30 लोग लगातार मरीजों के लिए तैनात हैं. यह सारी व्यवस्था धीरे-धीरे सिमट रही है. यहां अभी मात्र पांच कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं, जबकि जिले में होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की संख्या 600 से ज्यादा है. सवाल है कि जिस मरीज के लिए यह सेवा उपलब्ध करायी गयी, वही इसका लाभ नहीं लेना चाह रहे हैं.

20 हजार से ज्यादा रोज का खर्च

सीसीसी सेंटर में कम से कम 20 हजार रुपये प्रति दिन का खर्च आ रहा है. केंद्र प्रभारी डॉ नीरज कुमार गुप्ता कहते हैं कि कोरोना पॉजिटिव होने के बाद लोग यहां बांड भर होम आइसोलेशन में जाते हैं. रोजाना मरीज मिल रहे हैं, लेकिन भर्ती एक-दो ही हो रहे हैं.

कोरोना पॉजिटिव के नियम में सख्ती की जरूरत

कोरोना पॉजिटिव मरीज जिनकी उम्र 50 साल से ज्यादा है, उनको सीसीसी में रखने का निर्देश मुख्यालय ने दिया था. पूरा मामला ठंडे बक्से में चला गया. एक भी मरीज जो होम आइसोलेशन में थे और उम्र 50 से ज्यादा था उनको सीसीसी में नहीं लाया गया. इससे यहां मरीज धीरे-धीरे कम हो गये.

posted by ashish jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें